आज होगी वित्त मंत्री की बैंक-प्रमुखों के साथ बैठक

वित्त मंत्री अर्थव्यवस्था के सुधार की दिशा में लगातार प्रयासरत हैं और इसी सिलसिले में वे आज सार्वजनिक बैंक के निदेशकों के साथ बातचीत करेंगी  

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Dec 28, 2019, 03:59 AM IST
    • सार्वजनिक बैंक प्रमुखों के साथ वित्तमंत्री की बैठक आज
    • अर्थव्यवस्था के सुधार की दिशा में अहम है बैठक
    • सम्पत्ति नीलामी के ऑनलाइन मंच पर भी चर्चा सम्भव
    • बजट की घोषणाओं को केंद्र में रख कर होगी चर्चा
आज होगी वित्त मंत्री की बैंक-प्रमुखों के साथ बैठक

नई दिल्ली. निर्मला सीतारमण एक ऐसी मंत्री हैं जो कभी आराम नहीं करतीं और जो भी जिम्मेदारी उनको दी जाती है उसे पूरे समर्पण के साथ अंजाम तक पहुंचाती हैं. प्र्धानमंरी मोदी रक्षा सीतारमण को मंत्रालय से वित्त मंत्रालय में उनके इस कार्य-कौशल को दृष्टि में रख कर लाये हैं. और वे अपनी सन्नद्धता से उनके विश्वास पर खरा भी उतर रही हैं.


आज मिलेंगी सार्वजनिक बैंक प्रमुखों से

केन्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण आज अर्थव्यवस्था के सुधार की दिशा में एक और पहल करने जा रही हैं. आज वित्तमंत्री की बैठक सार्वजनिक बैंकों के प्रमुखों के साथ होनी है. इस बैठक में वे इन बैंकों के प्रबंध निदेशकों और सीईओ के साथ अर्थव्यवस्था पर बातचीत करेंगी

अर्थव्यवस्था के सुधार की दिशा में अहम है बैठक

सरकारी बैंक-प्रमुखों के साथ आज होने वाली वित्तमन्त्री की यह बैठक बजट के पूर्व मांग व उपभोग को तेज करने में बैंकों की भूमिका को देखते हुए विशेष महत्व रखती है. इस बैठक में निर्मला सीतारमण सरकारी बैंकों के वित्तीय प्रदर्शन और उनके कारोबार की वृद्धि की समीक्षा करेंगी. वे अपना दूसरा बजट फरवरी माह की पहली तारीख को पेश करने वाली हैं.

सम्पत्ति नीलामी के ऑनलाइन मंच पर भी चर्चा सम्भव

मंत्रालय के अधिकारियों के मुताबिक़, वित्तमंत्री अपनी समीक्षा में बैंकों द्वारा लिए जाने वाले मर्चेंट डिस्काउंट रेट शुल्क तथा रुपे कार्ड  माध्यम से प्रधामंत्री जनधन योजना के खाताधारकों को खाते में मौजूदा राशि से अधिक की निकासी करने की सुविधा देने से जुड़ी बजट की घोषणाओं को केंद्र में रख कर चर्चा करेंगी. इस मीटिंग में सरफेसी अधिनियम में आने वाले संपत्तियों की नीलामी के ऑनलाइन मंच के बारे में भी बातचीत हो सकती है.

ये भी पढ़ें. टिड्डियों का हमला कहीं प्रायोजित जैविक युद्ध का संकेत तो नहीं?

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़