भूजल दोहन मामले में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को दिया नोटिस, NGT के फैसले को दी थी चुनौती

सुप्रीम कोर्ट ने एनजीटी के उस आदेश के खिलाफ अपील पर शुक्रवार को केंद्र और अन्य पक्षों से जवाब मांगा जिसमें नोएडा गोल्फ कोर्स सोसायटी पर अनधिकृत रूप से पानी निकालने पर 25 लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया था. 

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Sep 24, 2021, 06:43 PM IST
  • सुप्रीम कोर्ट ने मांगा केंद्र और अन्य पक्षों से जवाब
  • एनजीटी के आदेश के खिलाफ दायर की थी याचिका
भूजल दोहन मामले में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को दिया नोटिस, NGT के फैसले को दी थी चुनौती

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने एनजीटी के उस आदेश के खिलाफ अपील पर शुक्रवार को केंद्र और अन्य पक्षों से जवाब मांगा जिसमें नोएडा गोल्फ कोर्स सोसायटी पर अनधिकृत रूप से पानी निकालने पर 25 लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया था. 

न्यायमूर्ति एसए नजीर और न्यायमूर्ति कृष्ण मुरारी की पीठ ने पर्यावरण और वानिकी मंत्रालय, उत्तर प्रदेश सरकार, केंद्रीय भूजल प्राधिकरण, न्यू ओखला औद्योगिक विकास प्राधिकरण और अन्य को पत्र जारी कर एनजीटी के फैसले के खिलाफ अपील पर जवाब मांगा है.  

सुप्रीम कोर्ट ने अपील को उसके समक्ष लंबित मामले के साथ चिह्नित किया. पीठ ने कहा, 'भूजल का अत्यधिक दोहन नहीं करें. क्या आप अब भी भूजल निकाल रहे हैं'. नोएडा गोल्फ कोर्स सोसाइटी की ओर से पेश हुए वकील ने पीठ को बताया कि सोसाइटी नोएडा प्राधिकरण द्वारा जल-मल शोधन संयंत्र से उपलब्ध कराए जा रहे पानी का इस्तेमाल कर रही है.

ये भी पढ़ें- Delhi: रोहिणी कोर्ट में गैंगवार, गैंगस्टर जीतेंद्र गोगी समेत 3 बदमाश ढेर

बता दे कि अनधिकृत रूप से भूजल का दोहन किए जाने के मामले में एनजीटी ने नोएडा गोल्फ कोर्स और एडवैंट नैविस बिजनेस पार्क पर 25 लाख रुपये का जुर्माना लगाया था. हरित इकाई ने यह आदेश केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की एक समिति की रिपोर्ट के बाद दिया था, जिसमें कहा गया था कि भूजल का अवैध दोहन किया जा रहा है और बागवानी के लिये इस भूजल का दुरुपयोग किया जा रहा है. 

ये भी पढ़ें- असम हिंसा में घायल प्रदर्शनकारी संग मारपीट करने वाला फोटोग्राफर गिरफ्तार, CID को सौंपा गया मामला

अधिकरण ने कहा था कि यह स्पष्ट नहीं है कि अनापत्ति प्रमाण पत्र की शर्तो का पालन किया जा रहा है या नहीं. बोर्ड ने अपने पिछले निर्देशों का उल्लेख किया कि भूजल का उपयोग खेल के मैदान के लिए क्रिकेट के मैदान के रूप में नहीं किया जा सकता है, विशेष रूप से अधिक उपयोग वाले, महत्वपूर्ण और अर्ध-महत्वपूर्ण क्षेत्र में, जो गोल्फ कोर्स पर भी लागू होता है. 

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़