सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने पूछा, 'क्यों स्वीकार किया 6 विधायकों का इस्तीफा'

मध्य प्रदेश के राजनीतिक संकट पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है. सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस के वकील अभिषेक मनु सिंधवी को फटकार लगाते हुए पूछा कि जब विधायकों के इस्तीफे पर निर्णय लेना स्पीकर का विशेषाधिकार है तो 6 विधायकों के इस्तीफे क्यों स्वीकार किये.  

सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने पूछा, 'क्यों स्वीकार किया 6 विधायकों का इस्तीफा'

दिल्ली: मध्य प्रदेश में पिछले कई दिनों से जारी सियासी ड्रामे का परिणाम क्या होगा, इसकी कुछ झलक आज दिखाई पड़ सकती है. शिवराज सिंह चौहान की याचिका पर आज सुप्रीम कोर्ट इस मामले की सुनवाई कर रहा है. इस दौरान सुप्रीम कोर्ट ने पूछा कि 22 में से कितने विधायकों के इस्तीफे स्वीकार किए गए हैं? अदालत को जब 6 विधायकों की सूचना दी गई तो जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि जब स्पीकर ने 6 का इस्तीफा स्वीकार किया, तो क्या उन्होंने सभी 22 के बारे में सोचा. इस पर अभिषेक मनु सिंघवी ने जवाब दिया कि उन 6 विधायकों के पास कुछ मंत्रालय थे, इसलिए इस्तीफा स्वीकार हुआ. 

संवैधानिक पीठ को भेजा जाए मामला- कांग्रेस

 

कांग्रेस के वकील की ओर से सुप्रीम कोर्ट में तर्क दिया गया है कि इस मामले को संवैधानिक पीठ के पास भेजना चाहिए. क्योंकि मध्य प्रदेश जैसी स्थिति इससे पहले कर्नाटक और गुजरात में भी आ चुकी है. दुष्यंत दवे ने इस दौरान सुप्रीम कोर्ट में गुजरात में हुए राज्यसभा चुनाव का हवाला दिया.

कांग्रेस और बीजेपी के वकील आमने-सामने

सुप्रीम कोर्ट में मध्य प्रदेश के मसले पर कांग्रेस और भाजपा के वकील आमने-सामने आ गए हैं. बीजेपी की ओर से पेश हो रहे मुकुल रोहतगी के कोर्ट को इंतजार कराने पर कांग्रेस के वकील दुष्यंत दवे ने कहा कि आप अदालत को 50 मिनट इंतजार करवा रहे हैं और बीच में आकर टोक भी रहे हैं. फिर आप अपने आप को देश का बड़ा वकील बता रहे हैं. कांग्रेस की ओर से अभिषेक मनु सिंघवी ने पक्ष रख रहे हैं.

हमारी सुरक्षा बढ़ाई जाए- बागी विधायक

बेंगलुरु में मौजूद कांग्रेस के बागी 16 विधायकों ने कमिश्नर को चिट्ठी लिखी है और सुरक्षा बढ़ाए जाने की अपील की है. सभी विधायक इस वक्त बेंगलुरु के एक रिजॉर्ट में हैं. यहां उनसे बुधवार सुबह कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह मुलाकात करने पहुंचे थे, हालांकि उन्हें पुलिस ने हिरासत में ले लिया.

ये भी पढ़ें- कर्नाटक DGP से बोले बागी विधायक, 'हमसे किसी कांग्रेसी को न मिलने दिया जाए'