मन की बातः पीएम मोदी ने की एनसीसी के अनुशासन की तारीफ, बोले-मैं खुद भी कैडेट रहा हूं

 प्रधानमंत्री मोदी ने रविवार को 59वीं बार मन की बात की. इस दौरान उन्होंने एनसीसी कैडेट्स, पर्यटन,  फिट इंडिया और अयोध्या मामले जैसे मसलों पर बात की. प्रधानमंत्री मोदी ने कैडेट्स को बधाई दी और उनके अनुशासन की तारीफ की.

मन की बातः पीएम मोदी ने की एनसीसी के अनुशासन की तारीफ, बोले-मैं खुद भी कैडेट रहा हूं

नई दिल्ली. मन की बात कार्यक्रम के तहत प्रधानमंत्री मोदी ने रविवार को राष्ट्र के नाम संदेश दिया. 59वीं बार देशवासियों से हुई इस बातचीत इस बार किशोरों व युवाओं पर केंद्रित रही. उन्होंने एनसीसी और इसके कैडेट्स की प्रशंसा की. कहा कि नवंबर का चौथा रविवार हर साल एनसीसी डे के रूप में मनाया जाता है. मैं भी आप ही की तरह कैडेट रहा हूं और आज भी मन से खुद को कैडेट मानता हूं. दुनिया के सबसे बड़े यूनिफॉर्म्ड यूथ ऑर्गनाइजेशन में भारत की एनसीसी एक है. इसमें सेना, नौ-सेना, वायुसेना तीनों शामिल हैं. मोदी ने यह भी कहा कि लीडरशिप, देशभक्ति, सेल्फलेस सर्विस, अनुशासन और कड़ी मेहनत इन सबको अपने चरित्र का हिस्सा बनाएं. अपनी आदत बनाने की एक रोमांचक यात्रा मतलब है एनसीसी. 

फिटनेस के लिए की जागरूकता की अपील
प्रधानमंत्री ने कहा, 7 दिसंबर को आर्म्ड फोर्सेज फ्लैग डे मनाया जाता है. इस दिन है हम अपने सशस्त्र बलों के सहयोग को याद करते हैं. हर किसी के पास उस दिन आर्म्ड फोर्सेज का फ्लैग होना ही चाहिए. हम वीर सैनिकों का स्मरण करें. फिट इंडिया मूवमेंट से आप परिचित हो गए होंगे. स्कूल्स फिट इंडिया मूवमेंट दिसंबर में कभी भी मना सकते हैं.

इसमे बच्चे चित्रकारी, खेलकूद प्रतियोगिताएं और योग में शामिल हो सकते हैं. बच्चों को इसमें पसीना बहाना है. अधिकतम फोकस्ड एक्टिविटी करनी हैं. उन्होंने कहा कि मैं स्कूलों से आग्रह करता हूं कि हर जगह फिट इंडिया सप्ताह मनाएं. इससे शारीरिक स्वास्थ्य और फिटनेस के लिए जागरूकता आती है और एकाग्रता बढ़ती है. सभी स्कूल फिट इंडिया रैंकिंग में शामिल हों और फिट इंडिया को सहज स्वभाव बनाएं. जरूरी है कि यह एक जनआंदोलन बने.

स्कूलों को मिलेगी रैंकिंग
फिट इंडिया मूवमेंट में फिटनेस को लेकर स्कूलों की रैंकिंग की व्यवस्था की गई है. इसे पाने वाले सभी स्कूल, फिट इंडिया लोगो और फ्लैग का इस्तेमाल कर पाएंगे. फिट इंडिया पोर्टल पर जाकर स्कूल खुद को फिट घोषित कर सकते हैं. फिट इंडिया के तहत उन्हें फिट इंडिया 3 स्टार और 5 स्टार रेटिंग दी जाएगी. इसके आधार पर यह तय होगा कि किस स्कूल के बच्चे कितने फिट हैं. इसके जरिए एक सक्रिय राष्ट्र और सशक्त भारत बनाने की पहल की जा रही है. 

मंदिर मामले पर की बात
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 9 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट से आए अयोध्या फैसले को लेकर भी बात की. उन्होंने कहा कि पिछली मन की बात में उन्होंने इलाहाबाद कोर्ट के आए फैसले को लेकर जिक्र किया था कि कैसे देशवासियों ने उस दौरान शांति बनाए रखी थी. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इस बार 9 नवंबर को आयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद जिस तरह देशवासियों ने शांति बनाए रखी उसने यह साबित कर दिया कि 130 करोड़ भारतवासियों के लिए देशहित से बढ़कर कुछ नहीं है. उन्होंने अक्टूबर में भी इस मामले में बात की थी और शांति बनाए रखने की अपील की थी. 

घूमने जाने के लिए नॉर्थ ईस्ट जाने का दिया सुझाव
प्रधानमंत्री ने फिल्मों से जुड़े और भारत के पर्यटन स्थलों से संबंधित जवाब भी दिया. उन्होंने बताया कि उनकी टीवी व फिल्मों में रुचि नहीं है और अब उन्हें किताब पढ़ने का भी समय नहीं मिल पाता है. प्रधानमंत्री का कहना है कि दूसरों की तरह उनकी भी थोड़ी आदत बिगड़ गई है और वह चीजों के बारे में पता करने के लिए गूगल का सहारा लेने लगे हैं.

प्रधानमंत्री मोदी ने बताया कि हिमालय उन्हें काफी प्रिय है. इसके साथ ही सुझाव दिया कि यदि कोई प्रकृति को नजदीक से महसूस करना चाहे तो उन्हें नॉर्थ ईस्ट जरूर जाना चाहिए.

क्या कर्नाटक-गोवा के रास्ते पर पहुंच गई है महाराष्ट्र की विधानसभा

एनसीसी डे पर अपनी सजा का भी जिक्र किया
एनसीसी कैडेट्स से बात करते समय प्रधानमंत्री ने नरेंद्र मोदी ने उन्हें एनसीसी डे की बधाई दी और उनके सवालों का भी जवाब दिया. नगालैंड की विनोले किसो ने उनसे सवाल किया कि क्या उन्हें कभी एनसीसी में सजा मिली थी? इस पर प्रधानमंत्री ने हंसते हुए जवाब दिया कि उन्हें कभी सजा नहीं मिली.

इस दौरान उन्होंने एक घटना का जरूर जिक्र किया और बताया कि एक बार वह पेड़ पर चढ़ गए थे, जिसके बाद उन्हें लगा था कि उन्हें सजा मिलेगी. लेकिन जब बाकी लोगों को पता चला कि वह मांझे में फंसे एक पक्षी को बचाने के लिए पेड़ पर चढ़े थे तो उन्हें फिर तारीफ मिली.

LIVE: महाराष्ट्र के चुनावी घमासान का हर अपडेट एक साथ...