नित्यानंद पर बोला विदेश मंत्रालय, स्वामी के देश से भागने की कोई जानकारी नहीं

साल 2010 में स्वामी नित्यानंद के खिलाफ धोखाधड़ी और अश्लीलता के मामले दर्ज हुए थे. अभी उन पर अहमदाबाद में आश्रम चलाने के लिए बच्चों से चंदा मंगवाने का आरोप है. गुजरात पुलिस ने गुरुवार को उसके विदेश भाग जाने की बात कही थी, लेकिन शुक्रवार को विदेश मंत्रालय ने ऐसी किसी जानकारी से इनकार किया है

नित्यानंद पर बोला विदेश मंत्रालय, स्वामी के देश से भागने की कोई जानकारी नहीं

नई दिल्लीः उधर बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी (BHU) में संस्कृत की पढ़ाई में धर्म आड़े आ गया और इसी के साथ दूसरी तरफ एक बाबा धर्म और आध्यात्म के साथ मजाक कर बैठा. यहा मामला नित्यानंद से जुड़ा हुआ है. आज से करीब 10 साल पहले सेक्स स्कैंडल के मामले से सुर्खियों में आए नित्यानंद फिर से चर्चा में हैं. कहा जा रहा है कि स्वयंभू नित्यानंद देश छोड़कर भाग गए हैं. गुजरात पुलिस ने ऐसा दावा किया है. इधर, विदेश मंत्रालय ने इस तरह की किसी जानकारी से इनकार किया है. नित्यानंद पर अहमदाबाद में (Ahmedabad) में अपना आश्रम चलाने के लिए बच्चों को अगवा करने और उन्हें चंदा जुटाने के काम में लगाने का आरोप है. 

चिट फंड संशोधन विधेयक को मंजूरी, अब नहीं मारा जाएगा किसी का पैसा

क्या कहा विदेश मंत्रालय ने
मीडिया में गुरुवार शाम को जब यह खबर फ्लैश हुई कि नित्यानंद देश छोड़कर फरार हो गया है तो विदेश मंत्रालय (Ministry of External Affairs) को इस पर अपनी टिप्पणी रखनी पड़ी. मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि उसके पास ऐसी कोई जानकारी नहीं है. विदेश मंत्रालय की ओर से बताया गया है कि गुजरात पुलिस और गृह मंत्रालय (Ministry of Home Affairs) की तरफ से अभी तक उन्हें ऐसी कोई जानकारी नहीं दी गई है कि नित्यानंद देश छोड़कर फरार हो गया है. इसलिए एक बार फिर यह मामला अटकलों में बदल गया है कि नित्यानंद कहां है और किसके शह पर छिपा हुआ है. 

गुजरात पुलिस की ओर से कहा गया था
नित्यानंद पर अहमदाबाद में गलत तरीके से आश्रम चलाने का आरोप था तो उसकी खोजबीन गुजरात पुलिस ही कर रही थी. अहमदाबाद (ग्रामीण) के पुलिस अधीक्षक एसवी अंसारी ने गुरुवार को बताया था कि नित्यानंद विदेश भाग गया है और अगर जरूरत पड़ी तो गुजरात पुलिस उचित माध्यम के जरिए उसकी हिरासत हासिल करेगी. नित्यानंद कर्नाटक में अपने खिलाफ बलात्कार का मामला दर्ज होने के बाद ही देश छोड़कर भाग गया था और उसे यहां ढूंढना समय की बर्बादी होगी. उसके भारत आने के बाद हम यकीनन उसको गिरफ्तार करेंगे.

बुधवार को पुलिस ने जानकारी दी थी कि योगिनी सर्वज्ञपीठम आश्रम के नौ और 10 साल के दो बच्चों ने उन्हें बताया कि उन्हें यातना दी जा रही थी और बाल श्रमिक के तौर पर उनसे काम करवाया जा रहा था. उन्होंने शहर के एक फ्लैट 10 से ज्यादा दिनों से बंधक बनाकर रखे जाने का आरोप लगाया था. 

स्वामी नित्यानंदः इस नाम को आप 2010 से जानते होंगे
साल 2010 में स्वामी नित्यानंद के खिलाफ धोखाधड़ी और अश्लीलता के मामले दर्ज हुए थे. उनकी कथित सेक्स सीडी सामने आई थी, जिसमें उन्हें अभिनेत्री के साथ शारीरिक संबंध बनाते हुए दिखाया गया था. फॉरेंसिक लैब में हुई जांच में सीडी को सही बताया गया, लेकिन नित्यानंद के आश्रम ने उस सीडी की अमरीकी लैब की रिपोर्ट पेश की. इसमें सीडी से छेड़छाड़ की बात सामने आई. इसके बाद नित्यानंद को गिरफ्तार कर लिया गया. हालाकि कुछ दिन बाद उन्हें बेल मिल गई थी. इसके अलावा बेंगलुरू में नित्यानंद के आश्रम में छापेमारी के दौरान कंडोम और गांजा भी बरामद हुआ था.

स्वामी नित्यानंद का एक आश्रम बेंगलुरू में भी है. यहां भी एक अमेरिकी महिला और उनके एक पुरुष अनुयायी उन पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था. नित्यानंद ने इन आरोपों को गलत बताया था, लेकिन उनका इतना विरोध हुआ कि उन्हें कुंभ में शाही स्नान से दूर रहना पड़ा था. इस मामले में उन पर मुकदमा भी दर्ज है. नित्यानंद स्वामी एक कैरेबियाई द्वीप खरीदकर शाही जिंदगी जीने की योजना बना रहा था. उसकी एक पूर्व शिष्या साराह लेंड्री ने सोशल मीडिया पर यह जानकारी दी है. कैरेबियाई टापू पर अपनी युवा शिष्याओं के साथ शाही जिंदगी बिताने के लिए नित्यानंद भारत के बड़े शहरों से धन बटोरने में जुटा था. 

मोदी सरकार देने वाली है आठ लाख सरकारी बैंक कर्मचारियों को बड़ा तोहफा