लॉकडाउन के बीच कुछ इस तरह गरीबों का पेट भरेगी मोदी सरकार

कोरोना संकट के बीच लॉकडाउन फिर से बढ़ा दिया गया है. लेकिन सरकार को गरीबों का पेट भरने का भी ख्याल है. इसके लिए उन्हें तीन महीने तक मुफ्त में अनाज बांटा जाएगा. जो कि उनकी पसंद का होगा.   

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Apr 14, 2020, 06:24 PM IST
लॉकडाउन के बीच कुछ इस तरह गरीबों का पेट भरेगी मोदी सरकार

नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने ऐलान किया है कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के अंतर्गत अगले 3 महीने तक 80 करोड़ लोगों को 5-5 किलो अनाज मुफ्त में प्रदान किया जाएगा. 

कुछ इस तरह किया गया ऐलान
कोरोना पर स्वास्थ्य मंत्रालय और भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के साथ संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में गृह मंत्रालय की प्रवक्ता पुण्यसलिला श्रीवास्तव ने जानकारी दी कि 'अनिवार्य वस्तुओं एवं सेवाओं की स्थिति नियंत्रण में है। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के अंतर्गत लगभग 80 करोड़ लोगों को अगले तीन महीनों तक उनकी पसंद के मुताबिक 5 किलो गेहूं या चावल प्रति माह मुफ्त दिए जाने का फैसला किया गया है.'

सरकार ने खोला अन्न भंडार 

गृह मंत्रालय की प्रवक्ता ने जानकारी दी है कि लोगों के बीच बांटने के लिए राज्यों, केंद्रशासित प्रदेशों को अनाज भेजा जा चुका है. राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को अतिरिक्त अनाज जारी किया गया है. 
13 अप्रैल, 2020 तक 22 लाख टन से ज्यादा अन्न एफसीआई के गोदानों से निकाल कर पहुंचाया जा चुका है. गृह मंत्रालय का कंट्रोल रूम अनिवार्य वस्तुओं और सेवाओं की उपलब्धता की चौबीसों घंटे निगरानी कर रहा है. इसके अलावा साथ ही हेल्पलाइन के जरिए जरूरतमंदों की मदद भी की जा रही है. 

मजदूरों की समस्याओं पर सरकार का विशेष ध्यान
गृह मंत्रालय के मुताबिक मजदूरों की समस्याओं के समाधान के लिए 20 शिकायत केंद्र स्थापित किए गए हैं. केंद्र सरकार ने मजदूरों की समस्याओं का विशेष तौर पर ध्यान रखने का फैसला किया है. 
 गृह मंत्रालय की प्रवक्ता के मुताबिक 'श्रम एवं रोजगार मंत्रालय ने विशेष तौर पर मजदूरों की समस्याओं के निदान के लिए पूरे देश में 20 शिकायत केंद्र स्थापित किया है.  ये केंद्र चीफ लेबर कमिश्नर की निगरानी में काम कर रहे हैं.  हेल्पलाइन की विस्तृत जानकारी श्रम एवं रोजगार मंत्रालय की वेबसाइट पर उपलब्ध है.'

 

 

 

 

 

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़