close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कर्नाटक में क्यार तूफान से तबाही, रेड अलर्ट पर तटीय इलाके

कर्नाटक में गुरूवार देर रात से ही बारिश के बाद शुक्रवार को क्यार तूफान ने लोगों को खूब परेशान किया. इलाके के कई क्षेत्र में आपदा प्रबंधन की टीम मुस्तैद कर दी गई है.   

कर्नाटक में क्यार तूफान से तबाही, रेड अलर्ट पर तटीय इलाके

बेंगलुरू: शुक्रवार को कर्नाटक के तटवर्तीय इलाकों में चक्रवाती तूफान से जनजीवन को भारी नुकसान उठाना पड़ा. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग की ओर से मिली जानकारी के मुताबिक रात 11:30 बजे के करीब रत्नागिरी से 200 किलोमीटर पश्चिम और मुबंई से 310 किलोमीटर दक्षिण में क्यार चक्रवाती तूफान का कहर महसूस किया गया. फिलहाल तूफान दक्षिण पश्चिमी भाग से उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ रहा है. क्यार तूफान की वजह से इलाके में भारी बारिश भी हो रही है, जिसके कारण पर्यटकों के आवागमन की सुविधा को फिलहाल 27 अक्टूबर तक बंद कर दिया गया है.

सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाए जा रहे लोग 

कर्नाटक के राज्य आपदा निगरानी केंद्रों के हवाले से मौसम के और भी बिगड़ने के आसार की सूचना दी गई है. पश्चिमी तटों के बिगड़ते हालात के मद्देनजर क्षेत्र में रेड अलर्ट जारी कर दिया है. न्यू मंगलुरू पोर्ट से लगभग 100 मछुवारों के नावों को बचा कर सुरक्षित जगह पर पहुंचाया गया. हजारों लोगों को सुरक्षित स्थानों पर स्थानांतरित किया गया. मौसम विभाग की मानें तो गोवा में भारी बारिश की आशंका है. कारण कि अरब सागर में चक्रवती तूफान का प्रभाव इस क्षेत्र में ज्यादा देखने को मिल सकता है.

कन्नड़ जिले में सबसे ज्यादा है असर

कर्नाटक के तटवर्ती क्षेत्र से गुजरने वाले क्यार तूफान का असर दक्षिणी कन्नड़ जिले में ज्यादा है. यहां शुक्रवार तक रिकॉर्ड 32.4 मिमी बारिश दर्ज की गई है. चक्रवाती तूफान और भारी बारिश से इलाके में जनजीवन को नुकसान भी उठाना पड़ रहा है. तेज हवा से पेड़ टूट कर सड़कों पर गिर गए, मकान भी क्षतिग्रस्त हो गए. तटवर्ती इलाकों में सभी को आगाह कर दिया गया है. पालघर के जिलाधिकारी कैलाश शिंदे ने मछुआरों को समुद्र की ओर न जाने की चेतावनी दी. जिले के फिशरीज अधिकारियों ने समुद्र में गए 1411 नावों में 1378 को वापस बुला लिया है. बाकी बचे नावों को भी ढ़ूंढ़ा जा रहा है.

 

क्यार चक्रवाती तूफान का असर ओडिशा के तटीय इलाकों में भी खूब देखने को मिला. फिलहाल आपदा प्रबंधन की टीमें नुकसान को कम करने और जान-माल के खतरे को टालने की कोशिश में लगी हुईं हैं.