अगले साल की शुरुआत में हो सकते हैं जम्मू कश्मीर में विधानसभा चुनाव, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने कही बड़ी बात

उन्होंने कहा कि जो लोग आतंकवाद का समर्थन करते हैं वे जम्मू कश्मीर की जनता के दुश्मन हैं. 

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Sep 25, 2021, 10:32 PM IST
  • जम्मू कश्मीर में अगले साल हो सकते हैं विधानसभा चुनाव- रैना
  • साल के अंत तक पूरा हो जाएगा परिसीमन का काम
अगले साल की शुरुआत में हो सकते हैं जम्मू कश्मीर में विधानसभा चुनाव, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने कही बड़ी बात

नई दिल्ली: जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने के बाद इसे केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा दे दिया गया था. तब से वहां के लोग विधानसभा चुनाव का इंतजार कर रहे हैं. केंद्र सरकार ने परिसीमन के काम को तेज कर दिया है. इस बीच भाजपा की जम्मू कश्मीर इकाई के अध्यक्ष रवींद्र रैना ने बड़ा बयान दिया है. 

जम्मू कश्मीर में अगले साल हो सकते हैं चुनाव- रैना

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष रवींद्र रैना ने कहा कि केंद्र शासित क्षेत्र में विधानसभा चुनाव परिसीमन प्रक्रिया पूरी होने के बाद अगले साल की शुरुआत में हो सकते हैं. इसके लिये काम तेज गति से आगे बढ़ रहा है. 

उन्होंने कहा कि जो लोग आतंकवाद का समर्थन करते हैं वे जम्मू कश्मीर की जनता के दुश्मन हैं और उनके साथ देश के कानून के अनुसार सलूक किया जाएगा, जो सभी के लिए समान हैं चाहे वह सरकारी कमर्चारी हो, नेता या आम नागरिक.

साल के अंत तक पूरा हो जाएगा परिसीमन का काम

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के विचारक और भारतीय जन संघ के नेता पंडित दीन दयाल उपाध्याय को श्रद्धांजलि देने के लिए भारतीय जनता पार्टी के यहां स्थित मुख्यालय पर आयोजित एक कार्यक्रम से इतर रैना ने संवाददाताओं से कहा कि परिसीमन प्रक्रिया प्रगति पर है और इसके साल के अंत तक पूरा होने की उम्मीद है.

केंद्र शासित क्षेत्र में आगामी चुनाव के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्त को लाल किले की प्राचीर से कहा था कि जम्मू कश्मीर में परिसीमन की प्रक्रिया पूरी होने के बाद विधानसभा चुनाव कराए जाएंगे. परिसीमन साल के अंत तक पूरा होने की उम्मीद है इसलिए अगले साल की शुरुआत में जम्मू कश्मीर विधानसभा के चुनाव हो सकते हैं.

जम्मू कश्मीर में विधानसभा और लोकसभा निर्वाचन क्षेत्रों के परिसीमन के लिए मार्च 2020 में सरकार ने परिसीमन आयोग का गठन किया था, जिसकी रिपोर्ट अभी तक नहीं आई है.

ये भी पढ़ें- IPL 2021: राजस्थान को शिकस्त देकर टॉप पर पहुंची दिल्ली कैपिटल्स

नेशनल कांफ्रेंस और पीडीपी पर निशाना साधते हुए रवींद्र रैना ने कहा कि नेशनल कांफ्रेंस और पीडीपी को पुनर्विचार करना चाहिए कि क्या वे चाहते हैं कि तालिबान, पाकिस्तान, लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्मद और हिजबुल मुजाहिदीन जम्मू-कश्मीर पर शासन करें. आतंकवाद ने जम्मू-कश्मीर को तबाह कर दिया है. पिछले तीन दशकों के दौरान एक लाख से अधिक लोगों की जान गई है.

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.  

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़