close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अंसार गजवत-उल-हिंद का THE END! मारा गया जाकिर मूसा का वारिस ललहारी

जाकिर मूसा के वारिस हमीद ललहारी समेत तीन आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया गया है. सुरक्षा बलों ने मुठभेड़ ते दौरान इन्हें सरेंडर करने के लिए भी कहा, लेकिन वे नहीं माने और सुरक्षा बलों पर लगातार फायरिंग करते रहे.  

अंसार गजवत-उल-हिंद का THE END! मारा गया जाकिर मूसा का वारिस ललहारी

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर में भारतीय सुरक्षाबलों को एक और बड़ी कामयाबी हाथ लगी है. आतंकियों से मुठभेड़ के दौरान सुरक्षाबलों ने अलकायदा से ताल्लुक रखने वाले आतंकी संगठन अंसार गजवत-उल-हिंद के चीफ को ढेर कर दिया है. यानी इस एनकाउंटर में चीफ आतंकी हमीद ललहारी को मार गिराया गया है.

कैसे हुई कार्रवाई?

सुरक्षाबलों को सूचना मिली थी कि दक्षिण कश्मीर के पुलवामा के अवंतीपोरा इलाके के राजपोरा गांव में एक मकान में कुछ आतंकी छिपे हैं. जिसके बाद सुरक्षाबलों ने पुलवामा के राजपुरा इलाके में सर्च ऑपरेशन चलाया. इस दौरान आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी. जिसके बाद दोनों तरफ से गोलीबारी होने लगी. मुठभेड़ के दौरान कुल तीन आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया गया. जिसके बाद ये एक आतंकी की शिनाख्त अंसार गजवत-उल-हिंद के चीफ हमीद ललहारी के रूप में हुई.

24 मई को मारा गया था जाकिर मूसा

इससे पहले आतंकी संगठन अंसार गजवत-उल-हिंद का मुख्य कमांडर जाकिर मूसा हुआ करता था. मूसा को इसी साल 24 मई को सुरक्षाबलों ने जहन्नुम का रास्ता दिखा दिया था. जिसके बाद मूसा के वारिस के तौर पर हमीद ललहारी इस आतंकी संगठन की कमान संभाल रहा था. मूसा को आतंक का नया पोस्टर ब्वॉय कहा जाता था. जिसके मारे जाने के बाद ललहारी को भी इसी नाम से पुकारा जाने लगा. लेकिन ये नाम हिज्बुल के कमांडर बुरहान वानी के लिए सबसे ज्यादा मशहूर था. जिसे साल 2016 में ही ऑपरेशन ऑल आउट के दौरान खत्म कर दिया गया था.

बुरहान वानी के एनकाउंटर से जमकर बवाल कटा था. साल 2016 और 2017 में बुरहान वानी के पूरे गैंग का खात्मा कर दिया गया था. बुरहान वानी समेत कुल 10 बजे आतंकियों को उस वक्त मौत के घाट उतारा गया था.

1). नीसर अहमद पंडित

  • ये पहले पुलिस में हुआ करता था, जिसके बाद उसने आतंक को ही अपना मजहब बना लिया. 7 अप्रैल 2016 को एनकाउंटर हुआ. जिसमें उसका खात्मा हो गया.

2). वसीम मल्लाह

  • वसीम शोपियां में तीन पुलिस वालों की हत्या में शामिल था. जिसके बाद एक ऑपरेशन के तहत 17 अप्रैल 2016 को इसका एनकाउंटर हो गया.

3). इशफाक हमीद

  • इशफाक हमीद के आतंकी बनने के पीछे कोई खास बड़ी वजह नहीं थी. कहा जाता है कि वह सम्पन्न परिवार से था. जो 2015 में आतंकी बना और 7 मई 2016 को एनकाउंटर हुआ.

4). तारिक अहमद पंडित

  • तारीक अहमद पंडित ने ऑपरेशन ऑल-आउट के दौरान अपने हथियार डाल दिए. उसने अपने आतंकी भाईयों को मरता देख 29 मई 2016 को सरेंडर कर दिया.

5). बुरहान वानी

  • बुरहान वानी पढ़ाई में टॉपर और अच्छा क्रिकेटर भी था. इसे पोस्टर ब्वॉय कहा जाता था. लेकिन आतंक को अपनाने के बाद 8 जुलाई 2016 को इसका एनकाउंटर हो गया. इसकी मौत के बाद कश्मीर में काफी बवाल हुआ.

6). आफाक उल्लाह

  • एम.टेक. की पढ़ाई करने के बाद आफाक उल्लाह साल 2015 में आतंकी बन गया. लेकिन उसे अपनी इस गुस्ताखी की सजा मौत से चुकानी पड़ी. 28 अक्टूबर, 2016 को एनकाउंटर हुआ.

7). सद्दाम पैडर

  • कहा जाता था कि सद्दाम बुरहान वानी का सबसे करीबी और खास दोस्त था. लेकिन उसकी मौत के बाद 2 फरवरी, 2017 को सुरक्षाबलों ने उसे एनकाउंटर में मौत के घाट उतार दिया.

8). सब्जार अहमद भट

  • बुरहान के बाद सब्जार अहमद भट हिजबुल मुजाहिदीन कमांडर बना था. लेकिन उसे 31 मई 2017 को एनकाउंटर में अल्लाह को प्यारा कर दिया गया.

9). आदिल खांडे

  • आदिल आतंकी बनने से पहले स्कूल बस चलाता था. बस चलाते-चलाते उसने हथियार चलाना शुरू कर दिया. लेकिन उसके हथियार उठाने की सजा मौत मिली और 10 सितंबर 2017 को एनकाउंटर हुआ.

10). वसीम शाह

  • वसीम शाह बुरहान ब्रिगेड का आखिरी आतंकी था. लेकिन जनाब को आकंरी का हिस्सा होना मंहगा पड़ गया और 14 अक्टूबर 2017 को एनकाउंटर हुआ. जिसमें उसे इस दुनिया से विदा कर दिया गया.

मंगलवार को करीब 4 घंटे तक मुठभेड़ चली जिसमें मारे गए आतंकियों की शिनाख्त नावेद टाक, हामिद लोन उर्फ हामिद ललहारी और जुनैद भट्ट के तौर पर हुई है. खास बात ये भी है कि इनके पास के AK-47 समेत भारी मात्रा में हथियार और गोला बारूद बरामद किया गया है.