• देश में कोरोना से अब तक 169 लोगों की मौत, 478 इलाज के बाद ठीक हुए: स्रोत-PIB
  • भारत में कोरोना के 5218 सक्रिय मामलों सहित मरीजों की संख्या 5865 हुई (9 अप्रैल शाम 5 बजे तक के आंकड़े)
  • कोरोना राहत: 7 करोड़ किसानों के अकाउंट में भेजे गए 14 हजार करोड़ रुपए
  • कोरोना से जंग के लिए रेलवे 2500 डॉक्टर और 35हजार पैरा मेडिकल स्टाफ की तैनाती करेगी
  • 'लाइफलाइन उड़ान' हवाई सेवाओं के जरिए 39 टन से ज्यादा मेडिकल सप्लाई देश के विभिन्न राज्यों में भेजी गई
  • आयकर विभाग 5 लाख से कम के पेन्डिंग आईटी रिफंड तुरंत जारी करेगा
  • रिलीफ कार्यों के लिए स्वयंसेवी संगठन फूड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया से सीधे अनाज खरीदने की अनुमति प्रदान की गई

चला NSA डोभाल का चाबुक तो सरपट भागे उपद्रवी, जानिए क्या रही रणनीति

NSA अजित डोभाल को सुलगती दिल्ली की तस्वीर बदलने मंगलवार रात मैदान में उतारा गया है. डोभाल के पास कश्मीर में स्थिति सामान्य करने का अनुभव है. उनका यह अनुभव यहां काम आ रहा है. डोभाल के मैदान में आते ही जाफराबाद, सीलमपुर, मौजपुर, बाबरपुर एरिया में शांति दिख रही है. NSA आगे की रणनीति में जुटे हैं.

चला NSA डोभाल का चाबुक तो सरपट भागे उपद्रवी, जानिए क्या रही रणनीति

नई दिल्लीः जलती-सुलगती दिल्ली को शांत करने की कमान जैसे ही NSA अजित डोभाल को दी गई, इसका असर दिखने लगा है. राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल मंगलवार देर रात सीलमपुर में इलाके की स्थिति की समीक्षा करने के लिए पहुंचे हुए थे.  पिछले तीन दिनों से चल रही इस हिंसा में अब तक 200 से अधिक लोग घायल हुए हैं.

अजीत डोभाल का यह दौरा केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के मैराथन बैठक के बाद देखने को मिला है. ताजा आंकड़ों के मुताबिक अब तक मरने वालों की संख्या 18 हो चुकी है. अजित डोभाल के मैदान में आने के बाद कैसे बदला रुख, एक नजर

जाफराबाद खाली कराया
नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में जाफराबाद में धरने पर बैठीं महिलाओं को पुलिस ने हटा दिया है. पुलिस ने जगह खाली करने का महिलाओं को निर्देश दिया था, जिसके बाद महिलाओं ने बात मान ली है और रोड खाली हो गई है. जाफराबाद में प्रदर्शन स्थल और अन्य जगहों पर भारी संख्या में पुलिसबलों की तैनाती की गई है.

सुरक्षा के मद्देनजर एसएसबी, आईटीबीपी और दिल्ली पुलिस के जवान मौजूद हैं. जाफराबाद में आईटीबीपी और एसएसबी के जवानों पर जमकर पत्थरबाजी भी हुई थी. पुलिस ने प्रदर्शन स्थल को पूरी तरह से खाली करा लिया है. इसकी तस्वीरें भी जारी हुई हैं. 

4 इलाकों में लगाया कर्फ्यू
नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर शुरू हुआ बवाल जब बिल्कुल रुकने का नाम नहीं ले रहे थे तो प्रशासन ने सख्त एक्शन लिया है. उत्तर पूर्वी दिल्ली में हालात इतने बिगड़ गए हैं कि 4 जगहों पर कर्फ्यू लगा दिया गया है.

नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में बवाल के बाद जाफराबाद, मौजपुर, बाबरपुर,चांदबाग में कर्फ्यू लगाया गया है.

शराब की दुकानें बंद और बॉर्डर किए सील
पुलिस-प्रशासन ने मंगलवार देर रात ही  पूर्वोत्तर दिल्ली से गाजियाबाद को जाने वाली सड़कों को सील कर दिया था. डीएम अजय कुमार पांडेय ने बताया कि दिल्ली हिंसा को ध्यान में रखते हुए बॉर्डर सील किए गए हैं. इसके अलावा आस-पास के इलाकों में शराब की दुकानें भी बंद कर दी गई हैं.

जिले में शांति है और हम चप्पे-चप्पे पर नजर बनाए हुए हैं. गौतमबुद्ध नगर डीएम बीएन सिंह ने भी दिल्ली सीमा से सटी 3 किमी के दायरे में आने वाली शराब की दुकानों को बंद करने का एलान किया है. 

फ्लैग मार्च निकाला
बुधवार सुबह हालात को काबू करने के लिए सुरक्षा बलों ने सशस्त्र फ्लैग मार्च निकाला. बाबरपुर एरिया में सशस्त्र बलों की मौजूदगी में लोग शांतिपूर्ण तरीके से ही रहे. इस दौरान दुकानें-बाजार बंद हैं. जरूरी कामों के लिए कुछ ही लोग सड़कों पर जाते दिखे. सुरक्षाबलों की चेतावनी से दंगाइयों पर असर पड़ा है.

 

मौजपुर एरिया में भी सशस्त्र सुरक्षा बलों ने फ्लैग मार्च किया. यहां भी इस दौरान शांति नजर आई. प्रदर्शन के दौरान यहीं अधिक हिंसा हुई थी. 

दिल्ली हिंसाः अफसोस- प्रदर्शन के नाम पर 'आतंकियों' ने 18 लोगों का खून बहा दिया

सीलमपुर में भी दुकानें बंद, स्थिति सामान्य
देर रात NSA के दौरे के बाद सीलमपुर में भी बुधवार को  स्थिति में बदलाव आया है. यहां दुकानें-बाजार बंद हैं और सड़क पर सन्नाटा पसरा हुआ है. घरों के बाहर कुछ लोग दिख रहे हैं, लेकिन वे आने-जाने वालों को बस देख रहे हैं. बुधवार सुबह यहां से हालात बिगड़े होने की सूचना नहीं मिली है.