close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जम्मू कश्मीर में तेजी से सामान्य हो रहे हैं हालात, आज चालू हो सकते हैं 40 लाख मोबाइल फोन

जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने के 68 दिन बाद हालात तेजी से सामान्य होने लगे हैं. इसी कड़ी में आज 40 लाख पोस्टपेड मोबाइल फोन चालू कर दिए जाने की योजना है.   

जम्मू कश्मीर में तेजी से सामान्य हो रहे हैं हालात, आज चालू हो सकते हैं 40 लाख मोबाइल फोन
कश्मीर में मोबाइल पर से आज हट सकता है प्रतिबंध

श्रीनगर: लगभग एक सप्ताह तक विचार करने के बाद जम्मू कश्मीर में मोबाइल सेवाएं बहाल करने पर फैसला ले लिया गया है. आज 26 लाख पोस्टपेड मोबाइल कनेक्शन चालू किए जा सकते हैं. राज्य में कुल 66 लाख मोबाइल फोन उपभोक्ता हैं. जिसमें से सबसे ज्यादा 40 लाख लोग पोस्टपेड फोन का इस्तेमाल करते हैं. जबकि 26 लाख लोगों के पास प्रीपेड कनेक्शन है. इसमें से फिलहाल पोस्टपेड कनेक्शन वाले फोन ही चालू होंगे. 

इसके पहले 17 अगस्त को ही राज्य में लैंडलाइन सेवा शुरु कर दी गई थी. यहां 50 हजार लैंडलाइन फोन हैं, जिसमें से 15 से 16 हजार घरेलू कनेक्शन हैं. जिसके बाद अब मोबाइल सेवा भी शुरु किए जाने का फैसला किया गया है. जो कि आम जनता के लिए बड़ी राहत की बात है. 

जम्मू कश्मीर के व्यापारिक, सामाजिक और राजनीतिक संगठन लगातार मोबाइल सेवा बहाल किए जाने की मांग कर रहे थे. जिसके बाद यह फैसला लिया गया. मोबाइल सेवा की दोबारा शुरुआत चरणबद्ध तरीके से की जाएगी और इसके लिए कुछ उपभोक्ताओं के सत्यापन की प्रक्रिया भी की जाएगी. 

हालांकि राज्य में इंटरनेट सेवा शुरु किए जाने पर अभी कोई फैसला नहीं हो पाया है. 

जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाने और राज्य को दो हिस्सों में बांटने का फैसला 5 अगस्त को किया गया था. जिसके बाद आतंकवादियों और अलगाववादियों द्वारा हिंसा और अफवाह फैलाए जाने से रोकने के लिए पूरे राज्य में लैंडलाइन, मोबाइल और इंटरनेट सेवा पर रोक लगा दी गई थी. राज्य में पर्यटकों की आवाजाही भी बंद कर दी गई थी. 

लेकिन धारा 370 हटाए जाने के 68 दिनों के बाद अब हालात सामान्य हो रहे हैं. जिसके बाद लैंडलाइन सेवा बहाल कर दी गई. फिर पर्यटकों के आवागमन से भी प्रतिबंध हटा लिया गया और अब पोस्टपेड मोबाइल सेवा भी शुरु कर दी जाएगी. 

जम्मू कश्मीर में तेजी से सामान्य हो रहे हालात अलगाववादियों और आतंकवादियों के साथ साथ पाकिस्तान के मुंह पर भी करारा तमाचा है.