सिद्धू ने सोनिया को लिखी चिट्ठी, गांधी परिवार को दी चुनौती

नवजोत सिंह सिद्धू ने हाल ही में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया को चिट्ठी लिखी है. इस खत के जरिए उन्होंने अपनी ही सरकार पर निशाना साधा है. सिद्धू ने सोनिया गांधी को 4 पेज की चिट्ठी में 13 मुद्दों का जिक्र किया है.

Written by - Shivam Pratap | Last Updated : Oct 17, 2021, 01:43 PM IST
  • नवजोत सिंह सिद्धू ने सोनिया गांधी को 4 पन्नों की चिट्ठी लिखी है
  • 4 पन्नों के इस खत में उन्होंने 13 अहम मुद्दों को लेकर जिक्र किया है
सिद्धू ने सोनिया को लिखी चिट्ठी, गांधी परिवार को दी चुनौती

नई दिल्ली: पंजाब कांग्रेस में बीते 6 महीने से लगातार बवाल चल रहा है. पहले जहां नवजोत सिंह सिद्धू को पंजाब कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष बनाने के बाद विवाद हुआ, वहीं CM कैप्टन अमरिंदर सिंह को हटाकर चरनजीत सिंह चन्नी को CM बनाया गया था, लेकिन उसके बाद सिद्धू ने अपने पद से इस्तीफा देकर हर किसी को चौंका दिया था.

सिद्धू ने अपनी ही सरकार पर साधा निशाना

हालांकि, बेहद मान-मनौव्वल के बाद सिद्धू मान गए और उन्होंने कहा कि वो प्रदेश अध्यक्ष पद पर बने रहेंगे. ऐसे में माना जा रहा था कि अब पंजाब कांग्रेस में चल रहे बवाल का खात्मा हो जायेगा, लेकिन आज रविवार को पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने एक बार फिर अपनी ही सरकार पर निशाना साधा है.

सिद्धू ने सोनिया गांधी को लिखी 4 पन्नों की चिट्ठी

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को 4 पेज की चिट्ठी में 13 मुद्दों का जिक्र किया है.

सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखकर सिद्धू ने कहा है कि पंजाब में एक दलित को सीएम बनाया गया लेकिन राज्य भर के दलित समाज को समान प्रतिनिधित्व नहीं मिला. मजहबी सिख समाज से एक, पिछड़े समाज से दो और दोआबा इलाके से मंत्री बनाने चाहिए.

सिद्धू ने इन 13 मुद्दों का किया जिक्र

सिद्धू ने जिन 13 मुद्दों का जिक्र किया है उसमें बेअदबी के मामले में न्याय, ड्रग्स, कृषि, बिजली, सरकार और बिजली कंपनियों के बीच हुए समझौतों को रद्द करने, अनुसूचित जाति और पिछड़ों का विकास, रोजगार, सिंगल विंडो सिस्टम, महिला और युवाओं का सशक्तिकरण, शराब, रेत खनन और ट्रांसपोर्ट शामिल है. सिद्धू ने यह चिट्ठी अपना इस्तीफा वापस लेने के एक दिन बाद ही लिखी है.

सोनिया गांधी ने कड़े शब्दों में कही थी महत्वपूर्ण बात

शनिवार को हुई कांग्रेस वर्किंग कमिटी की बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने नेताओं को संबोधित करते हुए कड़े शब्दों के साथ महत्वपूर्ण बात कही है, 'मैंने हमेशा साफगोई की सराहना की है... मुझसे मीडिया के जरिये बात करने की जरूरत नहीं है.' हालांकि जो राहुल गांधी और सोनिया गांधी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर इल्जाम लगाते हैं कि केंद्र सरकार ने देश में बोलने की इजाजत खत्म कर रखी है, वही कांग्रेस नेतृत्व अपने ही साथी नेताओं को खामोश रहने का एकतरफा फरमान जारी कर रहा है. बहरहाल सोनिया गांधी के इस बयान को G 23 नेताओं से जोड़कर देखा जा रहा है.

सिद्धू ने गांधी परिवार को दी चुनौती

सोनिया गांधी के अहम चेतावनी के बावजूद सिद्धू ने अपनी चिट्ठी ट्विटर पर लिखी जो सार्वजनिक प्लेटफार्म है, ऐसे में सवाल खड़ा होता है कि क्या सिद्धू सीधे तौर पर गांधी परिवार को चुनौती दे रहे हैं क्योंकि पहले राहुल गांधी और प्रियंका के फैसले पर उन्हें जब अध्यक्ष बनाया गया तो उन्होंने अचानक इस्तीफा देकर गांधी परिवार की जमकर छीछालेदर कराई, और अब एक बार ट्विटर और मीडिया के जरिए चिट्ठी लिखकर उन्होंने सीधा सोनिया गांधी को ही आइना दिखा दिया है.

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़