• देश में कोविड-19 से सक्रिय मरीजों की संख्या 97,581 पहुंची, जबकि संक्रमण के कुल मामले 1,98,706: स्त्रोत-PIB
  • कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की संख्या- 95,527 जबकि अबतक 5,598 मरीजों की मौत: स्त्रोत-PIB
  • पीएम ने एमएसएमई को सशक्त बनाने के लिए चैंपियन नामक प्रौद्योगिकी मंच लॉन्च किया
  • कोविड-19 के बीच सुरक्षित यात्रा सुनिश्चित करने के लिए सरकार ने घरेलू यात्रियों के लिए दिशानिर्देश जारी किए
  • कैबिनेट ने कृषि और संबद्ध गतिविधियों के लिए अल्पावधि ऋण को चुकाए जाने की समय सीमा बढ़ाने को मंजूरी दी
  • कैबिनेट ने संकटग्रस्त MSME के लिए 20,000 करोड़ रुपये के प्रावधान को मंजूरी दी, इससे संकट में फंसे 2 लाख एमएसएमई को मदद मिलेगी
  • कैबिनेट ने एमएसएमई ने परिभाषा के संशोधन को मंजूरी दी, मध्यम उद्यमों के लिए टर्नओवर की सीमा को संशोधित कर 250 करोड़ किया गया
  • ECLGS/MSME से संबंधित प्रश्नों और अन्य उपायों के लिए DFS ने ट्विटर हैंडल @DFSforMSMEs का शुभारंभ किया
  • वन नेशन वन कार्ड योजना में 3 और राज्य शामिल किए गए: खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री
  • डीआरडीओ ने पीपीई और अन्य सामग्रियों के कीटाणुशोधन के लिए अल्ट्रा स्वच्छ विकसित किया

बिहार में महागठबंधन की एकता ध्वस्त, राज्यसभा चुनाव में तेजस्वी ने कांग्रेस को दिखाया ठेंगा

राज्यसभा का चुनाव आते ही बिहार में महागठबंधन की एकता की कलई खुल गई है. राष्ट्रीय जनता दल के कर्ता धर्ता तेजस्वी यादव ने बिहार की दो राज्यसभा सीटों के लिए अपने उम्मीदवार उतार कर कांग्रेस की उम्मीदों पर पानी फेर दिया है.

बिहार में महागठबंधन की एकता ध्वस्त, राज्यसभा चुनाव में तेजस्वी ने कांग्रेस को दिखाया ठेंगा

पटना: बिहार में कांग्रेस पार्टी के नेता भौचक्के हैं. तेजस्वी यादव ने उन्हें जबरदस्त झटका दिया है. राजद ने बिहार से दो प्रत्याशी घोषित कर दिए हैं. जिसके बाद कांग्रेस के नेता वादाखिलाफी की दुहाई दे रहे हैं.

तेजस्वी ने दिया कांग्रेस को धोखा
बिहार में विधायकों की संख्या के आधार पर महागठबंधन के हिस्से में दो सीटें आनी थी. कहा जा रहा है कि राजद ने इसमें से एक सीट कांग्रेस को देने का वादा किया था. लेकिन अब राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने दोनों सीटों से उम्मीदवारों के नाम की घोषणा कर दी. राजद के दोनों उम्मीदवारों के नाम हैं प्रेमचंद गुप्ता और ए.डी सिंह. राज्यसभा के लिए इन दोनों का नामांकन कराने के लिए राजद के वरिष्ठ नेता मौजूद रहे.

ये भी पढ़ें--बिहार में विधानसभा चुनाव से पहले बिखर जाएगा महागठबंधन?

ये भी पढ़ें--बिहार में ज्यादा दिन नहीं टिक पाएगा "महागठबंधन"! पढ़ें, अहम सबूत

कांग्रेस का भरोसा तेजस्वी पर से टूटा
नाराज कांग्रेस तेजस्वी यादव पर वादाखिलाफी करने का आरोप लगा रही है. उसका कहना है कि राजद ने कांग्रेस से एक सीट का वादा किया था. कांग्रेस नेताओं का आरोप है कि राज्यसभा सीट के लिए तेजस्वी ने कांग्रेस से किया वादा तोड़ दिया तो फिर उनसे विधानसभा चुनाव के दौरान सीट बंटवारे पर कैसे भरोसा किया जा सकता है. कांग्रेस पार्टी की तरफ से कोई भी राजद उम्मीदवारों के नामांकन में नहीं पहुंचा.

धनपति ए.डी सिंह के लिए तेजस्वी ने कांग्रेस को दिखाया अंगूठा
राजद ने जिस ए.डी सिंह यानी अमरेन्द्र धारी सिंह को राज्यसभा भेजने का ऐलान किया है, वह कोई राजनेता नहीं बल्कि बड़े व्यवसायी हैं. भले ही कांग्रेस ए.डी सिंह के नामांकन से नाराज है. लेकिन उनके कनेक्शन कांग्रेस नेताओं से भी काफी मधुर रहे हैं. बताया जा रहा है कि वह कांग्रेस महासचिव और वरिष्ठ नेता अहमद पटेल के करीबी हैं.

ये भी पढ़ें--लालू के दोनों 'लाल' में तेज हुआ बवाल! तेजप्रताप ने खुद को बता दिया 'दूसरा लालू'

ये भी पढ़ें--क्या बिहार को शराब से बर्बाद करना चाहती है कांग्रेस?

कौन हैं अमरेन्द्रधारी सिंह
अमरेंद्रधारी सिंह पटना के ही रहने वाले हैं. उनकी गिनती रसूखदार व्यवसायियों में होती हैं. उनका परिवार पटना के पालीगंज के पास अइखन गांव का बड़ा जमींदार परिवार माना जाता है. आज भी अमरेंद्रधारी सिंह के हिस्से एक हजार बीघा की जमीन है. इसके अलावा वे रियल एस्टेट में एक सफल उद्यमी के रूप में भी खुद को स्थापित कर चुके हैं.
ए.डी सिंह 12 से भी अधिक देशों में फर्टिलाइजर और केमिकल का आयात करते हैं, जिसकी कीमत करोड़ों रुपए आती है. यहीं नहीं बिहार के कुछ गिने-चुने प्रतिष्ठित व्हाइट कॉलर व्यक्तियों में इनकी गिनती होती है. वे दिल्ली के प्रतिष्ठित गोल्फ क्लब के भी सदस्य हैं.

ये भी पढ़ें--बिहार का मुख्यमंत्री बनने की होड़ में तेजस्वी अपने ही परिजनों से पीछा छुड़ा रहे हैं