• देश में कोविड-19 से सक्रिय मरीजों की संख्या 1,06,737 पहुंची, जबकि संक्रमण के कुल मामले 2,16,919: स्त्रोत-PIB
  • कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की संख्या- 1,04,107 जबकि अबतक 6,075 मरीजों की मौत: स्त्रोत-PIB
  • एचआरडी मंत्री ने कक्षा XI और XII के लिए वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर जारी किया
  • पीएमजीकेपी के तहत प्रगति: अप्रैल के लिए 73.86 करोड़ लाभार्थियों को 36.93 एलएमटी खाद्यान्न प्रदान किया गया
  • पीएमजीकेपी के तहत प्रगति: मई के लिए 65.85 करोड़ लाभार्थियों को 32.92 एलएमटी खाद्यान्न उपलब्ध कराया गया
  • पीएमजीकेपी के तहत प्रगति: जून के लिए 7.16 करोड़ लाभार्थियों को 3.58 एलएमटी खाद्यान्न प्रदान किया गया
  • पीएमजीकेपी के तहत प्रगति: 17.9 करोड़ परिवारों को 1.91 एलएमटी दालें दी गईं
  • देश भर के 688 प्रयोगशालाओं (480 सरकारी और 208 निजी प्रयोगशालाओं) में कुल परीक्षणों की संख्या 41+ लाख के पार
  • रेलवे ने 4197 श्रमिक स्पेशल ट्रेन का परिचालन किया; 58+ लाख यात्रियों को उनके गंतव्य तक पहुंचाया
  • सीएसआईआर-सीएमईआरआई के शोधकर्ताओं ने नए स्वदेशी वेंटिलेटर का विकास किया है जिसकी लागत 80,000-90,000 रुपये हैं

हाई अलर्ट पर अयोध्या! काशी और मथुरा में भी आईबी ने डाला डेरा

राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद पर आने वाले सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले उत्तर प्रदेश सरकार ने अपनी तैयारी पूरी कर ली है. अयोध्या समेत सभी मुख्य शहरों में खुफिया एजेंसी मुश्तैद हो गई हैं. अगर कोई नापाक साजिश के बारे में सोचता भी है, तो उसके लिए मुश्किल बढ़ सकती है.

हाई अलर्ट पर अयोध्या! काशी और मथुरा में भी आईबी ने डाला डेरा

नई दिल्ली: अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले आईबी से लेकर उत्तर प्रदेश पुलिस तक हाई अलर्ट पर है. अयोध्या की सड़कों पर आरएएफ के जवान फ्लैग मार्च कर रहे हैं. तो आईबी की टीमों ने अयोध्या, वाराणसी और मथुरा में डेरा डाले रखा है.

फ्लैग मार्च से कड़ा संकेत

मंगलवार को आला अफसरों की अगुवाई में पुलिस के जवानों ने अयोध्या के संवेदनशील स्थानों, गलियों और मोहल्लों में फ्लैग मार्च किया. फ्लैग मार्च कर असामाजिक तत्वों के खिलाफ कड़ा संदेश दिया. तो ये भी साफ कर दिया कि अयोध्या कितनी सुरक्षित है.

अयोध्या के सीओ सिटी अरविंद चौरसिया ने बताया कि 'इस जनमानस में हम ये संदेश देना चाहते है कि आप पूरी तरह से सुरक्षित है. हम लोग पुलिस प्रशासन और प्रशासन पूरी तरह से आपके साथ है, कहीं किसी तरह की कोई बात नहीं हो पाएगी. अयोध्या में संवेदनशीलता को देखते हुए यहां प्रॉपर फोर्स है, उचित सुरक्षा व्यवस्था है, कहीं किसी भी तरह की घबराने की बात नहीं है.'

सोशल मीडिया पर भी पैनी नजर

सुप्रीम कोर्ट के संभावित फैसले को देखते हुए अयोध्या में सुरक्षाबलों की संख्या भी बढ़ा दी गई है. इसके साथ ही यूपी पुलिस को हाई अलर्ट पर रखा गया है. यूपी पुलिस सोशल मीडिया पर बेहद बारीकी से नजर रख रही है. इसके अलावा सार्वजनिक स्‍थलों, दीवारों पर लगाए जाने वाले पोस्‍टरों और लिखे जाने वाले नारों पर भी निगाह रखी जा रही है. पुलिस मस्जिदों के मौलवियों और मंदिरों के पुजारियों के साथ भी नियमित संपर्क बनाए हुए है. 30 नवंबर तक यूपी पुलिस की छुट्टियां भी रद्द कर दी गई है.

खुफिया एजेंसियां भी मुश्तैद

इन सबके बीच खुफिया एजेंसी आईबी ने यूपी के सभी प्रमुख धार्मिक स्थलों की सुरक्षा का नए सिरे से आकलन करना शुरू कर दिया है. आईबी की टीमों ने अयोध्या, वाराणसी व मथुरा में डेरा डाल रखा है. खुफिया एजेंसियों को अयोध्या फैसला को लेकर कुछ आतंकी संगठनों के सक्रिय होने की जानकारी मिली है. जिसके बाद वाराणसी में काशी विश्वनाथ, संकट मोचन और अन्य प्रमुख मंदिरों के सुरक्षा प्रबंधों को परखा गया. अयोध्या और मथुरा में भी ऐसा ही जायजा लिया गया. आईबी पिछले दो-तीन दिन से यह कवायद कर रही है.

आपको बता दें, राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद जमीन विवाद को लेकर देश की सर्वोच्च अदालत यानी सुप्रीम कोर्ट ने अपनी सुनवाई पूरी कर ली है. अयोध्या को लेकर कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया है, जिसे 8 नवंबर के बाद कभी भी सुनाया जा सकता है. माना ये जा रहा है कि 17 नवंबर को चीफ जस्टिस रंजन गोगोई का कार्यकाल समाप्त हो रहा है. जिससे पहले हर हाल में फैसला सुना दिया जाएगा. आतंकी लगातार अयोध्या के आड़ में दहशत फैलाने की कोशिश कर रहे हैं. लेकिन अयोध्या में हाई अलर्ट देखकर उनके नापाक मंसूबे कतई कामयाब नहीं हो पाएंगे.