close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

शेयर बाजार में IRCTC की धूम, शेयरों ने छूआ आसमान

आज जब शेयर बाजार खुला तो आईआरसीटीसी के लिए किसी सपने से कम नहीं था. बंबई स्टॉक एक्सचेंज और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज हर जगह आईआरसीटीसी के शेयर आसमान छू रहे थे. जाहिर है कि शेयरधारकों के लिए यह किसी सपने से कम नहीं था. 

शेयर बाजार में IRCTC की धूम, शेयरों ने छूआ आसमान

नई दिल्ली : भारतीय रेलवे से जुड़ी IRCTC यानी इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन के शेयर आसमान छू रहे हैं. आज आईआरसीटीसी के शेयर बंबई स्टॉक एक्सचेंज (BSE) पर 101.25 फीसदी और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) पर 95.62 फीसदी प्रीमियम पर लिस्ट हुए. बीएसई पर आईआरसीटीसी के शेयर 644, वहीं एनएसई पर 626 रुपये के भाव पर लिस्ट हुए. 

315 से 320 रुपये प्रति शेयर था प्राइस बैंड?

आईआरसीटीसी के आईपीओ के लिए प्राइस बैंड 315 से 320 रुपये प्रति शेयर तय हुआ था. यह आईपीओ 30 सितंबर को खुला था और 3 अक्टूबर को बंद हुआ था. कारोबार के दौरान आईआरसीटीसी का शेयर 698 रुपये के ऑलटाइम हाई पर पहुंच गया. फिलहाल शेयर प्राइस बैंड से 118.12 फीसदी पर कारोबार कर रहा है. इससे आईआरसीटीसी के शेयर खरीदने वाले निवेशक कुछ ही मिनटों में मालामाल हो गए. 

112 गुना तक सब्सक्रिप्शन

आईआरसीटीसी के आईपीओ को निवेशकों ने हाथों-हाथ लिया था. इसे 112 गुना तक सब्सक्रिप्शन मिला था. आईआरसीटीसी की बिक्री के लिए रखे गए 2 करोड़ शेयर के एवज में 25 करोड़ की बोलियां प्राप्त हुईं. इसे पात्र संस्थागत खरीदारों की श्रेणी में 108.79 गुना, गैर-संस्थागत निवेशकों के मामले में 354.52 गुना और खुदरा निवेशकों के मामले में 14.65 गुना अभिदान मिला.

क्या है आईआरसीटीसी

आईआरसीटीसी भारतीय रेलवे द्वारा अधिकृत एक ऐसी इकाई है, जो अपनी वेबसाइट (www.irctc.co.in) और मोबाइल एप्लीकेशन रेल कनेक्ट (Rail Connect) के माध्यम से ऑनलाइन रेलवे टिकट की सेवा प्रदान करती है. आंकड़ों के अनुसार रोजाना औसतन 8.4 लाख से अधिक टिकट ऑनलाइन बुक किए जाते हैं, यानी लगभग रेलवे के लगभग 72.60% टिकट ऑनलाइन बुक होते हैं. वर्तमान में आईआरसीटीसी चार व्यावसायिक क्षेत्रों में काम कर रहा है- रेल टिकट, खानपान, रेल नीर ब्रांड के तहत पीने के पानी की सुविधा और यात्रा एवं पर्यटन की सुविधा. आईआरसीटीसी ने अन्य व्यवसायों में भी हाथ आजमाया है, जिसमें गैर-रेलवे खानपान और ई-कैटरिंग, लाउंज और बजट होटलों की सेवाएं मुहैया कराना. वित्त वर्ष 2019 के राजस्व में खानपान सेवाओं का 55%, इंटरनेट टिकटिंग का 12%, पीने के पानी का 9%, जबकि यात्रा और पर्यटन व्यवसाय का 24% का योगदान है. 

7 मिलियन से ज्यादा लोग लॉगिन करते हैं

Irctc.com दुनिया की सबसे बड़ी वेबसाइटों में से एक है. इसे प्रति दिन 7 मिलियन से ज्यादा लोग लॉगिन करते हैं. 1 सितंबर से कंपनी ने अपने वेब और मोबाइल प्लेटफॉर्म पर बुकिंग के लिए 10 से 30 रुपये की सुविधा शुल्क लेना शुरू किया है. आईआरसीटीसी के माध्यम से एक महीने में 2.5 करोड़ लेन-देन होता है. माना जा रहा है कि इससे रेलवे को 300 से 900 करोड़ के राजस्व में वृद्धि की संभावना है.

इस वर्ष 272 करोड़ रुपये का लाभ

आईआरसीटीसी को वित्त वर्ष 2019 में 272.6 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ, जबकि वित्त वर्ष 2018 में यह 220.6 करोड़ रपये था. वित्त वर्ष 2019 में कंपनी का राजस्व बढ़कर 1,867 करोड़ रुपये हुआ है, जो कि वित्त वर्ष 2018 में 1,470 करोड़ रुपये था.