close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राम मंदिर पर फैसले की घड़ी, आरएसएस नेता कुछ इस तरह कर रहे हैं तैयारी

राम मंदिर के लिए गहमागहमी बढ़ती जा रही है. शायद यही वजह है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कई वरिष्ठ नेता इन दिनों दिल्ली में ही टिके हुए हैं. सुप्रीम कोर्ट में राम मंदिर को लेकर चल रही सुनवाई को देखते हुए आरएसएस ने हरिद्वार में अपनी एक बड़ी बैठक स्थगित कर दी है. 

राम मंदिर पर फैसले की घड़ी, आरएसएस नेता कुछ इस तरह कर रहे हैं तैयारी
दिल्ली में संघ नेताओं ने डेरा डाला

नई दिल्ली: राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट जल्दी ही फैसला सुना सकता है. इसको लेकर देश में कई तरह की गतिविधियां चल रही हैं. राम मंदिर के फैसले को नजर में रखते हुए आरएसएस भी एक्टिव हो गया है. उसके कई वरिष्ठ नेता दिल्ली में ही टिके हुए हैं. 

संघ ने स्थगित की अपनी बड़ी बैठक 
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की एक बड़ी बैठक हरिद्वार में होने वाली थी. हर पांच साल में होने वाली इस बैठक की योजना पहले से तैयार थी. जिसमें संघ से जुड़े सभी अनुषांगिक संगठन हिस्सा लेने वाले थे. इस कार्यक्रम की अध्यक्षता खुद आरएसएस के सरसंघचालक मोहन भागवत करने वाले थे. लेकिन सुप्रीम कोर्ट में राम मंदिर मामले की सुनवाई अपने अंतिम चरण पर पहुंचती देखकर संघ ने अपनी हरिद्वार बैठक स्थगित कर दी. अब आरएसएस के नेता दिल्ली में बैठकर आगामी घटनाक्रम पर नजर बनाए हुए हैं. राम मंदिर मामले के अंजाम तक पहुंचने की संभावना को देखते हुए संघ के वरिष्ठ पदाधिकारियों के दौरे रद्द कर दिए गए हैं. 

दिल्ली के छतरपुर में बनी रणनीति
30 और 31 अक्टूबर को दिल्ली में छतरपुर के ध्यान साधना केन्द्र में भाजपा नेताओं के साथ संघ के अनुषांगिक संगठनों के नेताओं की  बैठक हुई थी. दो दिनों की इस बैठक में संघ और भाजपा के नेताओं ने राम मंदिर पर फैसला आने के बाद की रणनीति पर विचार किया. इस बैठक की अध्यक्षता आरएसएस के सरसंघचालक मोहन भागवत ने की. छतरपुर बैठक में संघ के सभी 36 अनुषांगिक संगठनों शीर्ष पदाधिकारियों समेत भाजपा अध्यक्ष व गृहमंत्री अमित शाह, कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा और संगठन के संयुक्त महासचिव बीएल संतोष ने भी हिस्सा लिया. दरअसल अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण संघ परिवार का पुराना सपना है. जिसका समय अब नजदीक आ गया है. इसी वजह से संघ नेताओं की गहमागहमी बढ़ गई है. 

संघ प्रमुख के अलावा लगभग सभी वरिष्ठ नेता दिल्ली में

सूत्रों के हवाले से खबर आ रही है कि राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद पैदा हुई परिस्थितियों को संभालने के लिए आरएसएस के लगभग सभी वरिष्ठ नेता दिल्ली में जमे  हुए हैं. इसमें संघ के सर कार्यवाह सुरेश भैय्याजी जोशी, सह सर कार्यवाह डॉ. कृष्ण गोपाल, सह सर कार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले और अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख अरुण कुमार भी शामिल हैं. यह सभी नेता 30 अक्टूबर से ही दिल्ली में हैं. 

आरएसएस नेताओं ने रद्द किए कार्यक्रम
सभी आरएसएस नेताओं ने नवंबर में अपने सभी कार्यक्रम स्थगित कर दिए हैं. 4 नवंबर को अयोध्या में दुर्गा वाहिनी शिविर का आयोजन किया गया था, 17 नवंबर को लखनऊ में एकल कुंभ महोत्सव होने वाला है. लेकिन इन सभी कार्यक्रमों में संघ के नेता शिरकत नहीं करेंगे. सभी प्रचारकों से उनके संबद्ध केन्द्रों में बने रहने का आदेश दिया गया है.