चारधाम यात्रा पर लगी रोक हटी, इन शर्तों के साथ दर्शन कर पाएंगे श्रद्धालु

हाई कोर्ट ने केदारनाथ धाम में 800 यात्री, बद्रीनाथ धाम में 1200 यात्री, गंगोत्री में 600 यात्री और यमुनोत्री में 400 यात्रियों को जाने की अनुमति दी. साथ ही प्रत्येक यात्री के लिए कोविड-19 नेगेटिव रिपोर्ट और वैक्सीन सर्टिफिकेट ले जाना अनिवार्य किया. 

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Sep 16, 2021, 02:42 PM IST
  • कोविड निगेटिव रिपोर्ट और वैक्सीन सर्टिफिकेट अनिवार्य
  • केदारनाथ धाम में 800 तो बद्रीनाथ में 1200 यात्री जा सकेंगे
चारधाम यात्रा पर लगी रोक हटी, इन शर्तों के साथ दर्शन कर पाएंगे श्रद्धालु

नई दिल्लीः Char Dham Yatra: उत्तराखंड में चारधाम यात्रा को मंजूरी मिल गई है. नैनीताल हाई कोर्ट ने गुरुवार को इस मामले में सुनवाई की और 28 जून को चारधाम यात्रा पर लगाई रोक के अपने फैसले को वापस ले लिया. कोर्ट ने यात्रा के दौरान कोविड नियमों का पालन करते हुए कुछ प्रतिबंधों के साथ इसे शुरू करने का आदेश दिया. 

यात्रियों की संख्या की तय
मुख्य न्यायाधीश आरएस चौहान एवं न्यायमूर्ति आलोक कुमार वर्मा की खंडपीठ के समक्ष मामले की सुनवाई हुई.

 

कोर्ट ने केदारनाथ धाम में 800 यात्री, बद्रीनाथ धाम में 1200 यात्री, गंगोत्री में 600 यात्री और यमुनोत्री में 400 यात्रियों को जाने की अनुमति दी. साथ ही प्रत्येक यात्री के लिए कोविड-19 नेगेटिव रिपोर्ट और वैक्सीन सर्टिफिकेट ले जाना अनिवार्य किया. 

कुंड में स्नान की अनुमति नहीं
कोर्ट ने चमोली, रुद्रप्रयाग और उत्तरकाशी जिलों में चारधाम यात्रा के दौरान आवश्यकता अनुसार पुलिस फोर्स तैनात करने के भी निर्देश दिए. साथ ही कहा कि यात्री या भक्त किसी भी कुंड में स्नान नहीं कर सकेंगे.

 

यह भी पढ़िएः पीएम ने रक्षा मंत्रालय के नए दफ्तरों का किया उद्घाटन, सेंट्रल विस्टा के आलोचकों को घेरा

 

एसओपी जारी करेगी सरकार
हाई कोर्ट की तरफ से चारधाम यात्रा पर लगी रोक हटने के बाद उत्तराखंड सरकार यात्रा के लिए नई एसओपी जारी करेगी. बता दें कि सुनवाई के दौरान सरकार की तरफ से महाधिवक्ता ने कोर्ट में कहा था कि कोरोना संक्रमण अभी नियंत्रण में है. ऐसे में यात्रा पर लगी रोक हटाई जाए. 

व्यापारियों को हो रहा था नुकसान
बता दें कि कोरोना संक्रमण के चलते नैनीताल हाई कोर्ट ने 26 जून को चारधाम यात्रा पर रोक लगा दी थी. लेकिन, चारधाम यात्रा से जुड़े व्यापारियों की ओर से मांग की जा रही थी कि सरकार यात्रा शुरू करे. चारधाम यात्रा पर निर्भर लोगों को काफी नुकसान हो रहा था. अब कोर्ट की तरफ से यात्रा शुरू करने के बाद हजारों यात्रा व्यापारियों व तीर्थ पुरोहितों समेत उत्तरकाशी, चमोली व रुद्रप्रयाग जिले के लोगों की आजीविका पटरी पर लौटने की उम्मीद है.

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.  

 

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़