हर तरफ हर शक्ल में छिपे हैं भेड़िए, कब तक बचेंगी बेटियां

देश में निर्भया जैसी घटनाओं के बाद जो बवाल उठा था, इससे यह लगा था कि समाज में दरिंदगी की हदें पार करने वाले लोगों को समझ आ जाएगा, लेकिन हालात अब और भी खराब होते जा रहे हैं. हैदराबाद में पशु चिकित्सक की रेप कर के जिंदा जलाने की घटना से पूरा देश सदमें में है, लेकिन इस घटना के बाद भी समाज में इंसान के चोले में हैवान थमें नहीं हैं. हरकतें ऐसी कि मानवता की दुहाई भी नहीं दी जा सकती.  

हर तरफ हर शक्ल में छिपे हैं भेड़िए, कब तक बचेंगी बेटियां

नई दिल्ली: हैदराबाद में पशु चिकित्सक के साथ हैवानियत की हद पार करने वाले लोगों से भी ज्यादा शैतान हमारे बीच ही रहते हैं. इसका अंदाजा आपको इस बात से होगा कि पीड़िता की रेप की घटनाओं के समाचार के बाद से नेटीजंस की वह जाहिल आबादी उसे उसके नाम से पॉर्न साइट्स पर खोजने लगी. जी हां, आपको हैरानी हो रही होगी कि आखिर ये कौन सी नस्ल के लोग हैं, जो रेप पीड़िता को पॉर्न साइट्स पर ढूंढ़ रहे हैं. जहां एक ओर पूरा देश एकस्वर में इसका विरोध कर रहा है, पीड़िता के लिए न्याय की गुहार लगा रहा है, वहीं कुछ ऐसे भी छुपे हुए वहशी लोग हैं जो ये सब कारनामें कर रहे हैं. 

कई घटनाएं ऐसी भी जिसपर नहीं गई किसी की नजर 

राजधानी दिल्ली के संसद गेट पर विरोध कर रही लड़की अनु दुबे हो या घर में समाचार पढ़ कर दुबक कर बैठी कोई बेटी-बहन, इन घटनाओं ने सबको सकते में डाल दिया है. माता-पिता और भाई इस बात से सहम जाते हैं कि आखिर इस समाज में लड़कियां कैसे बचाईं जाएंगी. लेकिन रूकिए, जरा सोचिए क्या यह घटनाएं छिटपुट हैं, क्या समाज में सिर्फ कुछ ही महिलाएं हैं जो इन नरभक्षियों का शिकार हुईं हैं. नहीं, यह सिर्फ वह घटनाएं हैं, जिनपर मीडिया की, समाज की और सरकार की नजर जाती है.

भारत में हर दिन रेप और हत्या की इतनी वारदातों को अंजाम दिया जाता है कि उसका कोई रिकॉर्ड भी नहीं मिलता. हमारे पास जितनी घटनाएं मीडिया के माध्यम से पहुंच पाती हैं, बस वहीं संवेदना से भर देती हैं. हैदराबाद में दो-दो बलात्कार और हत्या की घटनाओं के बाद कम से कम सौ-दो सौ ऐसे मामले सामने आए हैं. ये सौ-दो सौ वहीं मामले हैं, जिनको फाइलों में या पुलिस स्टेशन में दर्ज करा लिया गया है. नहीं तो कई ऐसे मामले हैं जो दब जाते हैं और जिनका कुठ पता ही नहीं चलता. 

हैदराबाद की घटना के बाद भी कुछ ऐसे वारदात हैं जो अंजाम दिए गए

- राजस्थान के टोंक जिले में एक 6 साल की बच्ची का पहले रेप किया गया. इसके बाद जब अपराधियों को लगा कि वे फंस सकते हैं तो उन्होंने उस मासूम को उसके ही बेल्ट से गले में पट्टा लगाकर मार दिया. मालूम हो कि बच्ची पिछले कुछ दिनों से लापता थी. वह अपने स्कूल के एक स्पोर्ट्स प्रोग्राम में गई थी. 

- आंध्र प्रदेश की कड़पा जिले में एक पुजारी ने अल्पसंख्यक समुदाय की एक लड़की के साथ दुर्व्यवहार किया. पुजारी का नाम दारूंगला रावी बताया जा रहा है. पुलिस ने बताया कि पुजारी ने एक परीक्षा के बहाने लड़की को बुलाया और अकेले पा कर उसके साथ जबरदस्ती करने की कोशिश की. माता-पिता के शिकायत दर्ज कराने के बाद पुलिस ने जांच शुरू की. 

- कोयंबटूर के श्रीनायकेन पलयम में एक 11वीं क्लास की लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार किया गया. पहले लड़की के साथ उसके दोस्त को 6 बदमाशों ने मारा-पीटा और उसके सारे कपड़े फाड़ डाले. इसके बाद उन्होंने लड़की को भी कपड़े उतारने को मजबूर किया और जब वह मना करने लगी तो उनमें से दो ने उसके साथ बलात्कार किया और 4 ने वीडियो रिकॉर्डिंग की. 

- उत्तरप्रदेश के हरदोई जिले में एक 7 साल की बच्ची के साथ बलात्कार किया गया और उसे मौत के घाट उतार दिया गया. मासूम अपने पड़ोस में हो रही शादी समारोह में पहुंची थी. गुनहगार ने पुलिस को बताया कि उसने ही यह सब किया है. छानबीन के बाद पुलिस ने उसे धर-दबोचा था, जिसके बाद उसने बताया कि लड़की को किसी मंदिर के पीछे ले जा कर उसने उसके साथ रेप किया और फिर मार दिया. 

- तमिलनाडू के कडलोर जिले में 4 बदमाशों ने मिलकर एक 32 साल की महिला के साथ बलात्कार किया. बदमाशों की जाहिली और दरिंदगी का अंदाजा इस बात से लगया जा सकता है कि वे पहले किसकी बारी को लेकर आपस में ही लड़ गए और उनमें से एक की मार-पीट में मौत भी हो गई. महिला किसी तरह बच तो गई लेकिन उसकी हालत ठीक नहीं. वह एक विधवा है और तीन बच्चों की मां है.