मध्यप्रदेश में भी उबली CAA के विरोध की सियासत

मध्य प्रदेश में भी नागरिकता संशोधन कानून की आग फैल गयी है. राजनीतिक दल अपने एजेंडे के तहत प्रदेश में नागरिकता कानून के खिलाफ लोगों में भ्रम और डर भरकर अपनी राजनीति चमकाने की कोशिश कर रहे हैं.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Dec 20, 2019, 05:18 AM IST
मध्यप्रदेश में भी उबली CAA के विरोध की सियासत

भोपाल: नागरिकता कानून पर हो रही डराने वाली राजनीति की आग मध्य प्रदेश तक पहुंच गयी है. कांग्रेस शासित मध्यप्रदेश के 52 जिलों में से 44 में प्रशासन ने एहतियातन धारा 144 लगा दी गयी है. सरकार का कहना है कि एहितयातन 144 का प्रयोग किया है ताकि बीजेपी कार्यकर्ता राज्य में अशांति ना फैलाएं. भाजपा का आरोप है कि देश भर में कांग्रेस लोगों को भड़का रही है.

भाजपा ने किया 144 का स्वागत

बीजेपी प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने कहा प्रदेश सरकार ने धारा 144 लगाई है, तो हम उसका स्वागत करते हैं, कांग्रेस सरकार के मंत्री क्या कह रहे हैं उसका कोई मतलब नहीं है क्योंकि उनको ध्यान ही नहीं है वो क्या कर रहे हैं और क्या कह रहे हैं. नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में बुधवार को कांग्रेस के पू्र्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और विधायक आरिफ मसूद ने भोपाल के इकबाल मैदान में प्रदर्शन की अगुवाई की थी, तो सोमवार को लोकतांत्रिक अधिकार मंच के बैनर तले मंगलवार को कानून लागू करवाने को लेकर बीजेपी ने प्रदर्शन किया था.

यूपी के आठ जिलों में इंटरनेट बंद

सरकार ने प्रदेश के आठ जिलों में इंटरनेट 24 घंटे के लिये बंद कर दिया है.  मेरठ, गाजियाबाद, मुजफ्फरनगर, अलीगढ़, बरेली, प्रयागराज और संभल, पीलीभीत आदि में इंटरनेट बद कर दिया है. सोशल मीडिया साइट्स पर नागरिकता कानून को लेकर गलत-गलत अफवाहें फैलाई जा रही हैं, जिसकी जद में आकर लोग हिंसक प्रदर्शन पर उतर जा रहे हैं. सरकार ने इसीलिये ये फैसला किया है.

प्रदर्शन के नाम पर हिंसा बर्दाश्त नहीं: योगी

योगी ने कहा कि प्रदर्शन के नाम पर हिंसा बर्दाश्त नहीं की जाएगी. विपक्ष भ्रम के हालात पैदा कर रहा है. नागरिकता कानून किसी के खिलाफ नहीं है. उन्होंने कहा कि राजनीतिक रोटी सेंकने वाले कांग्रेस, सपा और वामपंथी संगठनों ने आज पूरे देश को आगजनी की चपेट में झोंकने का प्रयास किया है.

पढ़ें- नागरिकता कानून पर सुलग रहा है UP

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़