Farmers Protest : किसानों के साथ बैठक में नहीं निकला हल, आंदोलन रहेगा जारी

सरकार के साथ बातचीत का हिस्सा रहे किसान नेता चंदा सिंह ने कहा कि कृषि कानूनों के खिलाफ हमारा आंदोलन जारी रहेगा. हम सरकार से कुछ तो जरूर वापस लेंगे, चाहे वो बुलेट हो या शांतिपूर्ण समाधान. उन्होंने कहा कि हम बातचीत के लिए फिर आएंगे.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Dec 1, 2020, 08:06 PM IST
  • अखिल भारतीय किसान महासंघ के अध्यक्ष प्रेम सिंह ने कहा कि आज की बैठक अच्छी रही
  • दिल्ली से नोएडा आने वाले लोगों के लिए चिल्ला बॉर्डर बंद कर दिया गया है.
Farmers Protest : किसानों के साथ बैठक में नहीं निकला हल, आंदोलन रहेगा जारी

नई दिल्लीः दिल्ली की सीमा पर लगातार चले किसान संघर्ष के बाद मंगलवार को किसानों और केंद्र सरकार के बीच बातचीत हुई. बैठक तकरीबन 4 घंटे तक चली लेकिन इसका कोई हल नहीं निकला. दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित यह बैठक बेनतीजा रही है और अगली बैठक 3 दिसंबर को आयोजित होगी. हालांकि केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने मंगलवार को हुई बैठक और किसानों से हुई बातचीत को अच्छा बताया है. 

कृषि मंत्री ने दी जानकारी
जानकारी के मुताबिक, केंद्र सरकार ने मंगलवार को किसानों से बातचीत की. इस वार्ता के बारे में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि हम चाहते हैं कि छोटे संगठन बनें, लेकिन किसान नेता की मांग है कि हर किसान से बातचीत होनी चाहिए.

कृषि मंत्री ने कहा कि हमें हरेक किसान से बात करने में कोई परेशानी नहीं है. नरेंद्र सिंह तोमर ने साथ ही किसानों से आंदोलन खत्म करने की मांग की.
 
आंदोलन रहेगा जारी
सरकार के साथ बातचीत का हिस्सा रहे किसान नेता चंदा सिंह ने कहा कि कृषि कानूनों के खिलाफ हमारा आंदोलन जारी रहेगा. हम सरकार से कुछ तो जरूर वापस लेंगे, चाहे वो बुलेट हो या शांतिपूर्ण समाधान. उन्होंने कहा कि हम बातचीत के लिए फिर आएंगे.

वहीं, अखिल भारतीय किसान महासंघ के अध्यक्ष प्रेम सिंह ने कहा कि आज की बैठक अच्छी रही. सरकार के साथ 3 दिसंबर को अगली बैठक के दौरान, हम उन्हें समझाएंगे कि कृषि कानून का कोई भी किसान समर्थन नहीं करता है. हमारा आंदोलन जारी रहेगा.

असहमत रहे किसान
इसी बीच यह भी सामने आया है कि बैठक में कोई हल न निकलने पर कई किसान बीच में ही बैठक छोड़कर निकलने को आमादा रहे. किसानों ने सरकार पर मसला हल न करने की चाहत का आरोप लगाया. उनका कहना था कि समिति बनाने की बात कहकर किसानों को उलझाया जा रहा है. 

ट्रैफिक पर भी पड़ा असर, बॉर्डर बंद
दिल्ली से नोएडा आने वाले लोगों के लिए चिल्ला बॉर्डर बंद कर दिया गया है. सिंघु बॉर्डर पूरी तरह बंद है. सिंघु बॉर्डर के आसपास के छोटे बॉर्डर, क्रॉसिंग लामपुर, औचंदी रोड भी किसान आंदोलन की वजह से बंद हैं. मयूर विहार-नोएडा बॉर्डर को भी बंद करना पड़ा है.

सिग्नेचर ब्रिज से आउटर रिंग रोड की तरफ जाने पर हैवी ट्रैफिक है. इन रास्तों से बचने की सलाह दी गई है. वहीं रोहिणी से आउटर रिंग रोड से सिग्नेचर ब्रिज की तरफ जाने पर भी हैवी ट्रैफिक बना हुआ है. 

यह भी पढ़िएः किसानों को मोहरा बनाना चाहती है शाहीन बाग की बिलकिस दादी

देश और दुनिया की हर एक खबर अलग नजरिए के साथ और लाइव टीवी होगा आपकी मुट्ठी में. डाउनलोड करिए ज़ी हिंदुस्तान ऐप. जो आपको हर हलचल से खबरदार रखेगा...

नीचे के लिंक्स पर क्लिक करके डाउनलोड करें-
Android Link -

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़