महाराष्ट्र: गवर्नर ने कहा " चौबीस घंटे में बनानी होगी शिवसेना को सरकार"

महाराष्ट्र की राजनीति के लिए सोमवार का दिन बेहद अहम रहा. भाजपा के सरकार बनाने से इनकार कर देने के बाद पूरा दिन शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस नेताओं ने मंथन में  बिताया. आईए आपको बताते हैं दिन भर चले राजनीतिक घटनाक्रमों का निचोड़

महाराष्ट्र: गवर्नर ने कहा " चौबीस घंटे में बनानी होगी शिवसेना को सरकार"
महाराष्ट्र में सरकार पर खत्म सस्पेंस

मुंबई: महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना गठबंधन की सरकार नहीं होगी, इतना तो पिछले दिनों भाजपा प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल के बयान के बाद तय हो गया था. अब पूरा मामला शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के कंधों पर है कि जनाधार ना होने के बाद भी ये तीनों पार्टियां प्रदेश में सरकार कैसे बनाएंगी. एनसीपी की हां के बाद अब सरकार बनाने की गेंद कांग्रेस के पाले में है. कांग्रेस ने फिलहाल इस मामले पर अपना स्टैंड साफ नहीं किया है. सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस ने पहले जो सरकार को बाहर से समर्थन करने की बात कही थी, यह अब बदल चुका है.  

उद्धव ठाकरे हो सकते हैं प्रदेश सीएम

उधर एनसीपी ने शिवसेना को साफ कर दिया है कि मुख्यमंत्री पद पर किसी परिपक्व व्यक्ति को बिठाया जाए. एनसीपी प्रमुख शरद पवार से मिलने के बाद मामला यहां पहुंचा है कि अब गठबंधन के मुख्यमंत्री आदित्य ठाकरे की जगह उद्धव ठाकरे सीएम हो सकते हैं.इसके अलावा गठबंधन की सरकार में दो-दो उपमुख्यमंत्री हो सकते हैं.  फिलहाल सरकार बनाने को लेकर तीनों दलों के किसी भी प्रतिनिधि ने राज्यपाल को हामी नहीं भरी. 

गवर्नर ने दी 24 घंटे की मोहलत

वर्ली के विधायक आदित्य ठाकरे और शिवसेना के विधायक दल के नेता एकनाथ सिंदे अभी राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मिलने पहुंचे हैं. कयास लगाया जा रहा है कि आदित्य ठाकरे और एकनाथ सिंदे के पास फिलहाल विधायकों की लिस्ट तो नहीं लेकिन सरकार बनाने के दावे पर जरूर हामी भर दी है. राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से शिवसेना ने वक्त मांगा  जिसे उन्होंने रिजेक्ट कर दिया.गवर्नर ने कहा कि वे उन्हें 24 घंटे दिए हैं कि कोई भी पार्टी और दल सरकार बनाने का दावा पेश करे. आदित्य ठाकरे ने कहा कि सरकार बनाने की उनकी अर्जी को फिलहाल खारिज नहीं किया गया है. उन्होंने कहा कि हमें प्रदेश में स्थिर सरकार चाहिए. इसलिए हम जल्द इसपर राज्यपाल को ज्ञापन सौंपेंगे.

शिवसेना के पास फिलहाल 7 निर्दलीय विधायकों का समर्थन भी है. उधर जयपुर में महाराष्ट्र के कांग्रेस विधायकों को होटल में पार्टी के फैसले से अवगत कराने के लिए राजस्थान के मुख्यंत्री अशोक गहलोत और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पहुंचे हुए हैं.  वहां वे दिल्ली में सोनिया गांंधी के साथ हुई पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की  बैठक की जानकारी दी. हालांकि, अब भी सरकार बनाने को लेकर गठबंधन के अंदर कयासों की ही बातें चल रही है.