जैसा बाप वैसा बेटा, शातिर अपराधी अतीक का आरोपी बेटा हुआ फरार

यूपी के खूंखार अपराधी अतीक अहमद का बेटा फरार मोहम्मद उमर फरार है. उसपर एक कारोबारी के अपहरण का आरोप है. सीबीआई ने उसकी गिफ्तारी पर 2 लाख का इनाम रखा है.  

जैसा बाप वैसा बेटा, शातिर अपराधी अतीक का आरोपी बेटा हुआ फरार

प्रयागराज: बाहुबली नेता अतीक अहमद की मुश्किलें का बेटा भी उसके जैसा ही निकला. उसके बेटे उमर की गिरफ्तारी का वारंट निकला है. सीबीआई उसकी तलाश कर रही है.

देवरिया जेल मे कारोबारी के अपहरण का है मामला
ये मामला देवरिया जेल में लखनऊ के कारोबारी मोहित अग्रवाल की पिटाई से जुड़ा है. यह अपराध अतीक अहमद और उनके करीबियों का पीछा नहीं छोड़ रहा है. दिसंबर 2018 में लखनऊ से अगवा कर देवरिया जेल में पिटाई करने का सनसनीखेज आरोप लगाते हुए लखनऊ के कारोबारी मोहित अग्रवाल ने लखनऊ के कृष्णा नगर थाने में अतीक अहमद और उसके बेटे उमर समेत अन्य को आरोपी बनाया था.  जिसमें रंगदारी, लूट अपहरण समेत कई संगीन धाराओं में मामला दर्ज हुआ था. जिसके बाद प्रदेश की जेल की पोल खुली थी और जेल के अंदर माफियाओं की गुंडागर्दी का काला सच भी सामने आया था. इस घटना का खुलासा होने के बाद देवरिया जेल से अतीक अहमद को बरेली जेल भेज दिया गया था.

अतीक के बेटे उमर के पीछे सीबीआई
ऐसी खबर आई थी कि अतीक अहमद के बेटे उमर को उत्तर प्रदेश पुलिस बचाने का प्रयास कर रही थी. यहां तक कि अतीक अहमद के बेटे का नाम पुलिस एफआईआर से ही निकाल चुकी थी.  लेकिन मामला सीबीआई के हाथ जाने के बाद अतीक अहमद के बेटे उमर की मुश्किलें बढ़ गईं. सीबीआई ने उमर को आरोपी बनाते हुए एफआईआर दर्ज उसकी मंशा पर पानी फेर दिया था.  इसके बाद से उमर सीबीआई के सामने नहीं आया और तलाश में पकड़े नहीं जाने के बाद उस पर 2 लाख का इनाम घोषित किया गया, बावजूद उसके उमर अभी तक गिरफ्त में नहीं आ सका है.


सीबीआई की टीम एक बार फिर से सक्रिय हुई है. प्रयागराज में अतीक अहमद और उसके करीबियों के ठिकानों पर जांच और पड़ताल में जुटी हुई है. शहर में कई जगहों पर उसकी उसकी तलाश के लिए फ़ोटो चस्पा क़ी गई है. सीबीआई की टीम पिछले तीन दिनों के भीतर कई जगहों पर छापेमारी भी की लेकिन उमर पुलिस की गिरफ्त में नहीं आ सका.

जेल के अंदर से साम्राज्य चलाता है अतीक
जेल के अंदर बाहुबली नेता अतीक अहमद के रसूख़ और उसकी कारस्तानी का संज्ञान लेते हुए सुप्रीम कोर्ट ने योगी सरकार से अतीक अहमद को उत्तर प्रदेश के बाहर की जेल में रखने का आदेश दिया था.  जिसके बाद अतीक अहमद को अहमदाबाद के साबरमती जेल भेज दिया गया.  सुप्रीम कोर्ट के ही आदेश पर मामले की जांच कर रही सीबीआई ने अतीक अहमद, बेटे उमर समेत अन्य लोगों पर एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू की.

अतीक का पूरा खानदान है अपराधी
अतीक अहमद और उसके परिवार का फरारी काटने का लंबा इतिहास रहा है.  इससे पहले मई 2007 में जब उत्तर प्रदेश में बसपा की सरकार बनी तब अतीक अहमद सांसद रहते हुए भगोड़ा घोषित हुआ था. उसका भाई पूर्व विधायक अशरफ भी कई सालों तक फरारी काटता रहा.  हालांकि इस बीच अतीक अहमद की बेहद नाटकीय ढंग से गिरफ्तारी हुई और 2012 में विधानसभा चुनाव से कुछ दिन पहले ही जेल से छूट कर बाहर आ गया.


वही 2017 विधानसभा चुनाव से ठीक पहले अतीक अहमद के दुर्दिन दोबारा शुरू हुए तो सूबे में योगी सरकार बनने के बाद उसके भाई पूर्व विधायक अशरफ एक बार फिर फरारी काटने लगा.  असरफ की गिरफ्तारी पर प्रयागराज पुलिस ने 1 लाख का इनाम भी घोषित कर रखा है.  पुलिस की कई टीमें उसे प्रदेश व प्रदेश के बाहर कई इलाकों में तलाश भी कर चुकी है लेकिन पुलिस के हाथ फिलहाल अभी तक खाली ही है.

प्रयागराज से गुफरान की रिपोर्ट

ये भी पढ़ें--कश्मीर में आतंकवाद के खिलाफ आखिरी जंग, दो आतंकी मारे गए, एक गिरफ्तार

ये भी पढ़ें--होली के मौके पर बढ़ सकती हैं परेशानियां, 46 ट्रेनों को किया गया रद्द

ये भी पढ़ें--वारिस पठान के भड़काऊ बयान पर एक्शन

ये भी पढ़ें--ओवैसी के 'वारिस' को BJP की लताड़, "कौन सी आजादी चाहिए, किससे आजादी चाहिए?"