उन्नाव मामलाः सेंगर पहुंचे हाई कोर्ट, तीस हजारी कोर्ट के फैसले को दी चुनौती

उन्नाव के चर्चित इस मामले की जांच कर रही सीबीआई ने बहस के दौरान कोर्ट से अधिकतम सजा की मांग की थी. 16 दिसंबर को दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट ने सेंगर को धारा 376 और पॉक्सो के सेक्शन 6 के तहत दोषी ठहराया था. जबकि, 17 दिसंबर को सजा पर बहस की गई थी. 

उन्नाव मामलाः सेंगर पहुंचे हाई कोर्ट, तीस हजारी कोर्ट के फैसले को दी चुनौती

नई दिल्लीः विधायक कुलदीप सिंह सेंगर ने उन्नाव गैंगरेप मामले में दोषी ठहराए जाने के बाद दिल्ली हाईकोर्ट में इस फैसले को चुनौती दी है. तीस हजारी कोर्ट के फैसले के खिलाफ उन्होंने हाई कोर्ट में याचिका दी है. तीस हजारी कोर्ट ने विधायक को उन्नाव दुष्कर्म मामले में उम्रकैद की सजा सुनाई है, साथ ही कोर्ट ने सेंगर को पीड़िकत परिवार को 25 लाख रुपये मुआवजा देने का भी आदेश दिया था. कोर्ट ने वि विधायक कुलदीप सेंगर को अपहरण और रेप का दोषी पाया.

सीबीआई ने की थी अधिकतम सजा की मांग
उन्नाव के चर्चित इस मामले की जांच कर रही सीबीआई ने बहस के दौरान कोर्ट से अधिकतम सजा की मांग की थी. 16 दिसंबर को दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट ने सेंगर को धारा 376 और पॉक्सो के सेक्शन 6 के तहत दोषी ठहराया था. जबकि, 17 दिसंबर को सजा पर बहस की गई थी. इससे पहले कोर्ट ने कहा था कि वह इस मामले में जल्दबाजी में कोई फैसला नहीं देना चाहता, क्योंकि उन्नाव रेप कांड जघन्य साजिश, हत्या और दुर्घटनाओं से भरा हुआ है.

डॉक्टर की हो गई है मौत
हाल ही में उन्नाव रेप केस की पीड़िता के पिता का इलाज करने वाले डॉक्टर प्रशांत उपाध्याय की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी. डॉक्टर प्रशांत उपाध्याय ही वह डॉक्टर हैं जिन्होंने उन्नाव रेप केस की पीड़िता के पिता का इलाज किया था. जब पीड़िता के पिता को मारपीट के बाद जिला अस्पताल लाया गया था तब डॉक्टर प्रशांत ही इमरजेंसी में थे. इसके बाद जब मामले की सीबीआई जांच शुरू हुई तो डाक्टर को सस्पेंड कर दिया गया था और काफी समय बाद इनकी बहाली हुई थी. डॉक्टर प्रशांत फतेहपुर में तैनात थे. 

अभिनेत्री से छेड़छाड़ के आरोप में विकास सचदेव को तीन साल की सजा

पीड़िता के परिवार के साथ हुआ था हादसा
भाजपा से निष्काषित विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर वर्ष 2017 में कथित रूप से नाबालिग के साथ बलात्कार का आरोप है. इस मुकदमे के सिलसिले में बीती 28 जुलाई को पीड़िता, उसके वकील व परिवार के अन्य सदस्य रायबरेली जा रहे थे. तभी उनकी कार को एक ट्रक ने टक्कर मार दी थी. इसमें पीड़िता की चाची व मौसी की मृत्यु हो गई थी. पीड़िता व उसका वकील गंभीर रुप से जख्मी हुए थे. पीड़िता व उसके वकील को एम्स लाया गया था. पीड़िता ने सीबीआई के सामने हादसे के पीछे सेंगर का हाथ बताया था. 

आखिर कैसे देवेन्द्र सिंह जैसा देशद्रोही हमेशा से बचता रहा? जानिए यहां