close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कश्मीरियों की जिंदगी में अंधेरा भर रहे हैं पाकिस्तान परस्त आतंकवादी

कश्मीर घाटी में धारा 370 हटाए जाने के बाद भी कश्मीरी अवाम ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी. इससे पाकिस्तान और उसके भाड़े के टट्टू आतंकवादी बौखलाए हुए हैं. इसलिए वह जानबूझकर ऐसे कदम उठा रहे हैं. जिससे देश के साथ साथ कश्मीरियों का सीधा नुकसान हो. 

कश्मीरियों की जिंदगी में अंधेरा भर रहे हैं पाकिस्तान परस्त आतंकवादी
कश्मीर को अंधेरा करने की आतंकवादी रच रहे हैं साजिश

श्रीनगर: पाकिस्तान के पालतू आतंकवादियों ने कश्मीरियों की जिंदगी में अंधेरा भरने में कोई कसर नहीं छोड़ी है. पिछले कुछ दिनों से उन्होंने ऐसी हरकतें शुरु कर दी हैं. कश्मीरी जनता पाकिस्तान के इशारे पर सड़क पर विरोध नहीं कर रही है. जिसकी वजह से आतंकी आम कश्मीरियों को नुकसान पहुंचाने वाले कदम उठा रहे हैं.  

बिजली के टावरों को बना रहे हैं निशाना
कश्मीर में आतंकियों का नया निशाना बिजली के टॉवर बन गए हैं. जिससे सुरक्षा अधिकारी तो चिंतित हैं ही, आम कश्मीरी जनता भी बेहद परेशान है. दक्षिण कश्मीर के शोपियां  जिले में सर्च ऑपरेशन में दौरान चित्रगाम इलाके में 400 मेगावॉट की दो ट्रांसमिशन लाइनें कटी हुई पाई गईं. यहां एक ट्रक पर हमला किया गया था, जिसमें दो ट्रक चालक मारे गए थे और एक घायल हो गया था. इस हमले के बाद सेना, जम्मू-कश्मीर पुलिस और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल की संयुक्त टीम गांव से गुजर रही थी. जिन्होंने जांच की तो पता चला की हमले की जगह से कुछ मीटर की दूरी पर एक ट्रांसमिशन टॉवर क्षतिग्रस्त था. इस टावर को नुकसान पहुंचाने के लिेए गैस कटर का इस्तेमाल किया गया था.
सुरक्षा अधिकारियों ने जानकारी दी कि आतंकवादियों ने गैस कटर से इस बड़े टावर के दो हिस्सों को काट लिया था. ऐसा लगता है कि बाद में गैस खत्म हो गई जिसके चलते बाकी हिस्सों को नहीं काट पाए. 

बिजली बाधित होने से परेशानी में पड़ सकते हैं आम कश्मीरी
जम्मू कश्मीर में ठंड बहुत ज्यादा पड़ती है. ऐसे में बिजली कटने से आम कश्मीरियों का जीना दुश्वार हो सकता है. लेकिन आतंकवादियों को इसकी चिंता नहीं है. बिजली की कमी से पूरे कश्मीर का बुनियादी ढांचा लड़खड़ा जाएगा. कश्मीर में 400 मेगा वाट किशनपुर-लहरूर ट्रांसमिशन लाइन घाटी के कई हिस्सों में बिजली वितरित करती है. इसका रखरखाव पावर ग्रिड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड करती है. 

बिजली सप्लाई को बचाए रखना बड़ी चुनौती
कश्मीर में ऐसे कई बिजली के टावर हैं, जो कि दूर दराज के इलाकों में स्थित हैं. अगर आतंकवादी इन सभी टावरों को गैस कटर से काटने लगे तो कश्मीर के लोग बेहद बुरी स्थिति में फंस जाएंगे. कश्मीर में सैकड़ो ऐसे बिजली के टावर हैं जिन्हें बड़ी आसानी से निशाना बनाया जा सकता है. आतंकवादी पहले भी मोबाइल टावरों को निशाना बना चुके हैं. लेकिन बिजली के टावरों को नुकसान पहुंचाना ज्यादा घातक साबित होगा. 

आम कश्मीरियों से नाराज हैं आतंकवादी
पाकिस्तान के पैसों पर पलने वाले कश्मीरी आतंकवादी आम कश्मीरी जनता से बेहद नाराज हैं. क्योंकि कश्मीरी जनता पाकिस्तान के इशारे पर सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन नहीं कर रही है. जिसकी वजह से पाकिस्तान धारा 370 हटाए जाने को अंतरराष्ट्रीय प्रोपगैंडा बनाने में विफल रहा है. क्योंकि यहां जमीनी स्तर पर कोई विरोध दिखाई नहीं दे रहा है. इसीलिेए पाकिस्तानी आतंकवादी बिजली सप्लाई को बाधित करके कश्मीरियों को सबक सिखाना चाहते हैं. 

सेब का व्यापार कर चुके हैं ठप
पिछले कुछ दिनों में कश्मीर घाटी में सेब के कई ट्रक जला दिए गए हैं और सेब व्यापारियों पर हमला किया जा रहा है. जिसकी वजह से कश्मीरी सेब वहां के बागानों में ही सड़ रहे हैं. देश के बाकी हिस्सों में उनकी सप्लाई बाधित हो गई है. लेकिन इसकी वजह से कश्मीरी लोगों को भारी आर्थिक नुकसान उठाना पड़ रहा है. 

सेब का व्यापार रोकने के बाद आतंकी बिजली सप्लाई को निशाना बनाकर कश्मीरी जनता की मुसीबतें बढ़ाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं.