गांधी परिवार पर देश को भरोसा नहीं, कांग्रेस ने मनमोहन सिंह के कंधे पर रखी बंदूक

भारत और चीन के बीच जारी तनातनी पर जिस स्तर की राजनीति गांधी परिवार ने की है उससे देशवासियों के मन में उसकी विश्वसनीयता खत्म हो गयी है. अब कांग्रेस ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कंधे पर बंदूक रखकर चलाई है.  

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Jun 22, 2020, 12:46 PM IST
    • प्रधानमंत्री देश को स्पष्ट बात बताएं- मनमोहन सिंह
    • मनमोहन सिंह को गांधी परिवार की ढाल बना रही कांग्रेस
    • पीएम मोदी चीन की चुनौती का करें सामना- मनमोहन
गांधी परिवार पर देश को भरोसा नहीं, कांग्रेस ने मनमोहन सिंह के कंधे पर रखी बंदूक

नई दिल्ली: चीन के साथ चल रहे गतिरोध पर कांग्रेस की निम्न स्तर की बेहत निकृष्ट राजनीति से देश उंस खफा है. राहुल गांधी और सोनिया गांधी के सेना विरोधी बयानों से सैनिकों के मनोबल पर बुरा असर पड़ा और कांग्रेस ने चीन के खिलाफ भारत के दावों और देश की सुरक्षा पर जो कुठाराघात किया है उससे देशवासियों में कांग्रेस के खिलाफ बहुत आक्रोश है. कांग्रेस ने अपने मंसूबों को सार्थक करने के लिए पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को आगे कर दिया है. भारत चीन तनाव पर मनमोहन सिंह साढ़े शब्दों वही टिप्पणी की है जो कांग्रेस के एजेंडे को आगे बढ़ा सके.

प्रधानमंत्री देश को स्पष्ट बात बताएं

डॉ मनमोहन सिंह ने कहा कि देश इस समय बहुत संकट और नाजुक दौर से गुजर रहा है. उन्होंने कहा कि चीन ने अप्रैल, 2020 से लेकर आज तक भारतीय सीमा में गलवान वैली एवं पांगोंग त्सो लेक में अनेकों बार जबरन घुसपैठ की है. मोदी सुनिश्चित करना चाहिए कि सरकार के सभी अंग इस खतरे का सामना करने व स्थिति को और ज्यादा गंभीर होने से रोकने के लिए परस्पर सहमति से काम करें.

मनमोहन सिंह को गांधी परिवार की ढाल बना रही कांग्रेस

राहुल गांधी और सोनिया गांधी ने जो बयानबाजी की है उससे देश में उनके प्रति आक्रोश है. देशवासियों के सामने गांधी परिवार का काला चेहरा उजागर हो गया है. कांग्रेस को गांधी परिवार की इमेज बचाने के लिए पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का सहारा लेना पड़ा है.

ये भी पढ़ें- 'ड्रैगन' को 'दहलाने' रूस जा रहे हैं रक्षामंत्री, जानिये क्या है S- 400 सुरक्षा कवच

गांधी परिवार के चीन के साथ किये गए गुप्त समझौतों की बाते तेज हो चुकी हैं. नेहरू से लेकर राहुल और सोनिया गांधी तक कांग्रेस को उनके कुकर्मों और चीन भक्ति पर जवाब देना मुश्किल हो रहा था. ये वही मनमोहन सिंह हैं जिनकी सरकार में चीन को सिर उठाने का मौका दिया गया और देश की अखंडता और संप्रभुता पर चोट करने का अवसर दिया गया था.

ये भी पढ़ें- चीन ने की गड़बड़ तो गोली चलेगी छाती पर, लाश मिलेगी घाटी पर

पीएम मोदी चीन की चुनौती का करें सामना

मनमोहन सिंह ने कहा कि हम सरकार को आगाह करेंगे कि भ्रामक प्रचार कभी भी कूटनीति तथा मजबूत नेतृत्व का विकल्प नहीं हो सकता. उन्होंने राहुल गांधी की चीन समर्थित राजनीति का मौन समर्थन करते हुए कहा कि पिछलग्गू सहयोगियों द्वारा प्रचारित झूठ के आडंबर से सच्चाई को नहीं दबाया जा सकता. हम प्रधानमंत्री व केंद्र सरकार से आग्रह करते हैं कि वो वक्त की चुनौतियों का सामना करें और सेना के जवानों की शहादत का बदला लें. मनमोहन सिंह ने राहुल गांधी के विवादित और निकृष्ट बयानों पर कुछ न बोलकर उनकी निम्न सियासत का मौन समर्थन किया है.

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़