• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 3,01,609 और अबतक कुल केस- 8,78,254: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 5,53,471 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 23,174 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 62.92% से बेहतर होकर 63.01% पहुंची; पिछले 24 घंटे में 18,850 मरीज ठीक हुए
  • कोविड-19 से ठीक होने वाले मामलों की संख्या, सक्रिय मामलों से 2,51,862 से ज्यादा, रिकवरी दर 63.01% पर पहुंची
  • देश भर में कोविड-19 की कुल 1194 प्रयोगशालाएं हो गई है. बीते 24 घंटे में 2.8 लाख से अधिक नमूनों की जांच की गई
  • मामलों की जल्द से जल्द से पहचान, सही समय पर निदान जैसे उपायों से देश में कोविड की वजह से मृत्यु दर सबसे न्यूनतम 2.66% है
  • भारतीय रेलवे ने पहली बार देश की सीमाओं से परे आंध्र प्रदेश से बांग्लादेश तक विशेष पार्सल ट्रेन लोड कर भेजा है
  • तराशे और पॉलिश किए गए हीरे के पुनः आयात के लिए 3 माह की छूट प्रदान की है, जिन्हें प्रमाणन और ग्रेडिंग के लिए विदेश भेजा जाता है
  • कोविड-19 से संबंधित मदद, सलाह और उपायों के लिए 24x7 टोल-फ्री राष्ट्रीय हेल्पलाइन नंबर 1075 पर कॉल करें
  • कोविड मरीजों के साथ दुर्व्यवहार न करें, एक सुरक्षित शारीरिक दूरी बनाए रखें

दक्षिणी कश्मीर हो रहा आतंक मुक्त, रिपोर्ट आई सामने

2020 की शुरुआत घाटी में सफल ऑपरेशन्स के साथ हुई है. कुछ दिन पहले हिज्बुल मुजाहिदीन का हमाद खान अपने दो अन्य साथियों के साथ गुलशनपुरा त्राल में मारा गया था. उसके पहले एक जिंदा आतंकी श्रीनगर में पकड़ा गया. श्रीनगर से जैश का मॉड्यूल चलाने वाले 5 लोग IED और आत्मघाती बेल्ट सहित पकड़े गए. डीएसपी देविंदर सहित आतंकी भी हाइवे पर पकड़े गए. घाटी के डीजीपी ने कहा कि अगर लोग इसी तरह सहयोग देते रहेंगे तो आगे भी ऐसे ऑपरेशन जारी रहेंगे.  

दक्षिणी कश्मीर हो रहा आतंक मुक्त, रिपोर्ट आई सामने

श्रीनगर: वर्ष 2020 कश्मीर में सुरक्षबलों के लिए अब तक बेहद सफल वर्ष के रुप में देखा जा रहा है. एक तरफ जहां तीन सफल मुठभेड़ हुई जिनमें 7 आतंकी धेर किए गए और उनके पास से भारी मात्रा में हथियार और गोला बारूद भी बरामद किया गया. बता दें कि मारे गए आतंकियों में कई आतंकी कमांडर भी शामिल थे. 

कई सफल ऑपरेशनों को दिया अंजाम

इसके अलावा सुरक्षबलों ने अब तक 11 आतंकियों और उनके समर्थकों को भी गिरफ्तार किया है. इस दौरान आतंकियों की मदद कर रहे पुलिस डीएसपी भी पकड़े गए थे.ए दो आतंकियों और एक मददगार में से हिज्ब का कमांडर नवेद बाबू भी शामिल हैं, जिसके इशारे पर कई आतंकियों के हाइडाउट भी पकड़े गए. इसके अलावा दक्षिणी कश्मीर के गुलशन पोरा में एक हिज्ब का आतंकी पकड़ा गया, गंदेरबल में लश्कर का एक आतंकी और श्रीनगर में लश्कर का एक और आतंकी पकड़ा गया. श्रीनगर में आतंकी की एक बड़ी साजिश का खुलासा किया गया जब 5 जेश के आतंकियों को पुलिस ने हथियार और गोला बारूद समेत गिरफ्तार किया.

इन खास विमानों के बेड़े से हमारी वायुसेना हो जाएगी अजेय, लिंक पर क्लिक कर जानें खबर.

आज भी सुरक्षबलों को एक बड़ी सफलता हाथ लगी जब शोपियां के वचि इलाके में एक हिज्ब कमांडर सहित तीन आतंकियों को मार गिराया गया. यह ऑपरेशन सुबह 7 बजाए एक सूचना के आधार पर शुरू किया गया था. आतंकियों के खिलाफ सुरक्षबलों का यह अभियान तब मुठभेड़ में बदला जब करीब 10.30 बजे आतंकियों ने तलाशी दल पर ताबड़तोड़ गोलियां चलाई और फरार होने की कोशिश की मगर सतर्क सुरक्षाबलों ने उन्हें धेर कर दिया.

डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा आगे भी जारी रहेंगे ऑपरेशन

जम्मू कश्मीर पुलिस के डीजीपी दिलबाग सिंह ने इस ऑपरेशन को वर्ष 2020 का एक और सफल ऑपरेशन बताते हुए कहा कि इस मुठभेड़ में मारे गए तीनों आतंकियों की शिनाख्त हिज्ब के कमांडर वसीम अहमद वानी, आदिल बशीर शेख और जहांगीर मलिक के तौर पर हुई है. उन्होंने बताया कि इन तीनों आतंकियों की अपराध की एक लंबी फेहरिस्त है. सिंह के अनुसार वसीम 2017 से आतंकवाद में सक्रिय था और हिज्ब के अंदर वर्तमान में इसका एक अच्छा दर्जा था. उन्होंने बताया कि वह कई वारदातों को अंजाम दे चुका था और उसके खिलाफ 19 FIR  दर्ज थे. उसने 4 स्थानीय नागरिकों को भी मारा गया था और साथ ही गारत ड्यूटि पर तैनात 4 पुलिस कर्मियों को भी मारा था. डीजीपी ने बताया कि आदिल शेख जोकि जम्मू कश्मीर पुलिस में एसपीओ था 29 सितंबर, 2018 को श्रीनगर के जवाहर नगर इलाके से पूर्व पीडीपी विधायक ऐजाज अहमद के घर से 7 एके-47 और 1 पिस्टल लेकर फरार हुआ था और हिज्ब में शामिल हो गया था. स्थानीय लोगों की इन हत्याओं में आदिल भी वसीम के साथ रहा है. जहांगीर भी 2017 से वसीम के साथ सक्रिय था और इस ग्रुप का सफाया हो जाना शोपियां के लोगों में पैदा हुए खौफ और दहशत के माहौल को खत्म करेगा. जिनके घर वाले इनके द्वारा मारे गए थे वो चैन की सांस लेंगे और इनके मारे जाने से शोपियां में मारे गए पुलिस कर्मियों का कर्ज भी चुकता हो गया.