close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भारत की पहली और एकमात्र महिला प्रधानमंत्री की है आज पुण्यतिथि

नेहरू परिवार में जन्मी इंदिरा गांधी का पॉलिटिकल जीवन काफी दिलचस्प रहा है और भारत की राजनीति में उनका नाम स्वर्णिम अक्षरों में लिखा हुआ है.

भारत की पहली और एकमात्र महिला प्रधानमंत्री की है आज पुण्यतिथि

नई दिल्ली: इंदिरा गांधी का जन्म  19 नवम्बर 1917 को एक प्रतिष्ठित और संपन्न नेहरू परिवार में हुआ. देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू की इंदिरा गांधी एकलौती संतान थी. इंदिरा काफी लाड प्यार से पली-बढ़ी थी. इंदिरा ने अपनी स्कूलिंग भारत के साथ विदेशों से भी पूरी की. इंदिरा को उनकी शैक्षणिक योग्यता के लिए सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालयों द्वारा डॉक्टरेट की उपाधि से सम्मानित किया गया.

राजनीतिक जीवन
बचपन से ही इंदिरा गांधी स्वतंत्रता संग्राम से जुड़ चुकी थी. उन्होंने 'बाल चरखा संघ' की स्थापना की थी और  1930 में असहयोग आंदोलन के समय बच्चों की मदद से 'वानर सेना' बनाया. स्वतंत्रता संग्राम के दौरान इंदिरा जेल भी गई.

सन् 1955 में इंदिरा कांग्रेस कार्य समिति और केंद्रीय चुनाव समिति की सदस्य बनीं.  1956 में अखिल भारतीय युवा कांग्रेस और AICC महिला विभाग की अध्यक्ष बनीं और 1959-1960 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की अध्यक्ष रहीं. इसके बाद इंदिरा गांधी 1966 से 1977 तक लगातार तीन बार भारत की प्रधानमंत्री बनी रहीं. 

तीन अहम फैसले
अपने जीवन में इन तीन अहम फैसले किए जाने की वजह से इंदिरा गांधी को आयरन लेडी कहा जाने लगा. 


1. बैंको का राष्ट्रीयकरण 
1969 में प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने देश के 14 निजी बैंकों का राष्ट्रीयकरण किया. बैंकों के राष्ट्रीयकरण की बदौलत ही देश भर में बैंक क्रेडिट दी जा सकी.  उस दौरान मोरारजी देसाई वित्त मंत्री थे. 1969 में एक अध्यादेश लाया गया जिसमें 14 बैंकों का स्वामित्व राज्य को सौंपा गया. जिस समय बैंकों का राष्ट्रीयकरण किया गया उस समय बैंको के पास देश का 70 प्रतिशत निवेश था.  राष्ट्रीयकरण के बाद बैंकों की 40 प्रतिशत पूंजी को प्राइमरी सेक्टर में निवेश के लिए लगाया गया.

2. राजा-रजवाड़ों के प्रिवीपर्स की समाप्ति
1967 के आम चुनावों में कई पूर्व राजे-रजवाड़ों ने सी.राजगोपालाचारी के नेतृत्व में स्वतंत्र पार्टी का गठन कर लिया था. इसकी  वजह से इंदिरा गांधी ने प्रिवीपर्स खत्म करने का निर्णय किया. 1967 को ऑल इंडिया कांग्रेस ने प्रिवीपर्स की समाप्ति को लेकर प्रस्ताव पारित किया. 1970 में संविधान में 24वां संशोधन किया गया. इसके बाद लोकसभा और राज्यसभा में इस प्रस्ताव को पारित कर दिया गया और  प्रिवीपर्स को खत्म किये जाने पर मुहर लगी.

3. पाकिस्तान को युद्ध में पराजित करके बांग्लादेश बनाया
1971 में  भारत- पाकिस्तान के बीच युद्ध हुआ.  इसकी वजह थी पूर्वी पाकिस्तान के लोग पाकिस्तान की सेना के शासन में खुद को असहाय महसूस कर रही थी, वहां के लोगों के पास उनके पास नागरिक अधिकार नहीं थे. इससे बचने के लिए पूर्वी पाकिस्तान के लोग असम में शरण लेने लगें जिससे भारत में आर्थिक और आंतरिक संकट पैदा होने लग गए जिसे देखते हुए इंदिरा गांधी ने पूर्वी पाकिस्तान में बसे लोगों की मदद करने के लिए पाकिस्तान से युद्ध का एलान कर दिया. और इस जब भारतीय सैनिक ढाका पहुंच गई तो पाकिस्तानी सैनिकों को आत्मसंर्पण करना पड़ा.  1971 में भारत की पाकिस्तान पर जीत का श्रेय इंदिरा गांधी की राजनीतिक और भारतीय सैनिकों के पर्याप्त योगदान को जाता है. 1972 में पूर्वी  पाकिस्तान, पाकिस्तान से अलग होकर बांग्लादेश नाम का नया देश बना.

वाजपेयी जी ने बताया दुर्गा
वर्ष 1971 में अटल बिहारी वाजपेयी कांग्रेस के विपक्ष के नेता थे . लेकिन सांसद में इंदिरा गांधी के जरिए पूर्वी पाकिस्तान के समर्थन में पाकिस्तान से किए जाने वाले युद्ध पर बहस चल रही थी.

इसी बीच अटल बिहारी वाजपेयी ने विपक्ष के नेता के तौर पर एक कदम आगे बढ़ाते हुए  इंदिरा को 'दुर्गा' नाम से संबोधित किया. वाजपेयी जी ने यह उपाधि भारत को पाकिस्‍तान पर 1971 की लड़ाई में एक बड़ी कामयाबी हासिल किए जाने पर दी थी.  साथ ही यह भी कहा कि जिस तरह से इंदिरा ने इस लड़ाई में अपनी भूमिका अदा की है वह वाकई काबिल-ए-तारीफ है.

मन की बात में प्रधानमंत्री ने किया था ज्रिक
पीएम नरेंद्र मोदी ने मन की बात में सरदार पटेल और पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को भी याद करते हुए उनका संबोधन किया. 

मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को संबोधित  करते हुए कहा कि 31 अक्टूबर को श्रीमती इंदिरा गांधी की हत्या हुई थी. देश को उस वक्त बड़ा सदमा लगा था और आज मैं उनको श्रद्धांजलि देता हूं.

इंदिरा की अनगिनत उपलब्धियां
इंदिरा गांधी ने 1969 में इसरो की स्थापना की.
1975 में इसरो द्वारा निर्मित प्रथम उपग्रह ‘आर्यभट्ट’ का लॉन्च किया गया.
इंदिरा गांधी को 1983 में लेनिन शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया.


1972 में भारत रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया गया.
1972 में बांग्लादेश की स्वतंत्रता में भूमिका अदा किए जाने पर  मैक्सिकन अकादमी पुरस्कार.
1976 में नागरी प्रचारिणी सभा द्वारा साहित्य वाचस्पति हिन्दी के लिए सम्मानित किया गया इत्यादि.

 31 अक्टूबर, 1984 में अमृतसर में हुई ‘ऑपरेशन ब्लू स्टार’ की घटना में सिख समुदाय ने इंदिरा गांधी की हत्या कर दी और भारतीय राजनीति का अभिन्न अंग हमेशा के लिए अमर हो गईं.