उत्तराखंड: 3 दिन से हो रही बारिश से जन जीवन प्रभावित, नैनीताल का बुरा हाल

उतराखंड के नैनीताल, हल्द्वानी, काठगोदाम, रानीखेत, पौड़ी, लैंसडाउन, चमोली आदि क्षेत्रों में भी बीते तीन दिन से लगातार तेज बारिश हो रही।   

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Oct 19, 2021, 08:06 PM IST
  • जानिए कौन सा इलाका ज्यादा प्रभावित
  • कई लोगों को सुरक्षित निकाला गया
उत्तराखंड: 3 दिन से हो रही बारिश से जन जीवन प्रभावित, नैनीताल का बुरा हाल

नई दिल्लीः देश के पहाड़ी राज्य उत्तराखंड में हो रही लगातार तेज बारिश से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है. मौसम की मार पर्यटकों पर भी पड़ी है. नैनीताल का सड़क संपर्क बाकी क्षेत्रों से कट गया है. उत्तराखंड जिम कॉर्बेट के समीप रामनगर के कई रिजॉर्टस में पानी भर गया. यहां लेमन ट्री नामक एक रिजॉर्ट में फंसे करीब 150 पर्यटकों को रेस्क्यू टीम ने सुरक्षित निकाला है.

नदियां खतरे के निशान से ऊपर
रामनगर में कोसी नदी के खतरे के निशान से ऊपर बह रही है. यहां मोहान और ढिकुली इलाके के कई रिजॉर्टस में पानी भर गया है. मोहान स्थित लेमन ट्री रिजॉर्ट से प्रशासन ने घंटों की मशक्कत के बाद 150 पर्यटकों को सुरक्षित निकाला है. स्थानीय एसडीएम गौरव चटवाल के मुताबिक ट्रैक्टर ट्रॉली और रेस्क्यू टीम की मदद से रिजॉर्ट में फंसे लोगों को बाहर निकाला गया है. रिजॉर्ट से निकाले गए ज्यादातर पर्यटक निजी वाहनों व टैक्सी लेकर अपने घरों को लौट गए. 

तीन दिन से हो रही बारिश
उतराखंड के नैनीताल, हल्द्वानी, काठगोदाम, रानीखेत, पौड़ी, लैंसडाउन, चमोली आदि क्षेत्रों में भी बीते तीन दिन से लगातार तेज बारिश हो रही. काठगोदाम में तो तेज बारिश के कारण रेलवे ट्रैक की पटरी भी उखाड़ गई. रेलवे ट्रैक की पटरी बह कर नदी किनारे लग गई. राज्य में बारिश एवं भूस्खलन के बाद करीब 2 दर्जन लोग लापता हैं.

केदारनाथ में भी गहराया संकट
जिलाधिकारी रूद्रप्रयाग ने जानकारी दी कि श्री केदारनाथ में कुल 06 हजार श्रद्धालु थे. इनमें से चार हजार वापस आ गये हैं. शेष 02 हजार सुरक्षित स्थानों पर है. अतिवृष्टि से प्रभावित क्षेत्रों में सेना से तीन हेलीकॉप्टर लगाये गए हैं. जिलाधिकारी चमोली एवं रुद्रप्रयाग को निर्देश दिए गए हैं कि यात्रा मार्गों पर फंसे यात्रियों की सुरक्षा का विशेष ध्यान रखा जाए.

सीएम ने लिया संज्ञान
सीएम पुष्कर सिंह धामी ने रुद्रप्रयाग में जिलाधिकारी रुद्रप्रयाग से जिले की स्थिति व यात्रा की जानकारी ली है. अतिवृष्टि प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण कर स्थिति का जायजा लिया है. आपदा प्रबंधन मंत्री डॉ धनसिंह रावत व डीजीपी अशोक कुमार भी उनके साथ थे.

नैनीताल का हाल बेहाल
वहीं तेज बारिश और तूफान के कारण नैनीताल जिले के कई हिस्से सड़क यातायात से पूरी तरह कट गए हैं. अत्यधिक बारिश के कारण उत्तराखंड स्थित काठगोदाम के गोलापार इलाके में सड़क मार्ग टूटकर नदी में बह गया. काठगोदाम में ट्रेनों का आवागमन भी प्रभावित हुआ है. कई ट्रेनों को स्थगित करना पड़ा है. जबकि कई ट्रेनों को शार्ट टर्मिनेट कर दिया गया है. वहीं रानीखेत को सड़क परिवहन से जोड़ने वाले एक मुख्य पुल के ऊपर तक नदी का पानी पहुंच गया, जिससे यहां यातायात व्यवस्था ठप हो गई.

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़