महाराष्ट्रः ED ने दर्ज किया अनिल देशमुख के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का मामला

उन्होंने बताया कि देशमुख के खिलाफ केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) द्वारा दर्ज प्राथमिकी का अध्ययन करने के बाद धन शोधन रोकथाम कानून (PMLA) की धाराओं के तहत यह मामला दर्ज किया गया है. अधिकारी ने बताया कि प्रवर्तन निदेशालय (ED) अब देशमुख और अन्य लोगों को पूछताछ के लिए तलब कर सकता है.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : May 11, 2021, 12:54 PM IST
  • सीबीआई द्वारा की गई आरंभिक जांच के बाद ईडी (ED) ने यह मामला दर्ज किया
  • प्रवर्तन निदेशालय (ED) अब देशमुख और अन्य लोगों को कर सकता है तलब
महाराष्ट्रः  ED ने दर्ज किया अनिल देशमुख के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का मामला

नई दिल्लीः प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ धन शोधन रोकथाम कानून के तहत एक आपराधिक मामला दर्ज किया है. आधिकारिक सूत्रों ने मंगलवार को इस बारे में बताया.

ED कर सकता है पूछताछ
जानकारी के मुताबिक, उन्होंने बताया कि देशमुख के खिलाफ केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) द्वारा दर्ज प्राथमिकी का अध्ययन करने के बाद धन शोधन रोकथाम कानून (PMLA) की धाराओं के तहत यह मामला दर्ज किया गया है. अधिकारी ने बताया कि प्रवर्तन निदेशालय (ED) अब देशमुख और अन्य लोगों को पूछताछ के लिए तलब कर सकता है.

बंबई हाई कोर्ट ने दिया है आदेश
बंबई उच्च न्यायालय के आदेश पर नियमित मामला दर्ज कर सीबीआई द्वारा की गई आरंभिक जांच के बाद ईडी (ED) ने यह मामला दर्ज किया है. बंबई उच्च न्यायालय ने मुंबई पुलिस के पूर्व आयुक्त परमबीर सिंह द्वारा देशमुख के खिलाफ लगाए गए घूस के आरोपों की जांच करने को कहा था.

यह भी पढ़िएः Pappu Yadav Arrested: गिरफ्तारी के बाद पप्पू यादव की हुंकार, 'दे दो फांसी या भेज दो जेल..'

बेटे भी CBI जांच के दायरे में आए
अनिल देशमुख के दो बेटों सलिल देशमुख और हृषिकेश देशमुख की स्वामित्व वाली आधा दर्जन से अधिक फर्मों में से एक कोलकाता की कंपनी है जो केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) की जांच के दायरे में आई है. जानकारी के मुताबिक कोलकाता की कंपनी एक ऐसे पते से चल रही है जो शेल कंपनियों का एक हॉटस्पॉट है.

जानकारी के मुताबिक देशमुख के बेटों सलिल देशमुख और हृषिकेश देशमुख के स्वामित्व वाली कंपनियों के वित्तीय रिकॉर्ड की जांच की जा रही है, जिसमें कोलकाता स्थित जोडिएक डीलकॉम (Zodiac Dealcom) कंपनी भी शामिल है.

आरोप लगाने वाले अधिकारी ने मांगी सुरक्षा
मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह एवं अन्य अधिकारियों के खिलाफ भ्रष्टाचार का आरोप लगाने वाले पुलिस अधिकारी भीमराव घडगे ने जान को खतरा होने का दावा करते हुए स्वयं के लिए और अपने परिवार के लिए सुरक्षा मांगी है.
अकोला में तैनात घडगे ने सुरक्षा मुहैया कराए जाने की मांग को लेकर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, राज्य के गृह मंत्री दिलीप वालसे पाटिल और राज्य के पुलिस महानिदेशक को पत्र भेजा है.

परिवार के लिए जताई चिंता
उन्होंने मीडिया से कहा, ‘‘मुझे और मेरे परिवार को आरोपियों से जान का खतरा है. मैंने खुद के लिए और अपने परिवार के सदस्यों के लिए सशस्त्र पुलिसकर्मियों की सुरक्षा प्रदान करने की मांग की है. मेरे परिवार के सदस्य मुंबई के पास कल्याण में रहते हैं.''

घडगे ने दावा किया, ''मैं यहां अकोला में तैनात हूं जबकि मेरा परिवार कल्याण में रहता है. मैं उनको लेकर चिंतित हूं क्योंकि वे लोग कुछ भी कर सकते हैं.''

हालांकि नहीं मिली है कोई धमकी
पुलिस निरीक्षक घडगे ने कहा कि उन्हें कोई धमकी भरा फोन कॉल या संदेश प्राप्त नहीं हुआ है. उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन कोई आपको हमला करने से पहले सूचना नहीं देगा.’’

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.  

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़