close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सरसंघचालक मोहन भागवत बोले, 'भारत में हैं विश्व के सबसे ज्यादा सुखी मुसलमान'

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के मुखिया मोहन भागवत ने बुद्धिजीवियों की एक सभा को संबोधित करते हुए ये कह दिया कि दुनिया में सबसे ज्यादा खुश मुसलमान हिंदुस्तान में है

सरसंघचालक मोहन भागवत बोले, 'भारत में हैं विश्व के सबसे ज्यादा सुखी मुसलमान'
मोहन भागवत, सरसंघचालक (File Photo)

नई दिल्ली: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि संघ को किसी से नफरत नहीं है. भुवनेश्वर में बुद्धिजीवियों की एक सभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि आरएसएस का उद्देश्य भारत में परिवर्तन के लिए सभी समुदायों को संगठित करने का है, न सिर्फ हिंदू समुदाय को. 

हिटलर और मुसोलिनी से जोड़ना गलत

मोहन भागवत ने कहा कि लोग राष्ट्रवाद को हिटलर और मुसोलिनी से जोड़ लेते हैं, जो कि गलत है. भारत में राष्ट्रवाद ऐसा नहीं है, क्योंकि यह राष्ट्र अपनी सामान्य संस्कृति से बना है.

देश एक डोर में बंधा

भारत की विविधता की तारीफ करते हुए आरएसएस प्रमुख ने कहा कि इसने देश को एक डोर में बांधा हुआ है. यहां के लोग विविध संस्कृति, भाषा और भौगोलिक स्थानों के बावजूद खुद को भारतीय मानते हैं. इस अद्वितीय अहसास के कारण मुस्लिम, पारसी या अन्य मजहबों में विश्वास रखने वाले लोग खुद को यहां सुरक्षित समझते हैं.

भारत में हैं सबसे सुखी मुसलमान

आरएसएस प्रमुख ने कहा कि यहूदी मारे-मारे फिरते थे, लेकिन उन्हें भारत में आश्रय मिला। पारसियन (पारसी) की पूजा और मूल धर्म केवल भारत में सुरक्षित हैं। उन्होंने कहा कि विश्व के सर्वाधिक सुखी मुसलमान भारत में मिलेंगे. यह इसिलए है क्योंकि  हम हिंदू हैं. 

समाज में बदलाव लाना जरूरी

मोहन भागवत ने कहा कि समाज में बदलाव लाना जरूरी है ताकि देश का भाग्य बदले. इसके लिए ऐसे लोगों को तैयार करना होगा, जिनका चरित्र साफ सुथरा हो, जो प्रत्येक सड़क, गांव और शहर में नेतृत्व रखने की क्षमता रखें. यह हमारी इच्छा है कि आरएसएस और समाज एक सिंगल ग्रुप की तरह मिलकर काम करे.

संघ प्रमुख शनिवार को नौ दिन के दौरे पर ओडिशा पहुंचे हैं. सूत्रों के मुताबिक, वह अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की पहली बैठक में शिरकत करेंगे. इस दौरान उनके साथ भैयाजी जोशी भी होंगे. उन्होंने बताया कि आरएसएस कार्यकारिणी समिति की बैठक एक निजी विश्वविद्यालय में 16 से 18 अक्तूबर तक होगी.