जानिए कौन सी कोरोना वैक्सीन बच्चों के लिए है सुरक्षित?

स्टडी में ये माना गया है कि मॉडर्ना, प्रोटीन आधारित कोविड वैक्सीन बच्चों के उपयोग के लिए सुरक्षित है.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Jun 16, 2021, 09:19 PM IST
  • मॉडर्ना की MRNA कोविड वैक्सीन
  • बच्चों के उपयोग के लिए सुरक्षित है!

ट्रेंडिंग तस्वीरें

जानिए कौन सी कोरोना वैक्सीन बच्चों के लिए है सुरक्षित?

नई दिल्ली: मॉडर्ना की एमआरएनए कोविड वैक्सीन और एक प्रोटीन-आधारित शॉट छोटे बच्चों के उपयोग के लिए सुरक्षित है और बिना किसी प्रतिकूल प्रभाव के मजबूत प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया प्रदान करती है. बेबी रीसस मैकाक्स पर एक शोध में यह दावा किया गया है.

22 सप्ताह तक बनी रहीं एंटीबॉडी प्रतिक्रियाएं

चैपल हिल, वेइल कॉर्नेल मेडिसिन एंड न्यूयॉर्क-प्रेस्बिटेरियन में यूनिवर्सिटी ऑफ नॉर्थ कैरोलिना (यूएनसी) के वैज्ञानिकों की एक टीम द्वारा किए गए अध्ययन में बताया गया है कि दोनों टीकों ने बेबी रीसस मैकाक्स के साथ सार्स-सीओवी-2 के लिए मजबूत न्यूट्रलाइजिंग एंटीबॉडी प्रतिक्रियाएं प्राप्त कीं, जो वायरस कोविड-19 का कारण बनता है. इसमें पाया गया कि एंटीबॉडी प्रतिक्रियाएं 22 सप्ताह तक बनी रहीं.

साइंस इम्यूनोलॉजी जर्नल में प्रकाशित शोध से पता चलता है कि छोटे बच्चों के लिए टीके महामारी को कम करने के लिए महत्वपूर्ण एवं सुरक्षित उपकरण हैं.

यूएनसी स्कूल ऑफ मेडिसिन में माइक्रोबायोलॉजी और इम्यूनोलॉजी प्रोफेसर क्रिस्टीना डी पेरिस ने कहा, हमने देखा है कि शक्तिशाली एंटीबॉडी का स्तर वयस्क मैकाक्स में देखा गया है, भले ही खुराक 100 माइक्रोग्राम वयस्क खुराक के बजाय 30 माइक्रोग्राम रही.

रोग की गंभीरता को करेगा सीमित

उन्होंने कहा, मॉडर्ना वैक्सीन के साथ, हमने विशिष्ट मजबूत टी सेल प्रतिक्रियाओं को भी देखा है, जो हम जानते हैं कि रोग की गंभीरता को सीमित करने के लिए महत्वपूर्ण हैं.

सार्स-सीओवी-2 शिशु टीकाकरण का मूल्यांकन करने के लिए, शोधकतार्ओं ने 2.2 महीने की उम्र में और इसके 4 सप्ताह बाद 8 बेबी रीसस मैकाक्स के दो समूहों का टीकाकरण किया.

प्रत्येक जानवर को दो वैक्सीन प्रकारों में से एक प्राप्त हुई, जिसमें मॉडर्ना एमआरएनए वैक्सीन का प्रीक्लिनिकल वर्जन या एक प्रोटीन आधारित वैक्सीन शामिल रही, जो कि नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के एक हिस्से, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एलर्जी एंड इंफेक्शियस डिजीज (एनआईएआईडी) के वैक्सीन रिसर्च सेंटर द्वारा विकसित प्रोटीन-आधारित वैक्सीन है.

दोनों टीकों ने सार्स-सीओवी-2 और स्पाइक प्रोटीन-विशिष्ट टी सेल प्रतिक्रियाओं -आईएल-17, आईएफएन-जी और टीएनएफ के खिलाफ एंटीबॉडी को निष्क्रिय करने वाले आईजीजी के उच्च परिमाण को प्राप्त किया. इन्हें टी हेल्पर 1 प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया कहा जाता है.

इसे भी पढ़ें- चाचा के खिलाफ चिराग की दहाड़, कहा- ‘शेर का बेटा हूं’

महत्वपूर्ण रूप से, वैक्सीन ने टी हेल्पर टाइप 2 प्रतिक्रियाएं नहीं दीं, जो शिशुओं में टीके की प्रभावकारिता और सुरक्षा के लिए हानिकारक हो सकती हैं.

इसे भी पढ़ें- UPI के इस्तेमाल को लेकर जारी हुआ अलर्ट, बरतें यह सावधानी नहीं तो खाली हो जाएगा बैंक अकाउंट

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़