close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भाजपा से दो-दो हाथ करने के लिए पूरी तरह तैयार केजरीवाल, दे डाली चुनौती

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल दिल्ली में चुनावी रणभेरी बजने से पहले ही भाजपा पर तंज कसते हुए उसे उकसाने की कोशिश में लग गए हैं. दिल्ली के मुखिया विपक्ष पर हमला करने का एक भी मौका नहीं छोड़ते. एक सभा के दौरान केजरीवाल ने भाजपा को खुली चुनौती दी.   

भाजपा से दो-दो हाथ करने के लिए पूरी तरह तैयार केजरीवाल, दे डाली चुनौती

दिल्ली: मंगलवार को एक सभा में भाजपा पर प्रहार करते हुए केजरीवाल ने कहा कि उन्होंने भाजपा के लिए दिल्ली के अंदर हिंदू-मुस्लिम की राजनीति करने का कोई रास्ता ही नहीं छोड़ा. उन्होंने राजनीतिक विचार-विमर्श के विषय और मायनों को ही बदल दिया है. उन्होंने कहा कि दिल्ली के अंदर लोग शिक्षा और स्वास्थ्य की बात करने लगे हैं. मुख्यमंत्री केजरीवाल ने इसका श्रेय खुद को देते हुए दिल्ली की राजनीति में एक नया दांव खेल दिया है. 

सदर बाजार में बोल रहे थे केजरीवाल
दरअसल, मौका था दिल्ली सदर बाजार में पार्टी कार्यकर्ताओं के सम्मेलन का, जिसमें मुख्यमंत्री ने पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए दिल्ली सरकार के कार्यों को लोगों तक पहुंचाने की अपील की. उन्होंने कहा कि दिल्ली में अब शिक्षा और स्वास्थ्य को लेकर बातें होती हैं. दिल्ली सरकार के कार्यों का असर इतना है कि भाजपा और कांग्रेस के बैनर तले रहने वाले कार्यकर्ता भी आम आदमी पार्टी को ही वोट करेंगे. 

 

दिल्ली में विकास की तेज रफ्तार का दावा
दिल्ली के हालिया सियासी समीकरणों पर नजर डालें तो यहां भाजपा और आप के बीच जुबानी जंग की तस्वीर हर दिन नए कलेवर में दिखाई देगी. कभी भाजपा के नेता तो कभी आप के नेता के बीच तू-तू-मैं-मैं चलते ही रहती है. पिछले दिनों दिल्ली सरकार ने दिल्ली निवासियों के लिए एक बड़ी सौगात दी थी. उन्होंने ऐलान किया कि दिल्लीवासियों को 200 यूनिट से कम बिजली के उपभोग पर कोई बिजली बिल नहीं देना होगा. बुधवार को पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इस योजना से दिल्ली के 33 लाख लोग प्रत्यक्ष रूप से लाभान्वित होंगे. उन्होंने खुद ही पीठ थपथपाते हुए कहा कि दिल्ली सरकार ने प्रदेश के अंदर प्रदूषण को 25 फीसदी तक कम किया है और डेंगू के मरीजों की संख्या को बहुत तेजी से घटाया है. इसके अलावा सरकार ने शिक्षा के बेहतरीकरण को लेकर इन पांच सालों में जबरदस्त काम किया है.  

भाजपा ने कहा दिल्ली में प्रचार-प्रसार की सरकार
हालांकि भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कई योजनाओं में लूपहोल बताते हुए सरकार की आलोचना की है. उन्होंने दिल्ली सरकार को डेंगू के 650 से भी ज्यादा केस पाए जाने के मामले पर घेरा है. उन्होंने कहा कि सरकार बस अपने कामों के प्रचार-प्रसार में लगी है. योजनाओं की समीक्षा पर कोई ध्यान नहीं है. डीटीसी बसों के फ्री टिकट पर मुख्यमंत्री केजरीवाल के फोटो के छापे जाने का विरोध करते हुए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने और पार्टी के अन्य नेताओं ने आप सरकार को सिर्फ प्रचार-प्रसार वाली सरकार बताया है. 

मजबूत दिख रहे हैं केजरीवाल
ज्ञात हो कि दिल्ली में 2020 में विधानसभा चुनाव होने वाला है. इसी बीच केजरीवाल सरकार अपने तमाम योजनाओं और कार्यों को फाइनल टच देने की तैयारी में है. आप-भाजपा-कांग्रेस ही यहां मुख्य पार्टियां हैं ऐसे में चुनाव में त्रिकोणीय लड़ाई देखने की उम्मीद जताई जा रही है. हालांकि, कुछ राजनीतिक पंडितों का मानना है कि कांग्रेस पिछली ही बार की तरह इस बार भी दूर-दूर तक मुकाबले में नजर नहीं आने जा रही है. दिवंगत शीला दीक्षित की गैर-मौजूदगी में कांग्रेस नेतृत्व काफी कमजोर नजर आ रही है. इसके अलावा पार्टी के प्रभारी पीसी चाको और शीला-दीक्षित के पुत्र संदीप दीक्षित के बीच की नोंक-झोंक से पहले ही पार्टी को बड़ा नुकसान उठाना पड़ रहा है. 

बता दें कि 2015 में दिल्ली विधानसभा चुनाव में आप ने 70 में से 67 सीटें पा कर ऐतिहासिक सीट दर्ज की थी. भाजपा ने 3 सीटों पर जीत दर्ज की थी तो कांग्रेस खाता भी नहीं खोल पाई थी.