close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भारतीय संस्कृति और सभ्यता के साथ राफेल का गरुड़ सेना के दस्ते में स्वागत

फ्रांस में देश के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने लड़ाकू विमान राफेल का शस्त्र पूजा करके स्वागत किया. इस दौरान ऐसी प्रेरक तस्वीरें सामने आई जिससे भारत की परंपरा, सभ्यता और शौर्य के आध्यात्मिक स्वरुप की झलक मिलती है. 

भारतीय संस्कृति और सभ्यता के साथ राफेल का गरुड़ सेना के दस्ते में स्वागत
फाइटर जेट राफेल में उड़ान भरते वक्त रक्षामंत्री राजनाथ सिंह

नई दिल्ली: फ्रांस पहुंच कर राफेल की शक्ति देखने से पहले भारतीय रक्षामंत्री ने भारत की संस्कृति और सभ्यता को दुनिया के सामने प्रदर्शित किया. हिंदुस्तान के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने फ्रांस में पहले भारतीय राफेल की उड़ान भरी. भारतीय वायुसेना दिवस के मौके पर भारत के गरुड़ सेना के दस्ते में एक और फाइटर की जबरदस्त एंट्री हुई है. फ्रांस निर्मित अत्याधुनिक राफेल विमान का पहला दस्ता आज भारत को सौंपा गया.

विजयादशमी के मौके पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने फ्रांस की धरती पर राफेल लड़ाकू विमान की विधिवत शस्त्र पूजा की. इस दौरान पूरे देश और दुनिया की नजर इन्हीं तस्वीरों पर टिकी रही.

फ्रांस में रक्षामंत्री ने भारतीय संस्कृति के अनुसार विजयादशमी के मौके पर शस्त्र पूजा की परंपरा का निर्वहन करते हुए राफेल विमान पर तिलक से ॐ लिखा और चावल अक्षत का छिड़काव कर पूजा अर्चना की. 

रक्षामंत्री ने विमान पर एक नारियल और पुष्प भी चढ़ाया. नीचे दी हुई तस्वीर में आप देख सकते हैं कि कैसे फ्रांस में भी भारतीय संस्कृतिक परंपराओं का देश के रक्षामंत्री पालन कर रहे हैं.

फ्रांस से राफेल विमान को भारत लाये जाने से पहले रक्षामंत्री ने राफेल का ट्रायल टेस्ट भी किया.

भारतीय परंपरा के मुताबिक बुरी नजर से बचाने के लिए विमान के टायरों के नीचे नींबू भी रखे गए. ताकि विमान के आगे बढ़ने पर यह नींबू फटकर किसी भी विपत्ति को अपने उपर धारण कर लें और राफेल को लाने की प्रक्रिया संपन्न हो जाए. 

फ्रांस स्थित राफेल कंपनी के अधिकारियों के सामने भारतीय परंपराओं से संबंधित यह दृश्य शायद पहली बार सामने आया होगा. 

इसे भी पढ़ें : आसमान के सुल्तान का जलवा! 'भारतीय वायुसेना' की 10 बड़ी ताकत को जानिए

बता दें कि फ्रांस से बहुचर्चित राफेल डील के बाद से ही राफेल के पहले दस्ते का भारतीय वायु सेना, सरकार और आम नागरिक को भी इंतजार था. 8 अक्टूबर को भारत के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने इस इंतजार का भारतीय संस्कृति को सम्मान देते हुए स्वागत किया है.