हिंदुस्तान का लॉकडाउन टेस्ट! दूसरा दिन कैसा रहा?

21 दिन के लॉकडाउन का 26 फरवरी दूसरा दिन था. देश कोरोना के खिलाफ जो सबसे बड़ा योगदान दे सकता है वो अनुशासन का ही है. यानी घर की लक्ष्मण रेखा को नहीं लांघ कर, घर पर ही रहकर आप और हम मिलकर इस लड़ाई को जीत सकते हैं. 21 दिन की अग्निपरीक्षा से देश को गुजरना है.

हिंदुस्तान का लॉकडाउन टेस्ट! दूसरा दिन कैसा रहा?

नई दिल्ली: देशभर में 25 मार्च से लागू हुए लॉकडाउन के दूसरे दिन अनुशासन बेहतर नजर आया. दुकानों पर खरीदारी करने पहुंचे लोगों ने खुद ही एक-दूसरे से दूरी बनाए रखी. 

कोरोना से जंग में 'महानायक' इंडिया

  • भारत ने पूरे देश में लॉकडाउन मिसाल पेश की 
  • भारत ने वायरस की जांच के लिए टेस्टिंग किट तैयार की 
  • टेस्टिंग किट तैयार होने से एक दिन में 1000 टेस्ट संभव 
  • पीएम मोदी की पहल पर G 20 देश कोरोना के खिलाफ एकजुट 
  • पीएम मोदी की पहल पर पाकिस्तान समेत सभी सार्क देश एकजुट 
  • WHO ने कोरोना की रोकथाम के लिए भारत के क़दमों की तारीफ की
  • अमेरिका ने भी भारत की तरफ से उठाए गए क़दमों को सराहा
  • चीन ने भी भारत की तरफ से उठाए गए क़दमों को सराहा

CM योगी आदित्यनाथ की बैठक में दिखी सोशल डिस्टेंसिंग

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की बैठक में भी सोशल डिस्टेंसिंग दिखाई दी. जहां अधिकारियों के बीच बैठने की जगह में फासला दिखाई दिया.

ममता बनर्जी अचानक पहुंच गई जनबाजार, फिर क्या हुआ?

वहीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी अचानक कोलकाता के जनबाजार पहुंच गईं और लोगों को घेरा बनाकर लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग की अहमियत समझाई.

ममता बनर्जी ने लोगों को समझाया की उन्हें फल सब्जी खरीदते हुए एक दूसरे से दूरी बनाकर रखनी है.

इटली ने की लापरवाही, भारत ने सतर्कता दिखाई

हिंदुस्तान के 135 करोड़ लोग मिलकर लॉकडाउन का पालन कर रहे हैं. लेकिन इटली में हालात भयावह हैं क्योंकि इटली ने पहला केस आने के बाद लॉकडाउन करने में देरी कर दी थी. लेकिन भारत ने वो गलती नहीं की है, अब पूरे देश को मिलकर इस लॉकडाउन की लक्ष्मण रेखा को मान रहा है और सोशल डिस्टेंसिंग भी सीख रहा है.

इसे भी पढ़ें: कोरोना के खिलाफ हिंदुस्तान का ग्लोबल युद्ध! G-20 देशों ने की भारत की तारीफ

देश की राजधानी दिल्ली समेत अन्य इलाकों और जम्मू में भी पीएम मोदी के मंत्र का असर यहां भी दिखाई दे रहा है. लेकिन निश्चित तौर पर लोगों को लॉकडाउन के प्रति जागरूकता ऐसे ही 21 दिनों तक दिखानी बेहद जरूरी है. क्योंकि अगर कोरोना जैसी महामारी से लड़ना है को घर में रहना है.

इसे भी पढ़ें: कोरोना के खिलाफ युद्ध में मोदी सरकार का 'ब्रह्मास्त्र'! देश को सबसे बड़ा तोहफा

इसे भी पढ़ें: कोरोना को देंगे मात इकोनॉमी के लौटेंगे अच्छे दिन!