close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कश्मीर सीमा के उस पार 500 आतंकी जबकि इस पार 200, लेकिन सुरक्षा को कोई खतरा नहीं

सेना की उत्तरी कमान के जनरल ऑफिसर कमांडिग इन चीफ ने देश का आश्वस्त किया है कि कश्मीर में सुरक्षा व्यवस्था को किसी तरह का खतरा नहीं है. हालांकि उन्होंने खुलासा किया कि नियंत्रण रेखा के उस पर ट्रेनिंग कैंपों में 500 आतंकवादी मौजूद हैं. जबकि घाटी में 200 से 300 आतंकी सक्रिय हैं. लेकिन सुरक्षा बलों की चौकसी के कारण उनके मंसूबे पूरे नहीं हो सकते हैं.   

कश्मीर सीमा के उस पार 500 आतंकी जबकि इस पार 200, लेकिन सुरक्षा को कोई खतरा नहीं
कश्मीर में सख्त चौकसी

श्रीनगर: सेना के वरिष्ठ अधिकारी लेफ्टिनेन्ट जनरल रनबीर सिंह ने जम्मू कश्मीर में सेना की तैनाती और सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेने के बाद कई अहम बातें बताई हैं. उन्होंने कहा कि सेना नियंत्रण रेखा और सीमा पर पूरी तरह मुस्तैद है जिसकी वजह से आतंकियों की एक नहीं चल रही है. उन्होंने बताया कि आतंकियों के पास हथियारों की भी भारी कमी हो गई है. 

सीमा पार 500 आतंकी
ले.जनरल रनबीर सिंह ने खुफिया इनपुट के आधार पर बताया कि सीमा पार के ट्रेनिंग कैंपों में 500 आतंकी मौजूद हैं और उन्हें ट्रेनिंग दी जा रही  है. यही नहीं घाटी में भी 200 से 300 आतंकी मौजूद हैं. लेकिन सैन्य बलों की चौकस निगाहों की वजह से वह कोई भी वारदात नहीं कर पा रहे हैं. 

उन्होंने बताया कि ''हमने एलओसी और बॉर्डर के आसपास पूरा दबाव बनाया हुआ है जिसकी वजह से  कश्मीर में आतंकवादी हथियारों की कमी का सामना कर रहे हैं, यही वजह है कि वे पुलिस स्टेशनों पर हमला कर पुलिस से हथियार छीनने की कोशिश कर रहे हैं''. 'हमारे पास पर घुसपैठ को रोकने का पूरा तंत्र मौजूद है और अगर फिर भी कोई घुसपैठ कर जाता है तो सेना के पास एंटी टेरर ग्रिड है जो घुसपैठियों से निपटने में सक्षम है.' 

कश्मीर में सुधर रहे हैं हालात
वरिष्ठ सैन्य अधिकारी ने जम्मू कश्मीर का दौरा करने के बाद कहा कि 'जम्मू कश्मीर में पत्थरबाजी की घटनाओं में कमी आई है. विरोध प्रदर्शनों में भी कमी आई है. आतंकी गतिविधियों में भी कमी आई. कुल मिलाकर हालात बेहतर हो रहे हैं.'
 
जवानों की सतर्कता प्रशंसनीय
लेफ्टिनेन्ट जनरल रनबीर सिंह ने कठोर परिस्थितियों में निरंतर सतर्कता बनाए रखने के लिए सैनिकों की प्रशंसा की। जवानों से संवाद के दौरान उन्होंने उभरती सुरक्षा चुनौतियों के लिए पूरी तरह से तैयार रहने की आवश्यकता पर बल दिया और सभी सुरक्षा बलों के बीच अनुकरणीय तालमेल की सराहना की।

घाटी के अंदरुनी हिस्सों का दौरा किया
उत्तरी कमान के जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ लेफ्टिनेंट जनरल रनबीर सिंह ने गुरुवार को कश्मीर घाटी का जायजा लिया उन्होंने चिनार कॉर्प्स कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्लों के साथ नियंत्रण रेखा के साथ-साथ एलओसी से सटे इलाकों और घाटी के अंदरूनी हिस्सों का दौरा किया।
घाटी में तैनात कमांडरों ने उन्हें वर्तमान स्थिति के बारे में जानकारी दी और घुसपैठ रोकने के लिए किए उठाए गए कदमों तथा आतंकियों के खिलाफ चलाए गए ऑपरेशनों की भी जानकारी दी। इस दौरान सैन्य अधिकारियों ने सुरक्षा में जुटे हुए सिपाहियों का हौसला बढ़ाया।