close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

दिल्ली में ऑड-ईवन लागू होते ही शुरू हो गया सियासी ड्रामा!

दिल्ली में ऑड-ईवन स्कीम की शुरुआत होते ही, सड़कों पर बवाल और सियासत में उबाल तेज हो गया. अरविंद केजरीवाल को टारगेट करते हुए भारतीय जनता पार्टी ने खूब ड्रामा किया. आप और भाजपा के बीच जोरदार घमासान देखने को मिला.

दिल्ली में ऑड-ईवन लागू होते ही शुरू हो गया सियासी ड्रामा!

नई दिल्ली: राजधानी दिल्ली के लोगों की सांसों में घुले जहर को कम करने के लिए केजरीवाल सरकार ने जिस ऑड ईवेन फॉर्मूले के तहत आज गाड़ियों को सड़क पर निकलने की इजाजत दी. उसको लेकर दिल्ली की सड़कों पर खूब हंगामा देखने को मिला.

ऑड-ईवन पर छिड़ गया संग्राम

ये तीसरी बार है जब दिल्ली में ऑड-ईवेन लागू हुआ है. लेकिन लोग जब सुबह-सुबह घर से निकले तो नियम तोड़ने पर चालान के चक्रव्यूह से नहीं बच पाए. जिन जनाब की गाड़ी का नंबर ऑड था, उसके हाथों में ट्रैफिक पुलिस चालान काटकर रसीद थमाती गई. लोगों ये आरोप लगाकर खूब बवाल काटा कि पुलिस कई दूसरी ऑड नंबर की गाड़ी का पुलिस ने चालान नहीं काट रही है.

लोगों ने मीडिया से बात करके यह आरोप लगाया कि हमारी गाड़ियों का चालान कटा इससे कोई समस्या नहीं है, लेकिन उन्होंने ये आरोप लगाया कि वह सरकारी गाड़ियों का चालान नहीं काट रहे हैं. दिल्ली के करीब 2 करोड़ लोग अपनी सांसों के लिए लगातार संघर्ष कर रहे हैं. लेकिन नेताओं को इसपर सियासत करने से फुर्सत नहीं है.

ऑड-ईवन पर सियासी ड्रामा

एक तरफ जहां ऑड इवेन को लेकर आम जनता का दर्द छलका तो दूसरी तरफ दिल्ली की सड़कों पर सियासी ड्रामा भी खूब देखने को मिला. दरअसल, ऑड-इवेन नियम का विरोध जताते हुए जैसे ही राज्यसभा से बीजेपी सांसद विजय गोयल अपनी ऑड नंबर की गाड़ी लेकर निकले. तो पुलिस ने उन्हें रोककर 4 हजार रुपए का चालान कर दिया. बस फिर क्या था, विजय गोयल ने दिल्ली सरकार पर हमला बोलते ऑड-ईवन को सिर्फ चुनावी ड्रामा बताया. साथ ही कहा कि केजरीवाल ने प्रदूषण को खत्म करने के लिए पिछले 5 सालों में कोई काम नहीं किया.

आपको बता दें, विजय गोयल ने पहले ही ऐलान कर दिया था कि वह दिल्ली में लागू ऑड-ईवन योजना का विरोध करेंगे. हालांकि ये पहली बार नहीं जब विजय गोयल का ऑड ईवन के तहत चालान कटा हो पहले भी उनका चालान कटा था. लेकिन उन्होंने इससे कोई सबक नहीं लिया.

कार पूल करके दफ्तर पहुंचे केजरीवाल

वहीं इससे अलग एक और तस्वीर देखने को मिली. जब दिल्ली के मुख्यंत्री अरविंद केजरीवाल, मंत्री गोपाल राय और सत्येंद्र जैन के साथ कार पूल करके दफ्तर पहुंचे. उन्होंने ट्वीट करके कई तस्वीरें भी साझा की.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज फिर से प्रदूषण को लेकर ठीकरा पड़ोसी राज्य पर फोड़ने की कोशिश की है. जिस पर केंद्रीय पर्यवरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने केजरीवाल सरकार पर आरोप लगाए. उन्होंने कहा है कि दिल्ली सरकार 1500 करोड़ विज्ञापन पर खर्च कर रही है लेकिन इस पैसे को उन्होंने किसानों को क्यों नहीं दिया.

साइकिल पर दिखे दिल्ली के डिप्टी सीएम

डिप्टी सीएम मनीष सिसौदिया भी ऑड नंबर की कार होने की वजह से साइकिल से अपने दफ्तर रवाना हुए. और साथ ही दिल्ली की जनता को प्रदूषण कम करने के लिए एक मैसेज देने की कोशिश की. सिसौदिया ने कहा कि अगर अगले 10 दिन तक ऑड-इवेन नियम को फॉलो करेंगे तो दिल्ली में फैली जहरीली हवा और प्रदूषण पर काफी हद तक काबू पाने में मदद मिलेगी. 

दिल्ली सरकार ने दमघोंटू राजधानी को प्रदूषण से निजात दिलाने के लिए ऑड इवेन का जो फॉर्मूला लागू किया है. उस पर जमकर सियासी गेम जारी है. लेकिन एक बात पूरी तरह साफ है कि गैस चैंबर बनती दिल्ली ने लोगों को घर में बंधक बनने पर मजबूर कर दिया है.