सरकार को खबर नहीं उधर भगोड़े नित्यानंद ने बसा लिया नया देश

13 दिन बाद भगोड़े नित्यानंद बाबा के बारे में सनसनीखेज खबर आई है. पता चला है कि उसने नया देश बसा लिया है. नाम रखा है कैलासा. इसकी जानकारी खुद नित्यानंद ने वेबसाइट के जरिए दी है. 

सरकार को खबर नहीं उधर भगोड़े नित्यानंद ने बसा लिया नया देश

नई दिल्लीः दुष्कर्म, बच्चों से यौन शोषण और अन्य मामलों में फरार स्वयंभू बाबा नित्यानंद अब अचानक सामने आ गया है. इस बार वह और चौंकाने वाले वजहें लेकर आया है. जानकारी मिली है कि भगोड़े बाबा नित्यानंद ने अपना अलग देश बसा लिया है. नाम रखा है कैलासा, और इसकी वेबसाइट भी बना ली है. वेबसाइट के जरिए ही उसने नया देश बनाए जाने की घोषणा की है व जानकारी दी है.  नित्यानंद ने इस नए देश की वेबसाइट भी बनाई है. इस वेबसाइट पर दावा किया गया है- कैलासा बिना सीमाओं का देश है जिसे दुनियाभर से बेदखल हिंदुओं ने बसाया है. वेबसाइट पर कैलासा को महानतम हिंदू राष्ट्र बताया गया है. गुजरात पुलिस ने 21 नवंबर को बताया था कि नित्यानंद देश छोड़कर भाग गया है. 

इक्वाडोर की ओर भागा था
जानकारी के अनुसार नित्यानंद ने दक्षिण अमेरिकी महाद्वीप में त्रिनिदाद और टोबैगो के पास इक्वाडोर के एक द्वीप पर अपना नया देश बसा लिया है. उसने इस देश का नाम कैलासा रखा है. बताया जा रहा है कि  वह नेपाल के रास्ते इक्वाडोर भागा था. हालांकि, इन रिपोर्ट्स की कोई पुष्टि नहीं हुई है. कर्नाटक में दर्ज दुष्कर्म के एक मामले में नित्यानंद वांछित है.

उस पर आरोप है कि अपना आश्रम चलाने के लिए बच्चों का अपहरण कर उनसे श्रद्धालुओं से चंदा जुटाने के लिए मजबूर करता था. पुलिस ने इस मामले में उसकी दो अनुयायियों को भी गिरफ्तार कर चुकी है. 

विदेश मंत्रालय को नहीं थी जानकारी
गुजरात पुलिस ने नित्यानंद के विदेश भागने का दावा करते हुए कहा था कि उसे खोजना अब समय बरबाद करना है. इसी के साथ पुलिस ने नित्यानंद के विदेश भागने की भी बात कही थी. इस बारे में विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा था कि उन्हें नित्यानंद के भाग जाने की जानकारी नहीं है. हालांकि आज 13 दिन बाद गुजरात पुलिस का दावा सच होता दिख रहा है.

अगर मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो नित्यानंद त्रिनिदाद और टोबैगो के आस-पास क्षेत्र में ही है. 

द्वीप खरीदने की सूचना मिल चुकी थी
देश में जब नित्यानंद पर मामले बढ़ चुके थे और उसरे फरार होने की खबरें तैर रही थीं तो इस दौरान एक और खास सूचना सामने आई थी.  भगोड़ा नित्यानंद स्वामी एक कैरेबियाई द्वीप खरीदकर शाही जिंदगी जीने की योजना बना रहा था. उसकी एक पूर्व शिष्या साराह लेंड्री ने सोशल मीडिया पर यह जानकारी दी थी. कैरेबियाई टापू पर अपनी युवा शिष्याओं के साथ शाही जिंदगी बिताने के लिए नित्यानंद भारत के बड़े शहरों से धन बटोरने में जुटा था.

विवादों के 'स्वामी' स्वंयभू संत नित्यानंद का बंधा बोरिया-बिस्तर, रद्द हुई मान्यता