क्या अनदेखी बनी एक ही परिवार के पांच सदस्यों की मौत का कारण?

उत्तर प्रदेश के गोंडा में 22 दिनों के अंदर एक परिवार के 5 सदस्यों की मौत हो गई. इन सभी सदस्यों में कोरोना के सभी लक्षण दिखाई पड़ रहे थे.   

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : May 6, 2021, 04:37 PM IST
  • किसी भी सदस्य का नहीं हुआ RT-PCR टेस्ट
  • कोरोना के लक्षण होते हुए भी बरती लापरवाही
क्या अनदेखी बनी एक ही परिवार के पांच सदस्यों की मौत का कारण?

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के गोंडा में 22 दिनों के अंदर एक परिवार के 5 सदस्यों की मौत हो गई. हालांकि परिवार यह मानने से इनकार कर रहा है कि मृतक में से किसी को भी कोविड था क्योंकि एंटीजन परीक्षणों ने उन्हें नकारात्मक दिखाया था. हालांकि, सभी में घातक वायरस के लक्षण दिखाई दिए है.

22 दिनों के भीतर पांच लोगों की मौत

इस हादसे ने गोंडा के चकरौता गांव में अंजनी श्रीवास्तव के परिवार को तोड़कर रख दिया है.

अंजनी के बड़े भाई हनुमान प्रसाद का निधन 2 अप्रैल को हुआ था. वह 56 वर्ष के थे.

पारिवारिक सूत्रों ने कहा कि हनुमान प्रसाद को सांस लेने में तकलीफ हुई और उनकी चिकित्सा करने से पहले ही उनकी मृत्यु हो गई.

14 अप्रैल को, अंजनी की 75 वर्षीय मां, माधुरी देवी का निधन हो गया था. परिवार का दावा है कि वह अपने बड़े बेटे के निधन को सहन नहीं कर सकी.

माधुरी देवी के पोते, सौरभ, जो प्रयागराज में पढ़ रहे थे, अपनी दादी की मौत की खबर सुनकर घर आए. वह पीलिया से पीड़ित था और जब उसकी हालत बिगड़ी तो उसे गोंडा के एक नर्सिंग होम में भर्ती कराया गया. 16 अप्रैल को उनका निधन हो गया.

बेटे के निधन के बाद सौरभ के माता पिता बीमार पड़ गए और दोनों को एक नसिर्ंग होम में भर्ती कराया गया. उन्हें ऑक्सीजन सहायता के लिए रखा गया था, लेकिन 22 अप्रैल को 41 वर्षीय मां उषा श्रीवास्तव का निधन हो गया. उनके पति, 45 साल के अश्विनी श्रीवास्तव का 24 अप्रैल को निधन हो गया था. दोनों को तेज बुखार था, लेकिन उन्होंने कोविड के लिए नकारात्मक परीक्षण किया था.

यह भी पढ़िए: कोरोना ने इंसान क्या शेरों को भी नहीं छोड़ा, हैदराबाद में 8 बब्बर शेर हुए कोरोना पॉजिटिव

कोरोना को कलंक मानना बना मौत का कारण 

गोंडा में एक ही परिवार के पांच सदस्यों की मौत के बाद  स्थानीय भाजपा नेताओं को इस त्रासदी के बारे में पता चला, तो उन्होंने जिला प्रशासन से जांच करने को कहा. हालांकि, जब जिला अधिकारियों ने अंजनी श्रीवास्तव से संपर्क किया, तो उन्होंने जोर देकर कहा कि परिवार के सदस्यों की स्वाभाविक मौत हो गई.

इस बीच, सूत्रों ने कहा कि परिवार कोविड के कलंक का सामना नहीं करना चाहता था, इसलिए जोर देकर कहा कि पांच सदस्यों की प्राकृतिक मौत हो गई थी.

एक स्थानीय निवासी ने कहा, चूंकि उन्होंने कोविड के लिए नकारात्मक परीक्षण किया था, इसलिए कोई भी कोरोना का दावा नहीं कर सकता है.

यह भी पढ़िए: पूर्व केंद्रीय मंत्री चौधरी अजित सिंह के निधन से शोक में सियासत, राजनेताओं ने दी श्रद्धांजलि

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़