कोरोना से निपटने को सभी केंद्रीय मंत्रियों को जिम्मेदारी, राज्यवार बने प्रभारी

सभी मंत्रियों को जिन राज्यों की ज़िम्मेदारी दी गई है, उन्हें हर दिन पीएमओ को कोरोना वायरस के संक्रमण अपडेट और बचाव के काम का अपडेट देना होगा. इन मंत्रियों को राज्य के हर जिले के डीएम और अधिकारियों से रोज बात करने को कहा गया है. ये सभी इन प्रशासनिक अधिकारियों से बातचीत करेंगे और स्थिति पर अपडेट लेंगे. 

कोरोना से निपटने को सभी केंद्रीय मंत्रियों को जिम्मेदारी, राज्यवार बने प्रभारी

नई दिल्‍लीः कोरोना वायरस के देश में बढ़ते खतरे से निपटने और उसकी रोकथाम के लिए मोदी सरकार बड़े एक्शन ले रही है. इसी कड़ी में गुरुवार को सभी केंद्रीय कैबिनेट मंत्रियों को राज्‍यों का प्रभारी बनाया गया है. सभी केंद्रीय मंत्री यह सुनिश्चित करेंगे कि कोरोना संक्रमण से निपटने के दौरान राज्‍यों में कोई दिक्‍कत न हो. साथ ही ये सभी हर जानकारी प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) को देंगे.

राज्यवार दी गई जिम्मेदारी
सभी मंत्रियों को जिन राज्यों की ज़िम्मेदारी दी गई है, उन्हें हर दिन पीएमओ को कोरोना वायरस के संक्रमण अपडेट और बचाव के काम का अपडेट देना होगा. इन मंत्रियों को राज्य के हर जिले के डीएम और अधिकारियों से रोज बात करने को कहा गया है.

ये सभी इन प्रशासनिक अधिकारियों से बातचीत करेंगे और स्थिति पर अपडेट लेंगे. 

इस बारे में करेंगे बात
सभी मंत्री इस बारे में बात करेंगे कि गृह मंत्रालय और स्वास्थ्य मंत्रालय के गाइडलाइंस के क्रियान्वयन में कोई दिक्कत तो नहीं आ रही? अगर हां तो केंद्र से कैसी मदद चाहिए. जरूरी सेवाओं और वस्‍तुओं से संबंधित कोई दिक्कत तो नहीं? बाहर से कितने लोग वापस आए हैं. जिले में कितने कोरोना पॉजिटिव हैं, कितने क्वारंटीन में है, उसकी सभी डिटेल. कितने लोगों को होम क्वारेंटाइन में रखा गया है. कोरोना संक्रमण के टेस्टिंग सेंटर कितने हैं. 

कोरोना से युद्ध में हमारे हाथ मजबूत करेगा DRDO, विकसित किया स्वदेशी वेंटिलेटर

यह है राज्यवार सूची

  • राजस्थान और पंजाब- गजेंद्र सिंह शेखावत
  • असम- जनरल (रि) वीके सिंह
  • यूपी- राजनाथ सिंह, संजीव बाल्यान, महेंद्रनाथ पांडेय, कृष्णपाल गुर्जर
  • बिहार- रविशंकर प्रसाद और रामविलास पासवान
  • ओडिशा- धर्मेद्र प्रधान
  • छत्तीसगढ़- अर्जुन मुंडा
  • झारखंड- मुख्तार अब्बास नकवी
  • महाराष्ट्र- नितिन गडकरी और प्रकाश जावडेकर

यूपी में विदेश से आए लोगों को खोजेंगे ग्राम प्रधान
उत्तर प्रदेश सरकार ने हाल ही में विदेशों से आए लोगों की पहचान के लिए एक व्यापक अभियान चलाने का फैसला किया है और दस हजार से अधिक ग्राम प्रधानों से ऐसे लोगों को अलग-थलग रखना सुनिश्चित करने को कहा है.

दरअसल बहुत सारे विदेश से आए लोग गांवों में पहले ही पहुंच गए थे और लॉकडाउन की स्थिति से पहले इधर-उधर घूम रहे थे. जबकि उन्हें आइसोलेशन में रहना था. कुछ लोगों में लक्षण बाद में उभर रहे हैं और इस तरह कई कोरोना संदिग्ध लोग गांवों के आस-पास हैं. 

कोरोना वॉरियर्स को मिलेगा 50 लाख का बीमा कवर