गढ़चिरौली के जंगल में नक्सलियों से मुठभेड़, पुलिस के दो जवान शहीद

मुठभेड़ पोयारकोटी-कोपरशी के जंगलों में हुई. गढ़चिरौली पुलिस ने मोर्चा संभाल लिया है. इसी महीने की शुरुआत में गढ़चिरौली में नक्सलियों से मुठभेड़ की घटना सामने आई थी. इस मुठभेड़ में पुलिस ने एक इनामी नक्सली को मार गिराया था. 

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : May 17, 2020, 05:44 PM IST
    • 48 साल की जैनी को महाराष्ट्र के साथ ही छत्तीसगढ़ और तेलंगाना की पुलिस ने भी वांछित घोषित किया हुआ था
    • मुठभेड़ में QRT के पुलिस उपनिरीक्षक धनाजी होमणे और जवान किशोर आत्राम हुए शहीद हुए
गढ़चिरौली के जंगल में नक्सलियों से मुठभेड़, पुलिस के दो जवान शहीद

गढ़चिरौलीः कोरोना संकट के बीच जहां कश्मीर घाटी आतंकियों से मुठभेड़ में सुलग रही है तो वहीं नक्सल इलाकों में नक्सली पुलिस  व प्रशासन के लिए चुनौती बने हुए हैं. पिछले दिनों छत्तीसगढ़-झारखंड से नक्सलियों के आंतक की खबर आई थी. रविवार को गढ़चिरौली के जंगल में बंदुकों की तड़तड़ाहट गूंज उठी. महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में सुरक्षाबलों और नक्सलियों में मुठभेड़ हुई है. इसमें एक सब-इंस्पेक्टर और कॉन्स्टेबल शहीद हो गए. इसके अलावा तीन अन्य घायल बताए जा रहे हैं. 

मई की शुरुआत में भी हुई थी मुठभेड़
मुठभेड़ पोयारकोटी-कोपरशी के जंगलों में हुई. गढ़चिरौली पुलिस ने मोर्चा संभाल लिया है. इसी महीने की शुरुआत में गढ़चिरौली में नक्सलियों से मुठभेड़ की घटना सामने आई थी. इस मुठभेड़ में पुलिस ने एक इनामी नक्सली को मार गिराया था. मुठभेड़ की यह घटना प्रदेश के गढ़चिरौली जिले के पेंड्री के सिभट्टी के जंगलों में हुई थी.

महिला नक्सली का शव किया था बरामद
इस मुठभेड़ में पुलिस की सी60 कमांडो टीम पर नक्सलियों ने हमला कर दिया था. सी 60 कमांडो टीम ने भी नक्सलियों पर फायरिंग शुरू कर दी. लगभग एक घंटे तक मुठभेड़ के बाद नक्सली वहां से भाग निकले. नक्सलियों के जाने के बाद कमांडो टीम ने मौके से एक महिला नक्सली का शव बरामद किया. मृतका की पहचान नक्सल कमांडर सुजानका उर्फ चिनक्का उर्फ जैनी के रूप में हुई. 

16 लाख रुपये का था इनाम
48 साल की जैनी को महाराष्ट्र के साथ ही छत्तीसगढ़ और तेलंगाना की पुलिस ने भी वांछित घोषित किया हुआ था. महाराष्ट्र में उसके खिलाफ लगभग 144 गंभीर आपराधिक मामले दर्ज थे. महाराष्ट्र सरकार ने जैनी पर 16 लाख रुपये का इनाम घोषित कर रखा था.

घेराबंदी देख भाग रहे थे नक्सली 
पुलिस सूत्रों के अनुसार, पुलिस की क्विक रेस्पॉन्स टीम (क्यूआरटी) ने रविवार सुबह भामरागढ़ तहसील के पोरयकोटी-कोरपर्शी जंगल में मौजूदगी की सूचना मिलने पर सर्च ऑपरेशन शुरू किया था. इस दौरान पुलिस की घेराबंदी को देखकर नक्सलियों ने फायरिंग कर भागने की कोशिश की थी. 

हिमाचल सीमा से 12 किलोमीटर अंदर घुस आया था चीनी हेलीकॉप्टर

दो जवान  हुए शहीद, तीन अन्य घायल
इसके बाद जवानों ने भी जवाबी कार्रवाई करते हुए नक्सलियों का पीछा किया. दूसरी ओर से हो रही जवाबी कार्रवाई के बीच पुलिस बल के दो जवान गंभीर रूप से घायल होने के बाद शहीद हो गए. अधिकारिक सूचना के अनुसार, मुठभेड़ में QRT के पुलिस उपनिरीक्षक धनाजी होमणे और जवान किशोर आत्राम हुए शहीद हुए. इसके अलावा तीन अन्य जवानों को घायल होने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया.

आतंकिस्तान की नई साजिश, जम्मू कश्मीर में एक पुलिसकर्मी शहीद

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़