अयोध्या पर सुप्रीम फैसले के बाद NSA अजित डोवल ने बुलाई सभी धर्मों की अहम बैठक

देश के सबसे पुराने केस और विवादित मामले का निपटारा हो गया है. राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला आने के बाद राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोवल ने सभी धर्मगुरुओं की बैठक आज अपने आवास पर बुलाई थी.

अयोध्या पर सुप्रीम फैसले के बाद NSA अजित डोवल ने बुलाई सभी धर्मों की अहम बैठक

नई दिल्ली: सालों से चल रहे अयोध्या राम मंदिर पर शनिवार को सुप्रीम कोर्ट का फैसला आया. सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद आम आदमी, अलग-अलग पार्टियों के राजनेता से लेकर फिल्मी सितारों ने भी सोशल मीडिया या मीडिया कवरेज में अपने विचारों को साझा किया. कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हुए उसे स्वीकार किए जाने की अपील की गई.

बैठक में एकता और भाईचारा बनाए रखने की अपील

अयोध्या पर फैसले को देखते हुए दिल्ली में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोवल ने अपने घर पर सभी धर्मों के नेताओँ की बैठक बुलाई. इसमें अलग अलग धर्मों को मानने वाले धर्मगुरु पहुंचे. इस अहम बैठक में बाबा रामदेव, स्वामी परमात्मानंद, स्वामी अवधेशानद, स्वामी चिदानंद सरस्वती, शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे जव्वाद और दूसरे धर्मगुरू पहुंचे. सबने एकता और भाईचारा बनाए रखने की अपील की.

बाबा रामदेव का शांति संदेश

इस बैठक में योगगुरू स्वामी रामदेव ने कहा कि हिंदू मस्जिद बनाने में और मुस्लिम मंदिर बनाने में भी सहयोग करें तो कौमी एकता की एक मिसाल कायम होगी. और ये सिलसिला जारी रहेगा. उन्होंने ये भी कहा कि जो लोग नफरत की दीवारें खड़ी करना चाहते हैं वो कुछ नहीं कर पाएंगे.

पिक...

इसके अलावा शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे जव्वाद ने कहा कि 'किसी किस्म का कोई दंगा फसाद नहीं होना चाहिए. और विवाद भी नहीं होना चाहिए. जो माहौल जैसा है वहीं रहना चाहिए. यही एकता की मिसाल है.'

शनिवार को भी एनएसए अजित डोवल ने अवधेशानंद गिरि, स्वामी परमात्मानंद और बाबा रामदेव से उनके आवास पर मुलाकात की थी.

सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

फैसले से पहले ही अयोध्या के साथ-साथ ही पूरे देश की सुरक्षा बढ़ा दी गई थी. क्योंकि विपरीत प्रवृति के लोग हमेशा से देश को धर्म का मुद्दा बनाते रहे हैं लेकिन इस बार देश ने भाइचारे व धर्म के प्रति सम्मान दिखाकर नया आयाम पेश किया है. फैसले को आए 1 दिन हो चुका है और पूरे देश में शांति कायम है.

इसे भी पढ़ें: निर्माण के बाद ऐसा दिखेगा राम मंदिर! क्या पहले से तैयार है मॉडल?

सरकार इस मुद्दे पर बिल्कुल ढिलाई नहीं बरतनी चाहती. अयोध्या को लेकर सुप्रीम कोर्ट के इस ऐतिहासिक फैसले के बाद पूरे देश में शांति, सद्भाव और सौहार्द की तस्वीरें देखने को मिल रही हैं. इसी को बरकरार रखने के मकसद के साथ देश के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोवल ने ये अहम बैठक बुलाई.