close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

नोबेल विजेता अभिजीत बनर्जी ने भी कहा, अन्याय था NYAY

लोकसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस ने NYAY योजना की घोषणा करके मतदाताओं को लुभाने की कोशिश की थी. हालांकि जनादेश ने इसे नहीं स्वीकार किया और भाजपा को जनता का भारी समर्थन मिला. अब हाल ही में अर्थशास्त्र के भारतीय नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी ने भी NYAY को खामियों से भरी एक योजना बताया है. 

नोबेल विजेता अभिजीत बनर्जी ने भी कहा, अन्याय था NYAY

नई दिल्ली: नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी ने शनिवार को एक बातचीत के दौरान कहा कि कांग्रेस की  NYAY योजना में खामियां थीं. इसे ठीक तरीके से डिजाइन नहीं किया गया था. अर्थशास्त्री की बात का सीधा अर्थ है कि अगर यह योजना
लागू की जाती तो देश को आर्थिक स्तर पर हानि होनी तय थी. अभिजीत बनर्जी का यह बयान इसलिए भी महत्वपूर्ण है कि 2019 लोकसभा चुनाव में कांग्रेस का घोषणा पत्र तैयार करने में मदद की थी. इसके साथ ही  NYAY का आइडिया भी उन्हीं
का था. बनर्जी अपनी नई किताब 'गुड इकोनॉमिक्स फोर हार्ड टाइम्स: बेटर एंसर टू आवर बिगेस्ट प्रॉब्मलम्स' को लॉन्च करने दिल्ली आए थे.

बनर्जी ने स्वीकार किया कि  NYAY योजना को बेहतर तरीके से डिजाइन नहीं किया गया था. उन्होंने कहा कि वह इसकी जिम्मेदारी नहीं लेते हैं, क्योंकि मुझसे यह नहीं पूछा गया कि इसे कैसे डिजाइन करना है.  यह एक विचार था जिसे राजनीतिक
तौर पर अगर समर्थन मिला होता तो भी इसके बेहतर असर नहीं देखने को मिलते.  अगर यूपीए चुनाव जीत जाती तो उन्हें इस योजना को समायोजित करना होता, क्योंकि इसे बदलने के लिए राजनीतिक या आर्थिक दबाव भी होता. 

और क्या बोले बनर्जी
बनर्जी ने प्रधानमंत्री मोदी को एक लोकप्रिय नेता बताया. कहा कि नरेंद्र मोदी वास्तव में लोगों से जुड़े हुए हैं और उन्हें लोगों का भारी समर्थन मिला है.  ऐसा इसलिए भी हुआ कि क्योंकि कोई अन्य विपक्षी नेता वोट पाने के लायक नहीं था. उसकी 
लोकप्रियता प्रधानमंत्री मोदी से कम थी. उन्होंने कहा कि इसे केवल चुनावी जीत के तौर पर ही देखा जाना चाहिए न कि सरकार की नीतियों के समर्थन के तौर पर. 
उन्होंने इस दौरान कांग्रेस की मौजूदा स्थिति पर भी निराशा जाहिर की. बनर्जी ने कहा कि इस समय देश को एक मजबूत विपक्ष की आवश्यकता है. यह लोकतंत्र के लिए अच्छा होगा.  मुझे महसूस होता है कि लोगों को ऐसा नहीं लगता कि 
कांग्रेस इस बोझ को उठाने के लिए तैयार है. अभी कांग्रेस के पास कोई वर्तमान नहीं है. पार्टी का जो भी अध्यक्ष हो. उसे ताकत देना जरूरी है ताकि वह जैसा चाहे पार्टी चलाने का उसे अधिकार हो. 

जानिए अभिजीत बनर्जी को
अभिजीत बनर्जी को एस्टर डुफ्लो व माइकल क्रेमर के साथ संयुक्त रूप से अर्थशास्त्र में 2019 का नोबेल पुरस्कार दिया गया है. तीनों को यह पुरस्कार वैश्विक गरीबी कम करने के लिए दिया गया है. अभिजीत बनर्जी व एस्टर डुफ्लो
पति-पत्नी हैं. भारतीय मूल के बनर्जी जेएनयू के छात्र रहे हैं, वहीं उनकी पत्नी फ्रेंच-अमेरिकन हैं. इसके अलावा माइकल क्रेमर अमेरिकी मूल के हैं.