close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

विजयादशमी पर नक्सलियों की कायराना करतूत, मुठभेड़ में एक नक्सली ढेर

दशहरे के मौके पर नक्सलियों की एक और कायराना हरकत सामने आई है. छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले के कतेकल्याण पुलिस थाने के अंतर्गत आने वाले जंगल के क्षेत्र में नक्सलियों ने जिला रिजर्व गार्ड पर हमला किया. जवाबी कार्रवाई में एक नक्सली को ढ़ेर तो कर दिया गया, लेकिन डीआरजी का एक जवान भी शहीद हो गया. ऐसे ही कुछ पुराने नक्सली हमले पर एक नजर डालते हैं.

विजयादशमी पर नक्सलियों की कायराना करतूत, मुठभेड़ में एक नक्सली ढेर
फाइल फोटो

रायपुर: विजयादशमी के मौके पर भी नक्सली अपनी कायराना करतूत से बाज नहीं आ रहे हैं. घटना छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले की है, जहां जंगली इलाके में नक्सलियों ने जिला रिजर्व गार्ड पर हमला बोल दिया. इस हमले का माकूल जवाब देते हुए डीआरजी ने एक नक्सली को मौत के घाट उतार दिया. हालांकि इस मुठभेड़ में एक जवान भी शहीद हो गया. आपको पूरी घटनाक्रम सिलसिलेवार तरीके से समझाते हैं.

दरअसल, दंतेवाड़ा जिले के कतेकल्याण पुलिस थाने के अंतर्गत जंगली इलाके में जिला रिजर्व गार्ड की टीम गश्त कर रही थी. डीआरजी की मौजूदगी की भनक मिलते ही नक्सलियों ने रणनीति तैयार की और अचानक से गोलियां चलानी शुरू कर दी. नक्सलियों के हमले के तुरंत बाद डीआरजी ने जवाबी कार्रवाई शुरू की. दोनों तरफ से जबरदस्त मुठभेड़ हुआ और फिर डीआरजी की कार्रवाई में एक नक्सली को मौत की नींद सुला दी, लेकिन नक्सलियों की गोली एक जवान को लग गई. नक्सलियों से लड़ते-लड़ते वो जवान शहीद हो गया.

घटना के बाद एंटी-नक्सल आपरेशन के डीआईजी पी सुंदरराज ने इस पूरी घटना की जानकारी दी. उन्होंने बताया कि मुठभेड़ में एक डीआरजी जवान शहीद हो गया है. जिसका अभी पोस्टमार्टम किया जाना बाकी है.

ये पहली दफा नहीं है, जब मौके का फायदा उठाकर नक्सलियों ने अचानक हमला बोल दिया. इससे पहले भी कई बार उन्होंने ऐसा मौका देखकर अचानक हमला बोल दिया.

ऐसी ही कुछ घटना पर एक नजर डालते हैं

  • 24 अप्रैल 2017

सुकमा जिले में नक्सलियों से मुठभेड़ में केंद्रीय रिजर्व पुलिस फोर्स (सीआरपीएफ) के 25 जवान शहीद हो गए थे. आपको बता दें, नक्सलियों ने सीआरपीएफ की 74 बटालियन की रोड-अपनिंग पार्टी को अचानक से निशाना बना दिया था. सीआरपीएफ के इस काफिले पर हमला बस्तर के नक्सल प्रभावित क्षेत्र चिंतागुफा में हुआ.

  • 12 मार्च 2017

इस हमले में सुकमा जिले में नक्सलियों के हमले में सीआरपीएफ के 12 जवान शहीद हुए. नक्सलियों ने घात लगाकर जवानों पर हमला किया था. जवानों की हत्या करने के बाद नक्सली जवानों के हथियार भी अपने साथ ले गए. नक्सलियों ने आईईडी विस्फोट के जरिए सीआरपीएफ के 219 बटालियन के जवानों को निशाना बनाया था.

  • 28 फरवरी 2014

साल 2014 में फरवरी के महीने में नक्सलियों ने दंतेवाड़ा में पुलिसकर्मियों को निशाना बनाया था. इस हमले में एक एसएचओ समेत 6 पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे.

  • 2 जुलाई 2013

2 जुलाई साल 2013 में झारखंड के दुमका में नक्सलियों ने अचानक हमला बोल दिया. जिसमें पाकुड़ के एसपी और चार पुलिस अधिकारी शहीद हो गए.

  • 25 मई 2013

साल 2013 में ही छत्तीसगढ़ में नक्सलियों ने दिल दहला देने वाली साजिश को अंजाम दिया. इस हमले में कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व का सफाया हो गया. दरभा घाटी में नक्सलियों ने हमला कर दिया. पूर्व मंत्री महेंद्र कर्मा, छत्तीसगढ़ कांग्रेस अध्यक्ष नंद किशोर पटेल सहित कई बड़े नेता मारे गए.

  • 18 अक्टूबर 2012

बिहार के गया में नक्सली हमला में सीआरपीएफ के छह जवान शहीद और एक डिप्टी कमांडेंट सहित आठ सुरक्षाकर्मी घायल हुए.

  • 8 मई 2010

नक्सलियों ने बीजापुर जिले में बुलेट-प्रूफ वाहन को विस्फोटक से उड़ा दिया. हमले में सीआरपीएफ के आठ जवान शहीद हो गए.

  • 6 अप्रैल 2010

दंतेवाड़ा जिले में नक्सलियों के बड़े हमले में सीआरपीएफ के 75 जवान शहीद हो गए थे.

  • 4 अप्रैल 2010

ओडिशा के कोरापुट जिले में लैंडमाइन ब्लॉस्ट में स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप के 11 जवान शहीद.

  • 15 फरवरी 2010

पश्चिम बंगाल में मिदनापुर जिले के सियालदह में नक्सलियों ने ईएफआर कैंप पर हमला किया. इसमें इस्टर्न फ्रंटियर राइफल्स (ईएफआर) के 24 जवान शहीद हो गए.

 नक्सली हमेशा ही इस ताक में रहते हैं कि उन्हें एक मौका मिले और वो अपने नापाक मंसूबों को अंजाम दे सके. ऐसे में विजयादशमी के मौके पर उन्होंने एक बार फिर कायराना करतूत को अंजाम देने की कोशिश की, हालांकि जवानों के बुलंद हौसले को देख उनके इरादे पस्त हो गए.