close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

किस मुंह से भ्रष्टाचार की बात करती हैं प्रियंका गांधी वाड्रा?

कांग्रेस पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने हरियाणा में भाजपा को समर्थन देने वाले दुष्यंत चौटाला के पिता पर व्यंग्य किया है. उनके पिता अजय चौटाला को दो हफ्ते के लिए जेल से छुट्टी मिली है. जिसपर प्रियंका ने व्यंग्यात्मक टिप्पणी की है. लेकिन क्या रॉबर्ट वाड्रा की पत्नी को भ्रष्टाचार के किसी भी मामले पर मुंह खोलने का नैतिक अधिकार है?

किस मुंह से भ्रष्टाचार की बात करती हैं प्रियंका गांधी वाड्रा?
पति के कारनामों की अनदेखी करके दूसरों पर सवाल उठाती हैं प्रियंका गांधी वाड्रा

नई दिल्ली: हरियाणा में कांग्रेस सत्ता हासिल करने से चूक गई. उसके लाख डोरे डालने के बावजूद जजपा नेता दुष्यंत चौटाला ने भाजपा के साथ सरकार बनाने का फैसला किया. इससे कांग्रेस पार्टी खिसिया गई है. जिसकी झलक कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के एक बयान में दिखी. 

प्रियंका वाड्रा ने किया व्यंग्य
प्रियंका वाड्रा ने दुष्यंत चौटाला के पिता अजय चौटाला को तिहाड़ जेल से दो हफ्ते की छुट्टी मिलने पर अपना गुस्सा निकाला है. अजय चौटाला शिक्षक भर्ती घोटाला मामले में 10 साल जेल की सजा काट रहे हैं. उन्हें हफ्ते के लिए फरलो मिली है. इस दौरान वह जेल से बाहर आ सकते हैं. खास बात यह है कि उन्हें यह फरलो हरियाणा में भाजपा-जजपा की सरकार के गठन के समय दिया गया है.

हालांकि अजय चौटाला की फरलो का कोई राजनीतिक कनेक्शन नहीं दिखाई देता क्योंकि तिहाड़ जेल के महानिदेशक संदीप गोयल के मुताबिक  अजय चौटाला ने  कुछ दिन पहले ही छुट्टी के लिए आवेदन किया था. वह अपनी मां के निधन की याद में होने वाले कर्मकांड में शामिल होने के लिए जाना चाहते हैं. 

लेकिन प्रियंका वाड्रा ने फरलो की टाइमिंग पर निशाना साधते हुए मराठी में व्यंग्य किया कि 'अखिल भारतीय भ्रष्टाचार धुलाई मशीन चालू आहे!' उन्होंने बकायदा ट्विट करके यह संदेश सार्वजनिक किया. 

लेकिन कांग्रेस महासचिव का यह व्यंग्य सचमुच नैतिक रुप से उचित है. जबकि उनके पति के खिलाफ भ्रष्टाचार के कई मामलों में जांच चल रही है. आईए आपको दिखाते हैं कांग्रेस महासचिव के पति रॉबर्ट वाड्रा पर चल रहे कुछ खास मामले- 

1. बीकानेर लैंड डील मामला
सितंबर 2015 में ईडी ने मनी लॉन्डरिंग केस दर्ज किया. जिसमें आरोप था कि रॉबर्ट वाड्रा की कंपनी स्काई लाइट हॉस्पिटेलिटी कंपनी ने बीकानेर के कोलायत में जमीन का अधिग्रहण किया. यह जमीन गरीब गांव वालों के लिए थी. रॉबर्ट वाड्रा पर आरोप है कि उन्होंने 69.55 हेक्टेयर की इस जमीन को काफी सस्ते में खरीदा और करीब 7 गुना फायदे के साथ 5.15 करोड़ रुपए में एलजेनेरी फिनलीज कंपनी को बेच दिया. ईडी की जांच के अनुसार एलजेनेरी फिनलीज कंपनी भी फर्जी कंपनी पाई गई है, जिसका ना तो कोई बिजनेस है ना ही शेयरहोल्डर्स हैं.

2. ब्रिटेन में प्रॉपर्टी का केस
ईडी ने रॉबर्ट वाड्रा के खिलाफ कई प्रॉपर्टी खरीदने के मामले में मनी लॉन्डरिंग का केस दर्ज किया है. इनमें लंदन के 12, ब्रायंसटन स्क्वायर में स्थित करीब 17.77 करोड़ रुपए की प्रॉपर्टी के अलावा 37.42 करोड़ रुपए और 46.77 करोड़ रुपए की दो अन्य प्रॉपर्टी भी शामिल हैं. आरोप है कि ये सभी रॉबर्ट वाड्रा के नाम पर रजिस्टर हैं. इन प्रॉपर्टीज को खरीदने में यूपीए सरकार के दौरान हुई एक पेट्रोलियम डील से मिले पैसों का इस्तेमाल किए जाने का आरोप है. ईडी उस डील को लेकर भी अलग से जांच कर रही है.

3. 2009 पेट्रोलियम डील केस
ईडी के अनुसार 2009 में यूपीए की सरकार के दौरान जो पेट्रोलियम डील हुई थी, उसमें रॉबर्ट वाड्रा को गलत तरीके से फायदा पहुंचाया गया. भाजपा ने भी आरोप लगाए हैं कि यूपीए सरकार के दौरान हुई पेट्रोलियम और डिफेंस डील से रॉबर्ट वाड्रा ने ढेर सारे पैसे कमाए और इन्हीं पैसों से लंदन में करोड़ों की प्रॉपर्टी खरीदी गई. ईडी इसी प्रॉपर्टी की जांच कर रही है क्योंकि उन्हें शक है कि इनके जरिए कालेधन को सफेद किया गया. ईडी के सूत्र भी इस बात का दावा करते हैं कि लंदन में स्थित प्रॉपर्टी वाड्रा को पेट्रोलियम डील से हुए फायदे के पैसों से ही खरीदी गई है. 

रॉबर्ट वाड्रा पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों की इस फेहरिस्त को देखते हुए उनकी पत्नी प्रियंका गांधी वाड्रा का दूसरों के भ्रष्टाचार पर व्यंग्य करना बड़ा अजीबोगरीब लगता है.