बंगाल हिंसा पर राज्यपाल धनखड़ को आया गुस्सा, कहा- हम बर्दाश्त नहीं कर सकते

शपथ दिलाने के बाद ममता को राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने नसीहत दी. उन्होंने कहा कि राज्य में कानून-व्यवस्था का राज होना चाहिए. मीडिया के सामने हिंसा को लेकर धनखड़ काफी आक्रोशित नजर आए.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : May 5, 2021, 01:03 PM IST
  • बंगाल में हुई हिंसा पर गवर्नर Vs दीदी
  • 'अपना पल्ला नहीं झाड़ सकतीं मुख्यमंत्री'
बंगाल हिंसा पर राज्यपाल धनखड़ को आया गुस्सा, कहा- हम बर्दाश्त नहीं कर सकते

कोलकाता: बंगाल में ममता बनर्जी का शपथ ग्रहण हो गया है, लेकिन राजनीतिक हिंसा को लेकर एक बार फिर से मुख्यमंत्री और राज्यपाल में ठन गई है. ममता के शपथग्रहण के बाद ममता को राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने नसीहत दी. उन्होंने तीखे शब्दों में कहा कि ये बर्दाश्त नहीं कर सकते.

दीदी को धनखड़ की 'वॉर्निंग'

बंगाल के गवर्नर ने ममता बनर्जी को साफ शब्दों में कह दिया कि उम्मीद है कि ममता संविधान का पालन करेंगी. राज्य में कानून व्यवस्था का राज होना चाहिए. मुख्यमंत्री अपना पल्ला नहीं झाड़ सकतीं.

शपथ लेने के बाद सीएम ममता बनर्जी ने राज्यपाल का अभिवादन किया.  आमने-सामने खड़े होकर दोनों ने एक-दूसरे का अभिवादन किया. राज्यपाल ने छोटी बहन बोलकर ममता को राजधर्म याद दिलाया और कहा कि लोकतंत्र के लिए हिंसा ठीक नहीं है.

धनखड़ की नसीहत पर दीदी का जवाब

राज्यपाल ने ममता बनर्जी को नसीहत दी तो सीएम ने राज्यपाल को जवाब दिया. उन्होंने कहा कि अभी राज्य चुनाव आयोग के अंतर्गत है.

ममता बनर्जी ने तीसरी बार बंगाल के सीएम पद की शपथ ले ली है. शपथ ग्रहण के बाद ममता ने कहा कि कोरोना से लड़ाई प्राथमिकता है. इस बीच राज्यपाल धनखड़ ने कहा संविधान से शासन चलाएं और राज्य में शांति बनाए रखें. सीएम ममता बनर्जी ने कहा कि सभी दल शांति बनाएं रखें. बंगाल के लोगों को अशांति पसंद नहीं है.

राज्यपाल को हिंसा पर आया गुस्सा

उन्होंने मीडिया के सामने कहा कि 'मेरा हमला किसी पर नहीं है. मेरी एक विनती है, लोगों को मरने के लिए नहीं छोड़ सकते हैं. किसी भी हिंसा को परमिट नहीं कर सकते, आगजनी को बढ़ावा नहीं दे सकते. औरतों के साथ हो रही वारदातों को परमिट नहीं कर सकते, बच्चों के साथ हिंसा बर्दाश्त नहीं कर सकते. क्या आप इसे अनुमति दे सकते हैं? मैं मीडिया से अपील करता हूं कि वो सोचे इसके लिए कौन जिम्मेदार है?'

बंगाल में जारी हिंसा से राज्यपाल बेहद आहत हैं उन्होंने ममता बनर्जी के जवाब पर कहा कि आचार संहिता का हवाला देकर ममता जिम्मेदारी से बच नहीं सकतीं. राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने कहा, महिलाओं और बच्चों से हिंसा बर्दाश्त नहीं कर सकते.

बंगाल में बद से बदतर हालात

बंगाल में हिंसा में मारे गए लोगों की लिस्ट लंबी है. बीजेपी के कई कार्यकर्ता 2 मई के बाद से ही गायब है, उनका कोई अता-पता नहीं है. हिंसा में करीब 50 से ज्यादा बीजेपी के कार्यकर्ता गंभीर रूप से घायल हुआ हैं.

साल्ट लेक, आसनसोल, दुबराजपुर, ईस्ट मेदिनापुर और उत्तर दिनाजपुर में बीजेपी दफ्तर को फूंक दिया गया, जमकर तोड़फोड़ की गई. जान बचाने के लिए बीजेपी कार्यकर्ताओं को भागना पड़ा.

पूरे बंगाल से सिर्फ एक ही आवाज आ रही है. मुझे बचालो, मेरे परिवार को बचा लो.. लेकिन ममता बनर्जी जीत के जश्न में जुटी हुई हैं. उल्टे हिंसा के लिए बीजेपी को जिम्मेदार ठहरा रही है, लेकिन वो भूल गई कि चुनावी भाषण में उन्होंने ही अपने कार्यकर्ताओं को हिंसा के लिए भड़काया था उन्हें उकसाया था. सबसे बड़ी बात ये कि दीदी को ये समझना होगा कि वो किसी पार्टी की मुख्यमंत्री नहीं हैं, जो हिंसा का आरोप सिर्फ एक पार्टी और उनके कार्यकर्ताओं पर लगाकर अपना पल्ला झाड़ रही हैं.

हिंसा पर भाजपा का प्रहार

बंगाल में हो रही हिंसा पर बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय ने दीदी पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि बंगाल में प्रायोजित हिंसा चल रही है. ममता और उनके भतीजे के संरक्षण में हिंसा हो रही है. पश्चिम बंगाल में अराजकता का माहौल है.

इसे भी पढ़ें- तीसरी बार CM पद की शपथ लेते ही ममता बनर्जी ने रच दिया इतिहास

फिलहाल ममता बनर्जी ने बंगाल के मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली है. तीसरी बार दीदी की ताजपोशी हुई. राजभवन में राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने शपथ दिलाई और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी ट्वीट कर ममता को बधाई दी.

इसे भी पढ़ें- ममता बनर्जी ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ, PM Modi ने दी बधाई

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़