ओमीक्रोन को लेकर बढ़ी टेंशन, अब दक्षिण अफ्रीका से कर्नाटक, चंडीगढ़ लौटे यात्री मिले संक्रमित

WHO ने कहा है कि यह ‘‘अभी तक स्पष्ट नहीं है’’ कि क्या नया स्वरूप अधिक संक्रामक है या अधिक गंभीर बीमारी का कारण बनता है, लेकिन भारत में राज्यों के अधिकारियों ने नई स्थिति से निपटने के प्रयास तेज कर दिए हैं.   

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Nov 30, 2021, 06:57 AM IST
  • जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजे गए हैं सैंपल
  • ओमीक्रोन को लेकर बरती जा रही सतर्कता

ट्रेंडिंग तस्वीरें

ओमीक्रोन को लेकर बढ़ी टेंशन, अब दक्षिण अफ्रीका से कर्नाटक, चंडीगढ़ लौटे यात्री मिले संक्रमित

नई दिल्लीः भले ही भारत में अभी तक कोरोना के नए स्वरूप ओमीक्रोन का कोई मामला सामने नहीं आया है, लेकिन कर्नाटक के स्वास्थ्य मंत्री ने सोमवार को कहा कि हाल ही में दक्षिण अफ्रीका से लौटे दो लोगों में से एक का नमूना डेल्टा स्वरूप से अलग प्रतीत होता है. 

उधर, चंडीगढ़ में भी दक्षिण अफ्रीका से लौटे एक शख्स में कोरोना की पुष्टि हुई है. उसके सैंपल को जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए दिल्ली भेजा जाएगा. उनके परिवार का एक सदस्य और घरेलू सहायिका भी संक्रमित पाए गए हैं. इससे पहले दक्षिण अफ्रीका से महाराष्ट्र के ठाणे लौटे एक शख्स में भी कोरोना मिला था. 

कर्नाटक के स्वास्थ्य मंत्री डॉ के. सुधाकर ने कहा कि हाल ही में दक्षिण अफ्रीका से बेंगलुरु पहुंचे दो व्यक्तियों में से एक का नमूना ‘‘डेल्टा स्वरूप से अलग’’ प्रतीत होता है. उन्होंने कहा, ‘‘एक 63 वर्षीय व्यक्ति है, जिसका नाम मुझे नहीं बताना चाहिए. उसकी रिपोर्ट थोड़ी अलग है. यह डेल्टा स्वरूप से अलग प्रतीत होता है. हम आईसीएमआर अधिकारियों के साथ चर्चा करेंगे और फिर लोगों को बताएंगे कि यह क्या है.’’ 

'वायरस के खिलाफ टीकाकरण है महत्वपूर्ण हथियार'
हालांकि, विशेषज्ञों ने जोर देकर कहा कि टीका इस वायरस के खिलाफ एक महत्वपूर्ण हथियार बना हुआ है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि यह ‘‘अभी तक स्पष्ट नहीं है’’ कि क्या नया स्वरूप अधिक संक्रामक है या अधिक गंभीर बीमारी का कारण बनता है, लेकिन भारत में राज्यों के अधिकारियों ने नई स्थिति से निपटने के प्रयास तेज कर दिए हैं. 

नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि निर्धारित अंतरराष्ट्रीय यात्री सेवाओं को फिर से शुरू करने पर किसी भी आगे के फैसले के संबंध में अन्य मंत्रालयों के परामर्श से स्थिति पर बारीकी से नजर रखी जा रही है. 

केंद्र सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि दिल्ली में नए स्वरूप के संस्करण का कोई मामला सामने नहीं आया है, लेकिन अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के सकारात्मक नमूनों के जीनोमिक विश्लेषण के परिणामों में तेजी लाई जा रही है. 

दक्षिण अफ्रीका से लौटने के बाद कोरोना वायरस की जांच में पॉजिटिव पाये गये महाराष्ट्र के ठाणे के 32 वर्षीय मर्चेंट नेवी इंजीनियर को पृथकवास में रखा गया है और उसका नमूना जीनोम अनुक्रमण के लिए भेजा गया है. कल्याण डोंबिवली नगर निगम (केडीएमसी) की महामारी नियंत्रण अधिकारी डॉ प्रतिभा पनपाटिल ने कहा कि इसका परिणाम सात दिनों के बाद पता चलेगा. 

यात्रियों की कोरोना जांच के निर्देश
दिल्ली में अधिकारियों ने 'उच्च-जोखिम' वाले देशों से आने वाले सभी लोगों के लिए आरटी-पीसीआर परीक्षण, पॉजिटिव पाए गए मामलों की जीनोम सीक्वेंसिंग और अनिवार्य पृथकवास का आदेश दिया है. मध्य प्रदेश के जबलपुर में, स्वास्थ्य अधिकारियों ने 18 नवंबर को शहर का दौरा करने वाली खुनो ओरमीत सेलिन नाम की बोत्सवाना की एक महिला को ढूंढ लिया है. 

जबलपुर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. रत्नेश कुरारिया ने बताया, ‘‘बोत्सवाना दूतावास के एक अधिकारी ने हमें फोन पर बताया कि वह जबलपुर में एक सैन्य संगठन में पृथकवास में है. हमने उससे उसका मोबाइल फोन नंबर और उसका स्थानीय संपर्क साझा करने के लिए कहा है.’’ 

यह भी पढ़िएः UP में टीकाकरण 16 करोड़ पार, सीएम योगी ने ओमीक्रोन को लेकर अफसरों को किया अलर्ट

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.  

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़