• देश में कोविड-19 से सक्रिय मरीजों की संख्या 97,581 पहुंची, जबकि संक्रमण के कुल मामले 1,98,706: स्त्रोत-PIB
  • कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की संख्या- 95,527 जबकि अबतक 5,598 मरीजों की मौत: स्त्रोत-PIB
  • पीएम ने एमएसएमई को सशक्त बनाने के लिए चैंपियन नामक प्रौद्योगिकी मंच लॉन्च किया
  • कोविड-19 के बीच सुरक्षित यात्रा सुनिश्चित करने के लिए सरकार ने घरेलू यात्रियों के लिए दिशानिर्देश जारी किए
  • कैबिनेट ने कृषि और संबद्ध गतिविधियों के लिए अल्पावधि ऋण को चुकाए जाने की समय सीमा बढ़ाने को मंजूरी दी
  • कैबिनेट ने संकटग्रस्त MSME के लिए 20,000 करोड़ रुपये के प्रावधान को मंजूरी दी, इससे संकट में फंसे 2 लाख एमएसएमई को मदद मिलेगी
  • कैबिनेट ने एमएसएमई ने परिभाषा के संशोधन को मंजूरी दी, मध्यम उद्यमों के लिए टर्नओवर की सीमा को संशोधित कर 250 करोड़ किया गया
  • ECLGS/MSME से संबंधित प्रश्नों और अन्य उपायों के लिए DFS ने ट्विटर हैंडल @DFSforMSMEs का शुभारंभ किया
  • वन नेशन वन कार्ड योजना में 3 और राज्य शामिल किए गए: खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री
  • डीआरडीओ ने पीपीई और अन्य सामग्रियों के कीटाणुशोधन के लिए अल्ट्रा स्वच्छ विकसित किया

सतर्क रहें लोग, किसी अफवाह में पड़कर कोई भी मुहिम न शुरू करें

कोरोना संकट के दौर में अफवाह भी एक बड़ी समस्या है. सोशल मीडिया पर किसी भी तरह कि अफवाह लॉकडाउन के फायदे कम कर सकती है. बुधवार को ऐसी ही एक अफवाह के बारे में खुद पीएम मोदी को सतर्क करना पड़ा.   

सतर्क रहें लोग, किसी अफवाह में पड़कर कोई भी मुहिम न शुरू करें

नई दिल्लीः कोरोना संकट के बीच अफवाह एक बड़ी समस्या है. सोशल मीडिया पर लोग तमाम तरह की अफवाह उड़ा दे रहे हैं, जिससे सोशल डिस्टेंसिंग खतरे में आ जा रही है. हालांकि मीडिया, पुलिस और स्थानीय प्रशासन लोगों को जागरूक कर रहे हैं और हर स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं, लेकिन फिर भी कई बार गलत संदेश तेजी से वायरल हो जा रहे हैं. बुधवार को पीएम मोदी ने अफवाह और गलत मुहिम पर खुद हस्तक्षेप किया. 

कोरोना के बीच स्थितियां संभाल रहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार को नाराजगी जाहिर की. उन्होंने ट्वीट कर उत्साही समर्थकों को फटकार लगाई और ऐसा न करने के लिए अपील की. दरअसल कुछ लोगों ने पीएम के सम्मान में पांच मिनट खड़े होकर उन्हें सम्मान देने जैसी मुहिम चलाई थी. उन्होंने ऐसा न करने के लिए अपील की है. 

प्रधानमंत्री ने किया ट्वीट
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने कुछ उत्साही समर्थकों को फटकार लगाई है. पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा है कि उनके ध्यान में लाया गया है कि कुछ लोग यह मुहिम चला रहे हैं कि 5 मिनट खड़े रहकर मोदी को सम्मानित किया जाए. पहली नजर में तो यह मोदी को विवादों में घसीटने की कोई खुराफात लगती है. पीएम मोदी ने कहा कि हो सकता है कि यह किसी की सदिच्छा हो. 

सोशल मीडिया पर चले थे मैसेज
पीएम ने कहा कि मेरा आग्रह है कि यदि सचमुच में आपके मन में इतना प्यार है और मोदी को सम्मानित ही करना है तो एक गरीब परिवार की जिम्मेदारी कम से कम तब तक उठाइए, जब तक कोरोना वायरस का संकट है. मेरे लिए इससे बड़ा सम्मान कोई हो ही नहीं सकता.

सोशल मीडिया पर कुछ लोग मुहिम चला रहे हैं कि आने वाले रविवार यानी कि 12 अप्रैल को 5 मिनट के लिए खड़ा होकर पीएम मोदी को सम्मानित किया जाए. इस बाबत लोग ट्विटर-फेसबुक पर मैसेज शेयर कर रहे हैं. हालांकि पीएम की अपील के बाद ऐसे कई मैसेज को डिलीट कर दिया गया है. हो सकता है कि यह किसी की सदिच्छा हो, तो भी मेरा आग्रह है कि यदि सचमुच में आपके मन में इतना प्यार है और मोदी को सम्मानित ही करना है तो एक गरीब परिवार की जिम्मेदारी कम से कम तब तक उठाइए, जब तक कोरोना वायरस का संकट है। मेरे लिए इससे बड़ा सम्मान कोई हो ही नहीं सकता।

नोएडा सेक्टर-8 की झुग्गी में मिले 200 कोरोना संदिग्ध, सभी को किया क्वारंटाइन

प्रधानमंत्री नरेंद्र की अपील पर देशवासियों ने 22 मार्च को जनता कर्फ्यू का पालन किया था. इसके बाद पीएम मोदी ने 25 मार्च से 14 अप्रैल तक लॉकडाउन की घोषणा की है. 5 अप्रैल को रात 9 बजे पीएम मोदी ने 9 मिनट के लिए लोगों से दीया जलाने की अपील की थी. लोगों ने बड़े उत्साह के साथ इसका पालन किया था.

इसके पहले सिंदूर लगाने की फैली थी अफवाह
नवरात्र के शुरू होने के समय देश के कई हिस्सों में सिंदूर लगाने की अफवाह फैल गई थी. इसकी कई सूचनाएं बिहार, झारखंड और बंगाल से मिली थीं. वहां महिलाएं एक-दूसरे को सिंदूर लगाने लॉकडाउन तोड़कर निकल पड़ी थीं. जिसे बाद में पुलिस ने समझाकर बंद कराया था. पश्चिमी यूपी के कई जिलों में भी रात भर जागते रहने की अफवाह फैल गई थी, जिससे लोग रात भर जागते रहे थे. इन सभी तरीकों से लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग पर असर पड़ता है. 

पहले भी समझा चुके हैं पीएम मोदी, कर चुके हैं अपील
इसके पहले भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोगों से अफवाहों से दूर रहने को कहा था. उन्होंने सामाजिक कार्यकर्ताओं से कोरोना पर गलत सूचनाएं और अंधविश्वास दूर करने की अपील की थी. पीएम ने कहा, 'आस्था के नाम पर लोगों के इकट्ठा होने की खबरें हैं. लोगों को समझाया जाए कि इस महामारी को रोकने के लिए सामाजिक दूरी बेहद जरूरी है. 

वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के जरिए पीएम ने कहा, गरीबों को जरूरी वस्तुएं पहुंचाने के लिए आपकी भूमिका अहम है. साथ ही भ्रांतियों को दूर करने में भी मदद करें. उन्होंने कहा, बड़े संकट के दौर में आप लोगों की मदद की जरूरत है. 

 

कोरोना संक्रमितों की जान बचाने में अमेरिका से भी आगे है हिंदुस्तान