• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 6,28,747 और अबतक कुल केस- 21,53,010: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 14,80,884 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 43,379 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 68.32% से बेहतर होकर 68.78% पहुंची; पिछले 24 घंटे में 53,878 मरीज ठीक हुए
  • सरकार ने 500 करोड़ का आवंटन आत्म निर्भर अभियान के तहत मधुमक्खी पालन बढ़ाने के लिए किया
  • शहद का उत्पादन 242% बढ़ा और निर्यात 265% बढ़ा
  • 115 जिलों में एमएसएमई पदचिह्न बढ़ाने के लिए पहल
  • ₹50 करोड़ तक का सेक्टर निवेश और MSME की नई परिभाषा में 250 करोड़ तक का कारोबार
  • ₹50 करोड़ तक का सेक्टर निवेश और MSME की नई परिभाषा में 250 करोड़ तक का कारोबार
  • यह डिजिटल और आउटडोर इंस्टॉलेशन से सुसज्जित है, जो स्वछता पर जानकारी और शिक्षा प्रदान करता है
  • अगले पांच वर्षों में पीएलआई योजना के तहत ₹11.5 लाख करोड़ रुपये के मोबाइल फोन और इसके पुर्जे तैयार किए जाएंगे

अब फिल्मों, वेब सिरीज में नहीं हो सकेगा सेना और सैनिकों का अपमान

 रक्षा मंत्रालय ने सीबीएफसी को लिखा है कि वह प्रोडक्शन हाउस को सेना की विषय वस्तु पर कोई भी फिल्म, वृत्तचित्र या वेब सीरीज प्रसारित करने से पहले मंत्रालय से अनापत्ति प्रमाण पत्र (NOC) लेने की सलाह देने संबंधी फैसले पर विचार करें. दरअसल शिकायत मिली थी कि भारतीय सेना के जवानों का कुछ वेबसीरिज में अपमानजनक दृश्यांकन किया गया है. 

अब फिल्मों, वेब सिरीज में नहीं हो सकेगा सेना और सैनिकों का अपमान

नई दिल्लीः अब कोई भी फिल्म, सीरीज या धारावाहिक सेना आधारित कोई कंटेंट बनाएगा तो उसके लिए मंत्रालय से पहले अनापत्ति प्रमाण पत्र लेना होगा. रक्षा मंत्रालयने कुछ वेब सीरीज में सशस्त्र बलों के जवानों के चित्रण पर आपत्ति जताते हुए केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (CBFC) को इसके लिए पत्र लिखा है. 

कई वेब सीरिज में अपमानजनक दृश्यांकन
जानकारी के मुताबिक, पत्र में मंत्रालय ने सीबीएफसी को लिखा है कि वह प्रोडक्शन हाउस को सेना की विषय वस्तु पर कोई भी फिल्म, वृत्तचित्र या वेब सीरीज प्रसारित करने से पहले मंत्रालय से अनापत्ति प्रमाण पत्र (NOC) लेने की सलाह देने संबंधी फैसले पर विचार करें.

दरअसल शिकायत मिली थी कि भारतीय सेना के जवानों का कुछ वेबसीरिज में अपमानजनक दृश्यांकन किया गया है. 

इसलिए लिखा है पत्र
इस तरह के दृष्यांकन को लेकर रक्षा मंत्रालय की ओर से कड़ी आपत्ति जताई गई है. उन्होंने कहा कि हाल में प्रसारित की गई कुछ वेब सीरीज में दिखाए गए सेना संबंधी दृश्य वास्तविकता से परे हैं और सैन्य बलों की खराब छवि पेश करते हैं.

मंत्रालय ने अब सीबीएफसी को औपचारिक रूप से पत्र लिखकर अपील की है कि प्रोडक्शन हाउस को सलाह दी जा सकती है कि वे देश में सेना संबंधी विषयवस्तु पर कोई फिल्म, वृत्तचित्र या वेब सीरीज प्रसारित करने से पहले एनओसी प्राप्त कर लें. उन्होंने बताया कि इस संबंध में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय और इलेक्ट्रॉनिकी एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय को भी पत्र लिखा गया है.

फिर से पेंगोंग क्षेत्र में चीन ने बढ़ाई सैनिकों की संख्या

चीन की गलतफहमी - राफेल चीनी J-20 का मुकाबला नहीं कर सकता