close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

करतारपुर कॉरिडोर 31 अक्टूबर तक हो जाएगा तैयार, 20 से होगा रजिस्ट्रेशन

श्रद्धालुओं के लिए एक बड़ी खुशखबरी आ रही है. गुरुदासपुर जिले में डेरा बाबा नानक से करतारपुर साहिब तक एक भव्य कॉरिडोर का निर्माण कार्य 31 अक्टूबर तक पूरा कर लिया जाएगा. 20 अक्टूबर से इसके लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन शुरू हो जाएगा.

करतारपुर कॉरिडोर 31 अक्टूबर तक हो जाएगा तैयार, 20 से होगा रजिस्ट्रेशन

नई दिल्ली: लाखों-करोड़ों सिख श्रद्धालुओं का इंतजार अब जल्द खत्म होने वाला है. भारत-पाकिस्तान के बीच बन रहे करतारपुर कॉरिडोर के पवित्र धार्मिक रास्ते का काम जल्द पूरा होने वाला है. भारत की ओर से करीब सवा 4 किलोमीटर का जो रास्ता बन रहा है उसका काम रात-दिन चल रहा है. माना जा रहा है कि निर्माण कार्य 31 अक्टूबर तक पूरा कर लिया जाएगा.

करीब 177 करोड़ रुपए की लागत

वैसे तो यह रास्ता करीब 4 किलोमीटर का है जो भारत के हिस्से में बन रहा है और भारत ने लगभग इस और निर्माण पूरा कर लिया है. पाकिस्तान भी यह दावा कर रहा है कि उसके हिस्से का जो रास्ता है, वह भी पूरा किया जा चुका है. भारत सरकार की योजना के मुताबिक इससे कॉरिडोर की लागत करीब 177 करोड़ रुपए है. रास्ते के साथ-साथ आसपास की सुविधाओं को भी विकसित किया जा रहा है.

लैंड पोर्ट अथारिटी आफ इंडिया के चेयरमैन गेविन्द मोहन ने इस निर्माण के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि 'एक इमिग्रेशन चेक प्वाइंट होता है, चाहें समुन्द्र से हो, चाहे हवाई जहाज से हो, चाहे जमीन से हो. तो जो भी सुविधाएं चेक प्वाइंट पर होती है वो सब होंगी. इमेग्रेशन और कस्टम के काउंटर लगेंगे. जहां पर लोगों को इमिग्रेशन होगा, उस तरफ जाएंगे. उसके अलावा यहां पर सुरक्षा की व्यवस्था पूरी होगी.'

एक वर्ल्ड क्लास टर्मिनल का निर्माण

करतारपुर कॉरिडोर में भारत की ओर इंटरनेशनल एयरपोर्ट की तर्ज पर एक वर्ल्ड क्लास टर्मिनल भी बनाया जा रहा है. इस टर्मिनल में श्रद्धालुओं के यात्रा के कागजात पूरा करने की और उनके ठहरने की समुचित व्यवस्था होगी. कॉरिडोर के काम में तेजी और आसपास की सुविधाओं से श्रद्धालुओं के चेहरे भी खिलने लगे हैं.

भारत और पाकिस्तान के बीच रिश्तों की कड़वाहट किसी से छिपी नहीं है. पाकिस्तान कैसे भारत के खिलाफ आतंक की साजिशें रच रहा है ये भी दुनिया बखूबी जानती है. इसीलिए भारत की ओर से करतारपुर कॉरिडोर में सुरक्षा के भी पुख्ता बंदोबस्त किए जा रहे है. बताया जा रहा है कि 20 अक्टूबर से करतारपुर साहिब जाने के लिए तीर्थयात्री ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कर सकेंगे.

सुरक्षा व्यवस्था के इंतजाम

बीएसएफ ने फैसला किया है कि वो एंटी ड्रोन सिस्टम की तैनाती करने वाले है. और कुछ दिनों बाद यहां पर जो बॉर्डर के इलाके है यहां पर बीएसएफ की तरफ से रडार लगाए जाएंगे, डिटेक्टर लगाए जाएंगे, जैमर लगाए जाएंगे. अगर ड्रोन को उड़ते हुए देखे तो उन्हें जाम कर सके.

माना जा रहा है कि 8 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करतारपुर कॉरिडोर का उद्घाटन करेंगे और 9 नवंबर को पहला जत्था इस कॉरिडोर से भारत से पाकिस्तान की ओर रवाना होगा. ऐसे में आजादी के बाद पहली बार भारत और पाकिस्तान के बीच ऐसा कॉरिडोर बना है जिस श्रद्धालु एक देश से दूसरे देश में बेरोक-टोक आ-जा सकेंगे.