• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 2,76,685 और अबतक कुल केस- 7,93,802: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 4,95,513 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 21,604 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 62.08% से बेहतर होकर 62.42% पहुंची; पिछले 24 घंटे में 19,135 मरीज ठीक हुए
  • पिछले 24 घंटे में कोविड-19 के 19,135 मरीज ठीक हो चुके हैं, ठीक हुए लोगों और सक्रिय मामलों के बीच का अंतर 2 लाख से अधिक है
  • भारत में प्रति मिलियन आबादी पर कोविड-19 के सबसे कम 538 मामले हैं जबकि वैश्विक औसत 1497 हैं
  • MoHFW ने कोविड-19 के हल्के मामलों में HCQ का उपयोग करने की सिफारिश की और गंभीर रोगियों को इसके सेवन से बचने की सलाह दी
  • एएसआई के स्मारकों में फ़िल्म शूटिंग करने के लिए 15 दिन के अंदर मिलेगी इजाजत
  • 750 मेगावाट की रीवा सौर परियोजना से हर साल करीब 15 लाख टन CO2 बराबर कार्बन उत्सर्जन में कमी आएगी, PM राष्ट्र को करेंगे समर्पित
  • मंत्रालय एक राष्ट्र-एक राशन कार्ड योजना को जनवरी 2021 तक शेष सभी राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों में लागू करने के लिए प्रयासरत है
  • MHRD: विज्ञान, तकनीक और कानून आदि जैसे विषयों पर प्राथमिक से PG तक की गुणवत्ता वाली सामग्री विभिन्न प्रारूपों में उपलब्ध है

पीएम मोदी के मन की बात: कोरोना से जंग जीतेगा भारत लेकिन दो गज दूरी बहुत जरूरी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना संक्रमण के भयावह रूप के बीच देशवासियों को मन की बात कार्यक्रम के माध्यम से संबोधित किया. उन्होंने लोगों से लॉकडाउन में मिलने वाली छूट में और अधिक सतर्कता और अनुशासन बरतने की सलाह दी.

पीएम मोदी के मन की बात: कोरोना से जंग जीतेगा भारत लेकिन दो गज दूरी बहुत जरूरी

नई दिल्ली: भारत में कोरोना संक्रमण के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात कार्यक्रम के माध्यम से देशवासियों का मार्गदर्शन किया. उन्होंने कोरोना महामारी के प्रचंड और विकराल रूप से आगाह करते हुए आत्मानुशासन और सतर्कता की सलाह दी. साथ ही पीएम मोदी ने लोगों को प्रेरित करते हुए कहा कि भारत कोरोना के खिलाफ जंग में जीत हासिल करेगा. पीएम ने कहा कि सरकार कोरोना से डटकर मुकाबला कर रही है. पीएम ने कहा कि देश में सभी के सामूहिक प्रयासों से कोरोना के खिलाफ लड़ाई बड़ी मजबूती से लड़ी जा रही है.

दो गज दूरी बहुत जरूरी

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि तमाम सावधानियों के साथ हवाई जहाज उड़ने लगे हैं, धीरे-धीरे उद्योग भी चलना शुरू हुए हैं, यानी अर्थव्यवस्था का एक बड़ा हिस्सा अब चल पड़ा है. ऐसे में हमें और ज्यादा सतर्क रहने की आवश्कयकता है. दो गज की दूरी का नियम हो, मुंह पर मास्क लगाने की बात हो, इन सारी बातों का पालन करना है.

 

कोरोना काल में मदद कर रहे लोगों को पीएम ने सराहा

प्रधानमंत्री ने मन की बात में देश के ऐसे कुछ लोगों का जिक्र भी किया जो कोरोना काल में लगतार लोगों की मदद में लगे हुए हैं. पंजाब के पठानकोट से दिव्यांग भाई राजू ने दूसरों की मदद से जोड़ी गई छोटी सी पुंजी से 3000 से अधिक मास्क बनाकर लोगों में बांटे और 100 परिवारों के लिए राशन जुटाया. सेवाभाव से लोगों की मदद कर रहे ऐसे सभी लोगों की मैं प्रशंसा करता हूं, उनका तहे दिल से अभिनंदन करता हूं.  

 

भारत कोरोना से मजबूती से लड़ रहा है- पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सबके सामूहिक प्रयासों से कोरोना के खिलाफ लड़ाई बहुत मजबूती से लड़ी जा रही है. हमारी जनसंख्या ज़्यादातर देशों से कई गुना ज्यादा है, फिर भी हमारे देश में कोरोना उतनी तेजी से नहीं फैल पाया, जितना दुनिया के अन्य देशों में फैला. देश में सबके सामूहिक प्रयासों से कोरोना के खिलाफ लड़ाई बहुत मजबूती से लड़ी जा रही है.

ये भी पढ़ें- गुजरात: जन्म लेते ही 44 नवजात शिशु पाए गए कोरोना पॉजिटिव

भारत में मृत्यु दर बहुत कम

पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना से होने वाली मृत्यु दर भी हमारे देश में काफी कम है. जो नुकसान हुआ है, उसका दु:ख हम सबको है, लेकिन जो कुछ भी हम बचा पाएं हैं, वो निश्चित तौर पर देश की सामूहिक संकल्पशक्ति का ही परिणाम है. गौरतलब है कि 64 वें भाग के 'मन की बात' कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी का संबोधन देश में कोविड-19 से उपजे हालात पर केंद्रित था. इस कार्यक्रम में उन्होंने समस्त देशवासियों से लॉकडाउन के दौरान गरीब, प्रवासी मजदूरों की सहायता करने की अपील की थी.

देश को कोरोना के खिलाफ लम्बी लड़ाई लड़नी है- प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई का रास्ता लंबा है. एक ऐसी आपदा जिसका पूरी दुनिया के पास कोई इलाज ही नहीं है, जिसका पहले का अनुभव ही नहीं है, तो ऐसे में नई-नई चुनौतियां और उसके कारण परेशानियां हम अनुभव कर रहे हैं. देशवासियों की संकल्पशक्ति के साथ एक और शक्ति इस लड़ाई में हमारी सबसे बड़ी ताकत है और वो है- देशवासियों की सेवाशक्ति.